मुख्यमंत्री रघुवर दास से नाराज चल रहे मंत्री सरयू राय होली बाद करेंगे धमाका

मुख्य सचिव राजबाला वर्मा तथा सीएम रघुवर दास के क्रियाकलापों से नाराज चल रहे खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय ने कोलकाता में एक अखबार को दिये इंटरव्यू में कहा कि अगर राज्य सरकार 28 फरवरी तक मुख्य सचिव राजबाला वर्मा प्रकरण पर कोई निर्णय नहीं लेती, तो वे होली के बाद कुछ भी फैसले ले सकते हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें मुद्दों पर टूटना मंजूर हैं, पर झुकना मंजूर नहीं।

मुख्य सचिव राजबाला वर्मा तथा सीएम रघुवर दास के क्रियाकलापों से नाराज चल रहे खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय ने कोलकाता में एक अखबार को दिये इंटरव्यू में कहा कि अगर राज्य सरकार 28 फरवरी तक मुख्य सचिव राजबाला वर्मा प्रकरण पर कोई निर्णय नहीं लेती, तो वे होली के बाद कुछ भी फैसले ले सकते हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें मुद्दों पर टूटना मंजूर हैं, पर झुकना मंजूर नहीं। उन्होंने कहा कि मुख्य सचिव पर कार्रवाई नहीं होने से राज्य की जनता के बीच सरकार की बदनामी हो रही हैं।

उनका कहना था कि चूंकि मुख्य सचिव राजबाला वर्मा 28 फरवरी को अवकाश ग्रहण कर रही हैं, ऐसे में राज्य सरकार को 28 फरवरी के पूर्व इस पर निर्णय ले लेना चाहिए, अगर सरकार निर्णय नहीं लेती है, मुख्य सचिव राजबाला वर्मा के खिलाफ कार्रवाई नहीं करती, तो इसका मतलब हैं कि राज्य की जनता के बीच इसका संदेश कुछ दुसरा जायेगा। ऐसे वे चाहेंगे कि यदि मुख्य सचिव ने गलती की हैं, तो उन्हें स्वयं गलती स्वीकार करते हुए, माफी मांग लेनी चाहिए। अगर वह ऐसा नहीं करती, तो प्राकृतिक न्याय का तकाजा हैं कि सीएम उन्हें कम से कम छुट्टी पर भेज दें, ताकि सरकार की छवि खराब न हो।

सरयू राय का कहना है कि मुख्य सचिव के आदेश द्वारा आधार नहीं रहने पर 11.50 लाख लोगों के राशन कार्ड को रद्द किये जाने तथा ए के हेब्बर के ट्विट के संबंध में विभाग ने स्पष्टीकरण मांगा हैं, जांच के आदेश दिये हैं, लेकिन वे जानना चाहेंगे कि इस जांच की रिपोर्ट में क्या मिला? यानी मुख्य सचिव राजबाला वर्मा प्रकरण पर सरयू राय क्या निर्णय लेते हैं, या क्या करेंगे, ये जानने के लिए राज्य की जनता को होली तक का इंतजार करना पड़ेगा।

 

Krishna Bihari Mishra

Next Post

लो कर लो बात, बाबा वैद्यनाथ को भी अखबारों ने नहीं बख्शा, विवादों में लपेटा

Sat Feb 17 , 2018
देवघर में सदियों से महापंडित रावण के नाम से जाने जानेवाले अपने बाबा रावणेश्वर वैद्यनाथ को क्या पता था कि आनेवाले समय में उन्हें भी रामजन्मभूमि-बाबरीमस्जिद की तरह विवादों में ला दिया जायेगा, ये तो यहां अपने भक्तों के बीच झार-झंखार में पड़े हुए थे, और मस्ती में प्रतिदिन भांग-धूतरे, जंगलों में नाना प्रकार के फूल-फल प्राप्त कर अपने भक्तों के साथ समाधि में लीन रहा करते थे।

Breaking News