इस्लाम अपनाओ, नहीं तो हाथ-पैर कटवाओ

केरल के जाने-माने मलयाली लेखक के पी रामानुन्नी को इस्लामिक कट्टरपंथी मुस्लिम संगठन ने धमकी दी है, कि उन्हें छह माह का मौका दिया गया है, वे छह माह के अंदर इस्लाम अपना लें, नहीं तो उनके हाथ-पैर काट दिये जायेंगे। के पी रामानुन्नी ने इस संबंध में अपनी शिकायत पुलिस को दर्ज करा दी है।

केरल के जाने-माने मलयाली लेखक के पी रामानुन्नी को इस्लामिक कट्टरपंथी मुस्लिम संगठन ने धमकी दी है, कि उन्हें छह माह का मौका दिया गया है, वे छह माह के अंदर इस्लाम अपना लें, नहीं तो उनके हाथ-पैर काट दिये जायेंगे। के पी रामानुन्नी ने इस संबंध में अपनी शिकायत पुलिस को दर्ज करा दी है। के पी रामानुन्नी ने अपने शिकायत में कहा है कि उन्हें एक धमकी भरा पत्र मिला है, कि अगर उन्होने छः माह के अंदर इस्लाम नहीं अपनाया तो उनके दाहिना हाथ और बायां पैर को काट दिया जायेगा। के पी रामानुन्नी ने कोझीकोड पुलिस कमिश्नर के यहां इसकी शिकायत दर्ज करा दी है।

के पी रामानुन्नी के अनुसार, पत्र में इस बात का भी जिक्र किया गया है कि जैसे टी जे जोसफ का दाहिना हाथ काट दिया गया था, उसी तरह उनका भी दाहिना हाथ और बाया पैर काट दिया जायेगा। इसलिए छः महीने के अंदर वे इस्लाम अपना लें। ज्ञातव्य है कि टी जे जोसफ को भी इस्लामिक कट्टरपंथी मुस्लिम संगठन ने दाहिना हाथ काट दिया था। केरल कई वर्षों से इस्लामिक कट्टरपंथियों का गढ़ बनता जा रहा है और यहां से कई लोग आईएसआईएस संगठन से भी जुड़े है, जिससे केरल की स्थिति बेहद नाजुक बनती जा रही है। आये दिनों वहां इस प्रकार की घटनाएं घटती रहती है पर लोग भय से नहीं बोल पाते, राज्य सरकार भी ऐसे कट्टरपंथी संगठनों पर रोक लगाने में स्वयं को असमर्थ पाती है, जिससे इनका मनोबल बढ़ता जा रहा है।

 

Krishna Bihari Mishra

Next Post

ढाई साल बीत गये, जनाब कठिनाइयों व प्राथमिकताओं का अवलोकन ही कर रहे है, काम कब करेंगे?

Sat Jul 22 , 2017
ढाई साल बीत गये, और अभी भी मुख्यमंत्री रघुवर दास कठिनाइयों और प्राथमिकताओं का अवलोकन ही कर रहे है, तो फिर काम कब करेंगे? हर बार यहीं रोना रोते है, वह भी ढोल पीटकर कि 70 सालों में झारखण्ड का विकास अपेक्षित नहीं रहा, 14 वर्षों तक राजनीतिक अस्थिरता के कारण भी राज्य का विकास प्रभावित रहा, ये डॉयलॉगबाजी कब बंद होगी?  राज्य की जनता जानना चाहती है, अब तो आपकी सरकार है, स्थिर सरकार है, केन्द्र में भी आपकी सरकार है और फिर भी नीति आयोग को यह कहना पड़े कि झारखण्ड बिजली, सड़क, पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य और सिंचाई में राष्ट्रीय औसत से पीछे चल रहा है, तो इसके लिए जिम्मेवार कौन है?

You May Like

Breaking News