UIDAI  का बयान – मृत संतोषी के परिवार के पास था ‘आधार’

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण की अगर बात माने, तो उसका कहना है कि सिमडेगा के जिस 11 वर्षीया संतोषी की भूखमरी से मौत हुई, उस परिवार के पास आधार था।  अब बात ये आती है कि जब उक्त परिवार के पास आधार कार्ड था, फिर भी उस परिवार को अनाज क्यों नहीं मिल रहे थे?भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने कहा है कि ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी,

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण की अगर बात माने, तो उसका कहना है कि सिमडेगा के जिस 11 वर्षीया संतोषी की भूखमरी से मौत हुई, उस परिवार के पास आधार था।  अब बात ये आती है कि जब उक्त परिवार के पास आधार कार्ड था, फिर भी उस परिवार को अनाज क्यों नहीं मिल रहे थे?

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने कहा है कि ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी, जिन्होंने राशन कार्ड आधार से लिंक नहीं होने का कारण बताकर उक्त संतोषी के परिवार को सरकारी लाभ देने से इनकार कर दिया। ज्ञातव्य है कि पूर्व में यह कहा जा रहा था कि चूंकि उक्त परिवार का राशन कार्ड आधार से लिंक नहीं था, जिसके कारण उसका राशन कार्ड रद्द कर दिया गया, तथा इस कारण उसे अनाज नहीं मिल रहा था।

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण के सीईओ अजय भूषण पांडे ने कहा है कि संतोषी के परिवार के पास आधार कार्ड वर्ष 2013 से ही उसके पास है, इसलिए आधार की वजह से उसे अनाज नहीं मिला, यह कहना ठीक नहीं है। अब चूंकि भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने क्लियर कर दिया कि संतोषी के परिवार के पास आधार कार्ड मौजूद था तब राज्य सरकार बताये कि अब वह इस पर क्या कहेगी? स्वयं को बचाने के लिए उसके अधिकारी या नेता अब कौन सा बयान बदलेंगे?

भूख से बिलबिलाकर मर गई संतोषी के पाप से मुक्त होने के लिए अब कौन सा पाप अपनायेगी? हालांकि राज्य सरकार ने जिन पर आरोप है, उन्हीं से जांच कराकर का अपना रोल पूरा कर चुकी है, केन्द्र अपनी ओर से जांच करा रहा है, क्या माना जाये कि संतोषी और उसके परिवार को न्याय मिलेगा और आनेवाले समय में फिर कोई संतोषी भोजन के अभाव में नहीं दम तोड़ पायेगी, हालांकि बुद्धिजीवी आज भी इस मामले में पूरे सिस्टम का फेल होना बताते है, और इसके लिए वे राज्य सरकार और उनके क्रियाकलापों को दोषी मानते है, पर राज्य सरकार स्वयं को हर प्रकार से दोषमुक्त मानती है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास को बिना हेलमेट के दुपहियेवाहन चलाने का विशेषाधिकार है क्या?

Fri Oct 20 , 2017
ये हैं झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास, ये दूसरों को बोलते है कि बिना हेलमेट पहने दुपहिये वाहन न चलायें, क्योंकि ये कानून जूर्म है, पर ये स्वयं कानून को ठेंगा दिखाकर, दुपहियेवाहन चलाते हुए वह भी बिना हेलमेट के निकल पड़ते हैं, वे जब बिना हेलमेट के निकलते हैं, तो उनके साथ बिना हेलमेटवाला काफिला भी होता हैं, क्या ऐसा व्यक्ति राज्य को नई दिशा दे सकता हैं, जो स्वयं कानून से खेलने की कोशिश करें, जरा सोचिये...

You May Like

Breaking News