29 अप्रैल से गायब तीन बच्चों को ढूंढ पाने में पुलिस विफल, ग्रामीणों ने दिया दो दिनों का अल्टीमेटम

राजधानी रांची के जगन्नाथपुर मौसीबाड़ी निवासी मनोज उरांव एवं उनकी पत्नी सुमति उरांव की नींद उड़ी हुई हैं। उनके तीन बच्चे पिछले 29 अप्रैल से गायब है, ये बच्चे कहां गये? किस स्थिति में हैं? इसकी चिंता मनोज और उनकी पत्नी सुमति को सताये जा रही है, पर स्थानीय प्रशासन उसकी सुध नहीं ले रहा, क्योंकि पूरे राज्य की सच्चाई यहीं है कि इस राज्य में प्रशासन नाम की कोई चीज ही नहीं, अगर आप गरीब है, ईमानदार हैं तो कोई नहीं सुनेगा

राजधानी रांची के जगन्नाथपुर मौसीबाड़ी निवासी मनोज उरांव एवं उनकी पत्नी सुमति उरांव की नींद उड़ी हुई हैं। उनके तीन बच्चे पिछले 29 अप्रैल से गायब है, ये बच्चे कहां गये? किस स्थिति में हैं? इसकी चिंता मनोज और उनकी पत्नी सुमति को सताये जा रही है, पर स्थानीय प्रशासन उसकी सुध नहीं ले रहा, क्योंकि पूरे राज्य की सच्चाई यहीं है कि इस राज्य में प्रशासन नाम की कोई चीज ही नहीं, अगर आप गरीब है, ईमानदार हैं तो कोई नहीं सुनेगा और अगर आप पैसेवाले है, आलादर्जे के बेईमान हैं तो पूछिये मत, स्थानीय प्रशासन आपके आगे नाक रगड़ेगा।

मनोज उरांव और सुमति उरांव के तीन बच्चे, जिनमें महिमा कुमारी की उम्र दस वर्ष, अंजली कुमारी की उम्र 7 वर्ष और बेटा कृष जिसकी उम्र पांच वर्ष है, लापता है। स्थानीय प्रशासन बच्चों को खोजने में लापरवाही बरतते हुए, टालमटोल किये जा रहा है। कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता आलोक दूबे कल पीड़ित परिवार से मिले और उन्हें हरसंभव सहायता उपलब्ध कराने का वायदा किया। उन्होंने कहा कि वे इस संबंध में 17 मई को मुख्यमंत्री रघुवर दास से भी मिलेंगे। इस मुद्दे पर किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। बच्चों को खोज निकालने के लिए जो भी कुछ होगा, किया जायेगा, इसमें सभी के सहयोग की आवश्यकता है।

आश्चर्य की बात है कि लापता बच्चों के माता-पिता बेहद गरीब और लाचार है, वे दिहाड़ी मजदूरी का काम करते हैं, उन्होंने इस संबंध में नगड़ी थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी, लेकिन बच्चों का सुराग आज तक नहीं मिला। इधर स्थानीय लोगों ने प्रशासन को 48 घंटे का अल्टीमेटम दिया है कि वे बच्चों को खोज निकाले, स्थानीय ग्रामीणों ने कहा है कि अगर प्रशासन ने बच्चों को खोज नहीं निकाला तो वे प्रोजेक्ट बिल्डिंग का घेराव करेंगे।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

अगर सभी इच्छाओं का दमन करना हैं तो भागवत कथा में लीन हो जाइये - मणीषभाई

Wed May 16 , 2018
रांची के चुटिया स्थित कतारीबगान में नवनिर्मित वृंदावनधाम में श्रीमद्भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के प्रथम दिन कथाश्रवण करने आये श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए महाराष्ट्र से आये भागवताचार्य संतश्री मणीष भाई जी महाराज ने कहा कि इच्छाएं अनन्त है, ये कभी समाप्त नहीं हो सकती, इच्छाओं पर काबू पाने का एक ही मार्ग हैं भगवद्प्राप्ति, अगर आप ईश्वर को प्राप्त कर लेते हैं तो आपकी सारी इच्छाएं समाप्त हो जाती है, आप परमआनन्द को प्राप्त कर लेते हैं।

You May Like

Breaking News