रांची की प्रतिष्ठित पहाड़ी मंदिर को बचाने के लिए युवाओं का राजभवन मार्च

पहाड़ी मंदिर को बचाने को लेकर राष्ट्रीय युवा शक्ति के बैनर तले बड़ी संख्या में युवाओं ने पहाड़ी मंदिर से लेकर राजभवन तक आक्रोश मार्च निकाला। यह आक्रोश मार्च राष्ट्रीय युवा शक्ति के अध्यक्ष उत्तम यादव के नेतृत्व में निकाला गया, जिसमें मुख्य रुप से मिसेस जय एशिया रिंकू भगत ने भी भाग लिया। आक्रोश मार्च में शामिल बड़ी संख्या में युवा पहाड़ी मंदिर को बचाने से संबंधित तख्तियां अपने हाथों में लिये थे

पहाड़ी मंदिर को बचाने को लेकर राष्ट्रीय युवा शक्ति के बैनर तले बड़ी संख्या में युवाओं ने पहाड़ी मंदिर से लेकर राजभवन तक आक्रोश मार्च निकाला। यह आक्रोश मार्च राष्ट्रीय युवा शक्ति के अध्यक्ष उत्तम यादव के नेतृत्व में निकाला गया, जिसमें मुख्य रुप से मिसेस जय एशिया रिंकू भगत ने भी भाग लिया। आक्रोश मार्च में शामिल बड़ी संख्या में युवा पहाड़ी मंदिर को बचाने से संबंधित तख्तियां अपने हाथों में लिये थे तथा पहाड़ी मंदिर को बचाने को लेकर नारे भी लगा रहे थे।

पहाड़ी मंदिर से राजभवन तक पहुंचकर, इन युवाओं ने अपनी बातें जनता के समक्ष रखी तथा ज्ञापन के माध्यम से राज्यपाल को भी अपना मंतव्य बता दिया। युवाओं का कहना था कि रांची पहाड़ी मंदिर रांची की शान है, यह पहचान है, इसकी रक्षा करना हम सब का परम कर्तव्य बन जाता है, लेकिन जिन पर रक्षा करने का दायित्व हैं, वे ही अपने दायित्वों का निर्वहण नहीं कर रहे, जिससे जनाक्रोश बढ़ा है।

युवाओं का कहना था कि 2014 से ही अब तक पहाड़ी पर जो निर्माण कार्य चल रहा है, उनसे पहाड़ी एवं बाबा के मुख्य मंदिर को भारी क्षति पहुंची हैं। पहाड़ी मंदिर, एक ऐतिहासिक स्थल भी है, पूर्व में इसे फांसी टुंगड़ी भी कहा जाता था। सरना समाज आज भी इस मंदिर से जुड़ा है। आज भी सरना समाज के लोग इस मंदिर में पूजा अर्चना करने आते हैं, पर कुछ चंद स्वार्थी तत्वों ने इस पहाड़ी मंदिर को नव-निर्माण की आड़ में वो क्षति पहुंचाई कि अब इसके पहचान पर ही संकट उपस्थित हो गया है।

पर्यावरणविद् और भूगर्भशास्त्रियों की मानें तो पहाड़ी मंदिर अब उस स्थिति में नहीं है कि यहां कोई निर्माण कार्य किया जा सकें, फिर भी लोग मान नहीं रहे और यहां कुछ न कुछ रह-रहकर निर्माण कार्य चलाते रहे, स्वार्थपूर्ण रवैये के कारण इसे व्यापारिक स्थल बना दिया गया, जो कि अत्यंत पीड़ादायक है। राष्ट्रीय युवा शक्ति के युवाओं ने इस अवसर पर अपनी 20 सूत्री मांगे भी रखी।

आज के राजभवन मार्च में मुख्य रुप से उत्तम यादव, दिलीप गुप्ता, राकेश कर्ण, रवि कुमार, वीरेन्द्र  गोप, अभिषेक बंटी यादव, नितिन घोष, जे पी यादव, अशोक श्रीवास्तव, कृष्णा यादव, अजीत गुप्ता, संजय राय, रवि यादव, रंजीत गोप, बादल सिंह, मिसेज रिंकू भगत, अनुरागिनी कुमारी, सुधा नायक, गौरी शंकर प्रसाद, पिन्टू लाल, विजय रंजन, सूरज वर्मा, मोनू विश्वकर्मा, राजेश साहु, रंजीत विहार, गुलशन सिंह, चंदन मिश्रा, नन्द किशोर सिंह चंदेल, सावन उरांव, रिक्की यादव, गुड्डू तिर्की, कन्हैया महतो, विनय सिंह, कमल सिंह, अमित यादव, धीरज कुमार, निरंजन भगत, रंजन माथुर, रौशन कुमार, अभिषेक झा, नीतेश यादव, नीतेश वर्मा, नीरज सोनी, मुन्ना सोनी, महावीर राम, सत्येन्द्र सिंह, गुड्डू यादव, गुड्डू साहू, बबलु ठाकुर, राजू साव, मनीष गोप, गोविंदा पासवान एवं रंजीत कुमार उपस्थित थे।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

IAS आफिसर्स की पत्नियों को खुश करने के लिए, IPRD कर रहा सरकारी साइटों का दुरुपयोग

Mon Oct 29 , 2018
चूंकि वे झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के प्रधान सचिव हैं, चूंकि वे मुख्यमंत्री रघुवर दास के बेहद करीबी हैं, चूंकि वे मुख्यमंत्री रघुवर दास के दिल में बसते हैं, चूंकि वे सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के प्रधान सचिव हैं, तो ऐसे में सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के नियमों, कायदा-कानूनों से खेलने का अधिकार तो उन्हें प्राप्त हो ही जाता हैं, इसलिए रघुवर दास जब तक झारखण्ड के मुख्यमंत्री हैं,

Breaking News