अमृतसर में रेलवे ट्रैक पर रावण दहन देख रहे लोगों पर चढ़ गई ट्रेन, 50 की मौत, पूरा देश सदमें में

आज विजयादशमी है, पूरा देश विजयादशमी मना रहा था। विजयादशमी अमृतसर के धोबीघाट के जोड़ा फाटक के पास भी मनाया जा रहा था, जहां पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धु की पत्नी नवजोत कौर सिद्धु मुख्य अतिथि के रुप में मौजूद थी। बताया जाता है कि रावण दहन देखने के लिए बड़ी संख्या में आस-पास के लोग रेलवे ट्रैक पर मौजूद थे, जैसे ही रावण दहन प्रारंभ हुआ, रेलवे ट्रेक पर खड़े लोगों पर से ट्रेन गुजर गई, जिसमें 50 लोगो की मौत हो गई। मरनेवालों में बिहार और यूपी के लोगों की संख्या अधिक है।

आज विजयादशमी है, पूरा देश विजयादशमी मना रहा था। विजयादशमी अमृतसर के धोबीघाट के जोड़ा फाटक के पास भी मनाया जा रहा था, जहां पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धु की पत्नी नवजोत कौर सिद्धु मुख्य अतिथि के रुप में मौजूद थी। बताया जाता है कि रावण दहन देखने के लिए बड़ी संख्या में आस-पास के लोग रेलवे ट्रैक पर मौजूद थे, जैसे ही रावण दहन प्रारंभ हुआ, रेलवे ट्रेक पर खड़े लोगों पर से ट्रेन गुजर गई, जिसमें 50 लोगो की मौत हो गई। मरनेवालों में बिहार और यूपी के लोगों की संख्या अधिक है।

लोग बताते है कि जैसे ही यह हादसा हुआ, नवजोत सिंह सिद्धु की पत्नी नवजोत कौर सिद्धु मामले की नजाकत को देखते हुए वहां से निकल पड़ी, वहां लोगों की मदद करने के लिए नहीं रुकी और न ही मदद देने में दिलचस्पी दिखाई। इधर लोगों का यह भी कहना है कि इस दर्दनाक हादसे को रोका जा सकता था, ट्रेनों को कुछ पल के लिए रोका जा सकता था। कुछ लोगों का कहना है कि रावण दहन की इजाजत रेलवे ट्रेक के पास करने की इजाजत स्थानीय प्रशासन ने कैसे दे दी?

इधर इस हादसे कि खबर को देख पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह ने प्रत्येक मृतकों के परिवारों को पांच-पांच लाख रुपये देने की घोषणा की है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस घटना को बहुत ही दर्दनाक बताते हुए, सभी से हादसे में प्रभावित लोगों को सहयोग करने को कहा है। इस घटना पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी गहरा दुख प्रकट किया है। कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी गहरी संवेदना प्रकट की है।

जैसे ही यह समाचार मिला, इस घटना के बाद पूरा देश मर्माहत है, सभी लोग टीवी से चिपक गये, तथा इस घटना से दुखी हो गये। अमृतसर के घटनास्थल पर प्रभावित परिवारों के लोगों का बुरा हाल है, स्थानीय प्रशासन घटनास्थल पर पहुंचकर घायलों के बेहतर इलाज के लिए प्रबंध करने में जुट गया है। बताया जाता है कि  घटनास्थल पर केन्द्रीय मंत्रियों व पंजाब के मंत्रियों का एक दल शीघ्र पहुंच रहा है, तथा घटना की उच्चस्तरीय जांच कराने तथा प्रभावित परिवारों को हर संभव मदद मिले, इस पर विशेष ध्यान देने की उसकी प्राथमिकता बताई जा रही है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

शर्मनाक, असरीता के मांदर की थाप पर झूमनेवाले CM एवं राज्यपाल ने अंतिम समय में उसे याद करना भी जरुरी नहीं समझा

Sat Oct 20 , 2018
भगवान बिरसा मुंडा की परपोती असरीता टूटी को झारखण्डी परम्परा एवं झारखण्डी जोहार के साथ लोगों ने शुक्रवार को अंतिम अश्रुपूर्ण विदाई दी। बड़ी संख्या में उनको दिल से चाहनेवाले मित्र, कुटुम्ब, परिवार और उनके समुदाय के लोग इस अवसर पर मौजूद थे, पर अगर कोई नहीं था, तो वह सरकार थी और सरकार के लोग, शायद उन्हें नहीं पता कि जो दिवंगत हुई है, वह कोई साधारण घर की बेटी नहीं,

You May Like

Breaking News