BJP की संभावित हार को देख, CM ने की अपने लिए विशेष व्यवस्था, नेता प्रतिपक्ष को बढ़ाई सुविधाएं

लगता है, राज्य के होनहार मुख्यमंत्री रघुवर दास को इस बात का आभास हो गया है कि आनेवाले समय में विधानसभा का चुनाव जब भी हो, उनका मुख्यमंत्री पद पर रहना अब संभव नहीं हैं, राज्य की जनता मन बना चुकी है कि उनकी विदाई अगले वर्ष कर देनी है, शायद यहीं कारण है कि उन्होंने अभी से ही अपने लिए विशेष व्यवस्था करनी शुरु कर दी है, यहीं नहीं अपने साथ रहनेवाले तीन खासमखास लोगों पर भी उन्होंने दया लुटा दी है,

लगता है, राज्य के होनहार मुख्यमंत्री रघुवर दास को इस बात का आभास हो गया है कि आनेवाले समय में विधानसभा का चुनाव जब भी हो, उनका मुख्यमंत्री पद पर रहना अब संभव नहीं हैं, राज्य की जनता मन बना चुकी है कि उनकी विदाई अगले वर्ष कर देनी है, शायद यहीं कारण है कि उन्होंने अभी से ही अपने लिए विशेष व्यवस्था करनी शुरु कर दी है, यहीं नहीं अपने साथ रहनेवाले तीन खासमखास लोगों पर भी उन्होंने दया लुटा दी है, जरा देखिये मुख्यमंत्री रघुवर दास ने क्या किया है?

मुख्यमंत्री रघुवर दास को लगता है कि आनेवाले दिनों में जब कभी विधानसभा चुनाव होंगे, भाजपा का अब सत्ता में आना, खासकर झारखण्ड में टेढ़ी खीर है, इसीलिए उन्होंने नेता विरोधी दल पर कृपा लूटा दी है, उन्हें लगता है कि आनेवाले दिनों में जब भाजपा सत्ता में नहीं रहेगी तो कम से कम प्रमुख विपक्षी दलों में भाजपा एक नंबर पर अवश्य रहेगी और वे उस वक्त नेता विरोधी दल तो तिकड़म लगाकर अवश्य ही बन जायेंगे, जिसका वे भरपूर फायदा उठा सकेंगे, इसीलिए क्यों न नेता विरोधी दल के वेतन और उन्हें मिलनेवाली सुविधाओं को उनके मुख्यमंत्री काल में ही बढ़ा दिया जाय।

ऐसे में वर्तमान नेता विरोधी दल भी कुछ नहीं कहेंगे, और उनका काम भी निकल जायेगा, जो भविष्य में काम देगा, पर जनाब रघुवर दास को ये भी नहीं पता कि आनेवाले समय में वे नेता विरोधी दल भी बन पायेंगे अथवा नहीं, क्योंकि वर्तमान विधायक जो भले ही खुलकर उनका प्रतिकार नहीं करते हो, पर वे दबी जुबान से विद्रोही24.कॉम को जरुर कहते हैं कि इस व्यक्ति ने खुद की लूटिया तो डूबो ही दी, उन जैसे विधायकों को भी बर्बाद कर दिया, अब वे चुनाव जीत पायेंगे या नहीं, इसकी कोई गारंटी नहीं, भाजपा का इस बार सफाया होना तय हैं और रही बात नेता विरोधी दल की पहले ये जमशेदपुर पूर्वी सीट से जीत कर तो दिखाये, बड़ा आया नेता विरोधी दल बननेवाला।

इधर हार की आशंकाओं के बीच, मुख्यमंत्री रघुवर दास और उनके कनफूंकवों ने जबर्दस्त तैयारी कर ली है। मंत्रिमंडल सचिवालय द्वारा जारी अधिसूचना में कहा गया है कि नेता विरोधी दल के सचेतक का वेतन 50 हजार से बढ़ाकर 65 हजार रुपये कर दिया गया है। नेता विरोधी दल के हाउसिंग लोन की सीमा 30 लाख से बढ़ाकर 40 लाख कर दी गई है। नेता विरोधी दल का दैनिक भत्ता 2000 रुपये से बढ़ाकर 2500 रुपये कर दिया गया है। विरोधी दल के नेता की चार प्रतिशत वार्षिक ब्याज की दर पर ऋण की सीमा 15 लाख से बढ़ाकर 20 लाख रुपये कर दी गई है। विरोधी दल के नेता का चिकित्सा भत्ता पांच हजार रुपये से बढ़ाकर दस हजार रुपये कर दिया गया है।

नेता विरोधी दल भारत में हवाई यात्रा या जलपोत यात्रा के दौरान अपने साथ तीन सहयात्रियों को ले जा सकते है, यानी सीएम रघुवर दास ने अपने लिए तो किया तो किया ही, अपने साथ चलनेवाले वर्तमान के खासमखास तीन लोगों पर भी भविष्य में वो सारी सुविधाएं दिलवा दी, जो वे आज ले रहे हैं। कमाल हैं, हमारे होनहार मुख्यमंत्री की कितनी दूरदृष्टि सोच है, वे अपना और अपने साथ रहनेवालों का कितना ख्याल रखते है, कम से कम आनेवाले नये मुख्यमंत्री को तो वर्तमान सीएम रघुवर दास से ये चीजें सीखनी ही चाहिए।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

बड़े मियां तो बड़े मियां, छोटे मियां सुभान अल्लाह, BJP नेता पप्पू बनर्जी कइयों से करोड़ों लेकर फरार

Wed Dec 26 , 2018
जैसे-जैसे लोकसभा-विधानसभा के चुनाव नजदीक आ रहे हैं, वैसे-वैसे झारखण्ड के भाजपा नेताओं, विधायकों, सांसदों की कारगुजारियां भी एक-एक कर सामने आ रही है। फिलहाल अपने नये कारनामों के लिए रामगढ़ के भाजपा जिलाध्यक्ष पप्पू बनर्जी सुर्खियों में हैं। उन पर आरोप है कि वे कई लोगों के करोड़ों रुपये लेकर फरार है और पिछले एक सप्ताह से लापता है।

Breaking News