सुशील ने रांची प्रेस क्लब के अधिकारियों पर लगाया गंभीर आरोप, RPC को भेजा अपना इस्तीफा

रांची प्रेस क्लब के सदस्य सुशील कुमार सिंह ने रांची प्रेस क्लब से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने अपने इस्तीफे में लिखा है कि रांची प्रेस क्लब की एजीएम मीटिंग में जो भी कुछ हुआ, वह पूर्णतः अवांछित, अप्रत्याशित तथा हताशा को प्रदर्शित करनेवाला था, यहां क्लब के निर्वाचित प्रतिनिधियों का समूह असंवैधानिक रुप से कार्य कर रहा हैं, जो क्लब के अंदर लोकतंत्र को मजाक बना दे रहा है।

रांची प्रेस क्लब के सदस्य सुशील कुमार सिंह ने रांची प्रेस क्लब से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने अपने इस्तीफे में लिखा है कि रांची प्रेस क्लब की एजीएम मीटिंग में जो भी कुछ हुआ, वह पूर्णतः अवांछित, अप्रत्याशित तथा हताशा को प्रदर्शित करनेवाला था, यहां क्लब के निर्वाचित प्रतिनिधियों का समूह असंवैधानिक रुप से कार्य कर रहा हैं, जो क्लब के अंदर लोकतंत्र को मजाक बना दे रहा है।

उन्होंने कहा कि बहुत हो चुका, ऐसे हालत में वे इस प्रकार के क्लब में स्वयं को लगातार कंन्टीन्यू करने की स्थिति में नहीं हैं, इसलिए वे रांची प्रेस क्लब के सदस्य से इस्तीफा दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि रांची प्रेस क्लब ने हमें धैर्यपूर्वक सुना, पर हम रांची प्रेस क्लब के अधिकारियों को धैर्यपूर्वक सुनने की स्थिति में नहीं हैं, क्योंकि प्रबंधन कमिटि रांची प्रेस क्लब के रुल्स एंड रेग्यूलेशन को नहीं मान रही, जो उनकी नजरों में अप्रत्याशित है।

ज्ञातव्य है कि कल रांची प्रेस क्लब की जो मीटिंग चल रही थी, वह अपने आप में अप्रत्याशित थी, तथा एकाध घटनाओं को छोड़कर, ज्यादा मामलों में रांची प्रेस क्लब के नियमों को ताक पर रख दिया गया था, जिसका करीब-करीब सारे सदस्यों ने विरोध किया था, पर रांची प्रेस क्लब के कुछ अधिकारी इस बात को स्वीकार करने को तैयार नहीं थे।

केवल एक ही मामला था, जिसमें एजीएम के सारे सदस्यों ने स्वीकारोक्ति दी थी, वह था पीटीआइ के संवाददाता इंदुकांत दीक्षित को एक साल के लिए निलंबित करने का मामला, पर बाकी मामलों में रांची प्रेस क्लब स्वयं बैकफूट पर नजर आ रही थी, जैसे रांची प्रेस क्लब के अधिकारी स्वयं रांची प्रेस क्लब अपनी कोर कमेटी की बैठक में नहीं पहुंचते और न ही कभी कोरम पुरा होता है, एजीएम में आये कई सदस्यों ने विद्रोही 24. कॉम को बताया कि इनमें तो कई सदस्य चुनाव के बाद पहली बार दिखाई पड़ रहे थे, जो शर्मनाक है।

इधर रांची प्रेस क्लब के सदस्य सुशील कुमार सिंह के इस्तीफे की चर्चा से, रांची प्रेस क्लब के अधिकारियों में भी निराशा देखी जा रही है, कुछ अधिकारी स्वीकार करते हैं कि सुशील कुमार सिंह ने जो मुद्दे उठाये, वो सही हैं, उस पर विचार होना चाहिए, तथा रांची प्रेस क्लब को बेहतर बनाने में सुशील कुमार सिंह की मदद लेनी चाहिए, पर क्या ऐसा संभव होगा, सवाल यही है?  हालांकि सूत्र बताते है कि सुशील कुमार सिंह ने रांची प्रेस क्लब की सदस्यता से इस्तीफा तो दे दिया, पर उनकी इस्तीफा स्वीकृत होगी, इसकी संभावना कहीं से भी नहीं दिखती।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

वाह री सरकार, 210 डिग्री पर ट्रेन चला दी और जब तापमान 50-60 डिग्री हुआ, तो 52 ट्रेनें बंद करा दी

Sat Dec 22 , 2018
वाह रे बीसीसीएल, एक तो रियल टाइमिंग मॉनिटरिंग सिस्टम को एक साल से खुद ही ठप रखा है, न तो उसकी मरम्मति कराता है और न ही किसी के द्वारा मरम्मति होने देता है, बस रियल मॉनिटरिंग सिस्टम के एक पार्टस की चोरी हुई सामग्री की धनबाद के लोयाबाद थाने में प्राथमिकी दर्ज करा दी और अपना काम पूरा हुआ मान लिया, सवाल तो यह भी उठता है कि जब रियल टाइमिंग मॉनिटरिंग सिस्टम एक साल से ठप है,

Breaking News