बड़े मियां तो बड़े मियां, छोटे मियां सुभान अल्लाह, BJP नेता पप्पू बनर्जी कइयों से करोड़ों लेकर फरार

जैसे-जैसे लोकसभा-विधानसभा के चुनाव नजदीक आ रहे हैं, वैसे-वैसे झारखण्ड के भाजपा नेताओं, विधायकों, सांसदों की कारगुजारियां भी एक-एक कर सामने आ रही है। फिलहाल अपने नये कारनामों के लिए रामगढ़ के भाजपा जिलाध्यक्ष पप्पू बनर्जी सुर्खियों में हैं। उन पर आरोप है कि वे कई लोगों के करोड़ों रुपये लेकर फरार है और पिछले एक सप्ताह से लापता है।

जैसे-जैसे लोकसभा-विधानसभा के चुनाव नजदीक आ रहे हैं, वैसे-वैसे झारखण्ड के भाजपा नेताओं, विधायकों, सांसदों की कारगुजारियां भी एक-एक कर सामने आ रही है। फिलहाल अपने नये कारनामों के लिए रामगढ़ के भाजपा जिलाध्यक्ष पप्पू बनर्जी सुर्खियों में हैं। उन पर आरोप है कि वे कई लोगों के करोड़ों रुपये लेकर फरार है और पिछले एक सप्ताह से लापता है।

पप्पू बनर्जी को पूर्व केन्द्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा एवं वर्तमान केन्द्रीय राज्यमंत्री जयंत सिन्हा का खासमखास माना जाता है। भाजपा जिला कार्यालय रामगढ़ पप्पू बनर्जी के आवासीय परिसर में ही चलता है। सूत्र बताते हैं कि कई स्थानीय लोगों से पप्पू बनर्जी ने काम करवाने को लेकर रुपये लिये है। जिला के कई भाजपा नेता पप्पू बनर्जी के इस कारनामे से व्यथित है, लेकिन चूंकि पप्पू बनर्जी का भाजपा के बड़े नेताओं से अच्छे सम्पर्क हैं, इसलिए कुछ भी बोलने से कतरा रहे हैं।

एक अखबार के अनुसार, पप्पू बनर्जी के सारे मोबाइल नंबर फिलहाल बंद है। व्हाट्सएप भी काम नहीं कर रहा। पप्पू बनर्जी के घर तगादा करनेवालों की लाइन लगी हुई है, कमाल की बात यह भी है कि बनर्जी ने जिन लोगों से पैसे लिए, उनमें से केन्द्रीय राज्य मंत्री जयंत सिन्हा का निजी चालक भी शामिल है।

इधर पप्पू बनर्जी के हरकतों की जानकारी भाजपा के प्रदेश संगठन मंत्री को भी है, पर अभी तक भाजपा के सांगठनिक स्तर पर इस संबंध में कोई निर्णय नहीं लिया गया है, पप्पू बनर्जी के भाई को माने तो उसके आने की संभावना अब नहीं है, इधर इतनी बड़ी घटना हो गई, इस मामले में अब तक किसी ने पप्पू बनर्जी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज नहीं कराई है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

अफसोस, सत्तारुढ़ दल और राज्य के CM ने सदन को सिर्फ बजट पास कराने का जरिया बना लिया

Thu Dec 27 , 2018
झारखण्ड विधानसभा का शीतकालीन सत्र समाप्त हो गया, ये सत्र भी आम सत्रों की तरह ही हंगामें की भेंट चढ़ गया, सत्तापक्ष और विपक्ष के सभी सदस्यों ने अपने-अपने ढंग से सदन को चलाने की कोशिश की, पारा टीचरों के आंदोलन तथा बाहरी व्यक्तियों को राज्य में मिल रही नौकरी ही हंगामें के केन्द्र में रहा, पारा टीचरों के मुद्दे पर तो जैसे राज्य सरकार ने संकल्प ही ले रखा है कि पारा टीचरों को सबक सीखा देना है,

Breaking News