लक्षण ठीक नहीं दीख रहे खूंटी के, सांसद के गार्डों को किया अगवा, हथियार भी लूटे

खूंटी का मसला हल नहीं हो रहा। जिस इलाके में कुछ दिन पहले पांच महिलाओं के साथ दुष्कर्म हुआ था, वहां एक बार फिर आज तनाव दिखा। बताया जाता है कि आज घाघरा, मंदरुडीह, हुदाडीह और मतगड़ा के इलाकों में पत्थलगड़ी का कार्यक्रम था, जिसे पुलिसकर्मियों ने रोकने की कोशिश की, जिसका पत्थलगड़ी समर्थकों ने विरोध भी किया तथा वहां से पुलिसकर्मियों को खदेड़ दिया,

खूंटी का मसला हल नहीं हो रहा। जिस इलाके में कुछ दिन पहले पांच महिलाओं के साथ दुष्कर्म हुआ था, वहां एक बार फिर आज तनाव दिखा। बताया जाता है कि आज घाघरा, मंदरुडीह, हुदाडीह और मतगड़ा के इलाकों में पत्थलगड़ी का कार्यक्रम था, जिसे पुलिसकर्मियों ने रोकने की कोशिश की, जिसका पत्थलगड़ी समर्थकों ने विरोध भी किया तथा वहां से पुलिसकर्मियों को खदेड़ दिया, बताया जाता है कि इस पत्थलगड़ी कार्यक्रम में उस वक्त युसूफ पूर्ति भी मौजूद था।

इसी दौरान पुलिसकर्मियों और पत्थलगड़ी में लगे लोगों के बीच हिंसक झड़प भी हुई। लोगों को वहां से नहीं हटता देख, इसी बीच पुलिस ने लाठी चार्ज किया, जिसमें पुलिसवाले और पत्थलगड़ी में लगे लोग भी घायल हुए। पुलिसकर्मियों द्वारा किये गये लाठी चार्ज के विरोध में पत्थलगड़ी समर्थक करिया मुंडा के आवास पर चले गये और वहां तैनात तीन जवानों को बंधक बनाते हुए, उन्हें अगवा कर लिया तथा उनके हथियार भी छीन लिये।

बताया जा रहा है कि पत्थलगड़ी समर्थकों द्वारा जवानों को बंधक बना लिये जाने के बाद, उन्हें सुरक्षित वापस लाने के लिए वरीय पुलिस पदाधिकारियों और पत्थलगड़ी समर्थकों के बीच वार्ता चल रही हैं, इधर खूंटी में हुए दुष्कर्म को लेकर ग्रामीणों में भी आक्रोश देखा जा रहा है, जबकि पुलिस पर दबाव है कि जिन पर दुष्कर्म के आरोप हैं, उन्हें जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाये, पर पुलिस को सफलता नहीं मिल रही, क्योंकि पत्थलगड़ी समर्थकों ने ऐसी घेराबंदी कर दी है कि इन्हें गांव में प्रवेश करने में ही भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा हैं।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

रांची को लहकने से बचाने के लिए सीसीटीवी खंगालिये, कानून का राज स्थापित करिये

Wed Jun 27 , 2018
आप माने या न मानें, झारखण्ड में शासन नाम की कोई चीज ही नहीं, क्योंकि कहीं नक्सलियों ने, तो कही पत्थलगड़ी समर्थकों ने, तो कही असामाजिक तत्वों ने राज्य के विभिन्न शहरों व गांवों को अपने गिरफ्त में ले लिया हैं और ये जो चाहे वो कर रहे हैं और जनाब सीएम रघुवर दास को विकास, भ्रष्टाचार मुक्त, पारदर्शी शासन संबंधित बयानबाजी और विपक्षी दलों को गाली देने से उन्हें फुर्सत नहीं।

Breaking News