ये भारत नहीं, न्यू इंडिया है जनाब, क्योंकि अब देश को “कबीर” नहीं “कबीर सिंह” की जरुरत हैं। सचमुच आजकल कबीर सिंह की धूम है, ये कबीर सिंह कोई व्यक्ति विशेष नहीं, बल्कि एक फिल्म के किरदार है, जो आजकल पूरे देश में धूम मचाये हुए हैं, जिसे देखों इनकी चर्चा कर रहा है, कह रहा है वाह क्या फिल्म है और क्या कबीर सिंह है, गजब ढा दिया है इन्होंने, लोग खूब फिल्म देख रहे हैं, फिल्म बिजनेस भी अच्छा कर रही है,

झारखण्ड में चल रही विभिन्न योजनाओं की तरह रांची में आयोजित तीन दिवसीय दूसरा झारखण्ड इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल (जीफा) भी भारी हंगामें, भारी विरोध, भारी विवाद एवं एक व्यक्ति-विशेष के अहं, बिना दर्शकों एवं भारी अव्यवस्था की भेंट चढ़ गया, हम आपको बता दें कि पहला झारखण्ड इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल भी इसी तरह की घटनाओं के साथ संपन्न हुआ था,

आम तौर पर बिहार में भोजपुरी फिल्में तो खुब बनती हैं, और खूब चलती भी हैं, लोगों को पसन्द भी बहुत आती हैं, पर मैथिली फिल्मों का निर्माण कभी-कभार ही देखने को मिलता है, बहुत दिनों के बाद मिथिलांचल के लोगों को उनके ही भाषा में ‘लव यू दूल्हिन’ फिल्म लेकर आये हैं – निर्माता विष्णु पाठक और रजनीकांत पाठक। फिल्म के निर्देशक है – मनोज श्रीपति।

झारखण्ड समेत पूरे देश के कई सिनेमाघरों-मल्टीप्लेक्सों में आज एक नई फिल्म ‘बत्ती गुल मीटर चालू’ आज रिलीज हुई। हमें डर है कि कहीं ये फिल्म आनेवाले लोकसभा चुनाव या कुछ ही महीनों के अंदर होनेवाले राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव में भाजपा की बत्ती न गुल कर दें, क्योंकि ये फिल्म शुरु से लेकर आखिरी तक कहीं न कहीं भाजपा के विकास के नारों और अच्छे दिनों पर ही सर्वाधिक कटाक्ष करते हुए, भाजपा को कुछ ज्यादा ही लपेट लिया है।

राज्य के नगर विकास मंत्री सी पी सिंह और सुप्रसिद्ध अभिनेत्री कटरीना कैफ की यह दिलकश अदा, पर भला फिल्म ‘मुकद्दर का सिकन्दर’ का ये गीत ‘दिल तो है दिल, दिल का ऐतबार, क्या कीजै, आ गया जो, किसी पे प्यार, क्या कीजै’ जुबां पर क्यों न आये। जरा देखिये हमारे नगर विकास मंत्री की इस मधुर मुस्कान को, उनकी मन-मोहक अदा को, जब कटरीना का हाथ, उनके हाथों में आया।

किसी के बहन या पिता पर कोई आफत आयेगी तो वह भाई या बेटा, अपने विवेक के अनुसार वह हर प्रकार का प्रयास करेगा, जिससे उसकी बहन और उसका पिता सुरक्षित रह सके, शायद सुप्रसिद्ध फिल्म अभिनेता संजय दत्त उर्फ संजू बाबा ने भी बाबरी मस्जिद गिरने के बाद जब पूरे देश में दंगे भड़के, और उनके पिता सुनील दत्त ने दंगा पीड़ितों को मदद पहुंचाने में जो उल्लेखनीय योगदान दी,

रांची समार्टियन राउंड टेबल 244 ने वर्ल्ड लाफ्टर डे के दिन बरियातू के सीनियर सिटीजन होम नंबर 23 के 23 वृद्ध लोगों को पॉप कॉर्न सिनेमा ले जाकर 102 नॉट आउट फिल्म दिखाई। फिल्म देखकर सभी वृद्ध नागरिकों की आंखे नम हो गई, चूंकि पूरी फिल्म कॉमेडी बेस्ड है, इसलिए सभी वृद्ध नागरिकों ने इस फिल्म का पूरा आनन्द लिया, तथा जीवन को और शान से जीने का संकल्प भी लिया।

आज ही हमें एक जगह पढ़ने को मिला, कि कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय ओरमांझी की 240 छात्राओं को गत सोमवार को रांची के स्प्रिंग सिटी मॉल स्थित फन सिनेमा में फिल्म पैडमैन दिखाई गई। इस फिल्म को दिखाने के बाद उनके बीच 3000 सेनेटरी नैपकिन भी बांटे गये। यह भी पता चला कि फिल्म दिखाने की व्यवस्था रांची पुलिस, राइजअप व झारखण्ड फिल्म एंड थियेटर एकेडमी की ओर से की गई थी।

इन दिनों फिल्म ‘पैडमैन’ की खूब चर्चा है, पर जिन-जिन सिनेमा हॉलों में ये फिल्म लगी हैं, वहां दर्शक नहीं दीख रहे, जबकि होना यह चाहिए कि इस फिल्म को देखने के लिए भारी भीड़ इकट्ठी होनी चाहिए,  क्योंकि इस फिल्म में स्टार्टअप हैं, क्योंकि इस फिल्म में जीवन जीने का संदेश  हैं, क्योंकि इस फिल्म में ऐसा मुद्दा है, जो हर परिवार से जुड़ा हैं, जो महिलाओं के स्वास्थ्य से जुड़ा है,

एक रांची में ही सिर्फ नाम के बागी पत्रकार हैं, अपने सोशल साइट पर उन्होंने लिखा है कि फिल्म रानी पद्मावती के विरोधियों को मुंह की खानी पड़ेंगी। पूरी फिल्म कुछ नामचीन पत्रकारों को दिखाई गई। किसी को इसमें कुछ भी आपत्ति नहीं लगा। सभी ने एक स्वर से फिल्म की सराहना की और इसे महारानी पद्मावती को एक सच्ची श्रद्धाजंलि करार दिया। फिल्म देखनेवालों में रजत शर्मा, अर्णव गोस्वामी, वेद प्रताप वैदिक शामिल है।

Breaking News