संगीता ने काला झंडा दिखाने की घोषणा क्या कर दी, सीएम ने गिरफ्तार ही करा दिया

आज अहले सुबह बोकारो में कांग्रेस पार्टी की वरिष्ठ नेता संगीता तिवारी को बोकारो पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। ज्ञातव्य है कि उन्होंने दो दिन पूर्व घोषणा की थी, कि आज वह बोकारो में मुख्यमंत्री रघुवर दास को काला झंडा दिखायेंगी। संगीता तिवारी का कहना है कि मुख्यमंत्री रघुवर दास ने गढ़वा में ब्राह्मणों के प्रति अपमानजनक शब्द का प्रयोग किया तथा उसके कुछ दिनों बाद विधानसभा में विपक्षी नेताओं को गाली दे दी।

आज अहले सुबह बोकारो में कांग्रेस पार्टी की वरिष्ठ नेता संगीता तिवारी को बोकारो पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। ज्ञातव्य है कि उन्होंने दो दिन पूर्व घोषणा की थी, कि आज वह बोकारो में मुख्यमंत्री रघुवर दास को काला झंडा दिखायेंगी। संगीता तिवारी का कहना है कि मुख्यमंत्री रघुवर दास ने गढ़वा में ब्राह्मणों के प्रति अपमानजनक शब्द का प्रयोग किया तथा उसके कुछ दिनों बाद विधानसभा में विपक्षी नेताओं को गाली दे दी। बोकारो पुलिस को जैसे ही इसकी जानकारी मिली, बोकारो पुलिस ने उनके आवास से संगीता तिवारी को गिरफ्तार कर लिया। संगीता तिवारी को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस उन्हें सिटी थाना लाई।

संगीता तिवारी की गिरफ्तारी का समाचार सुनते ही कांग्रेसियों का हुजूम सिटी थाना पहुंचना शुरु हो गई। संगीता तिवारी ने कहा है कि सरकार तानाशाह हो गई है। कोई फरियादी सरकार के पास पहुंच रहा हैं, तो उसे कहा जाता है कि वह नौटंकी कर रहा है। पूरे राज्य की स्थिति दयनीय करके इस सरकार ने छोड़ दी है। औने-पौने दाम पर करोड़ों की जमीन पूंजीपतियों को उपलब्ध करायी जा रही है, जो शर्मनाक है। संगीता तिवारी ने कहा कि वह ऐसी गिरफ्तारियों से नहीं डरनेवाली, आनेवाले समय में वह मुख्यमंत्री आवास के समक्ष धरने पर बैंठेंगी।

ब्राह्मणों के खिलाफ दीवार-लेखन करनेवालों के विरुद्ध प्राथमिकी, विवादास्पद लेखन को जिला प्रशासन ने मिटाया

इधर ब्राह्मणवाद को सबसे बड़ा आतंकवाद लिखनेवालों के खिलाफ राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ के झारखण्ड प्रभारी व राष्ट्रीय सचिव पं. सुजीत उपाध्याय के नेतृत्व में अमित कुमार तिवारी ने लालपुर थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी।

सुजीत उपाध्याय का कहना था कि हमारे समाज में कुछ ऐसे लोग सक्रिय हो गये है, जो नहीं चाहते कि समाज में सामाजिक समरसता बनी रहे। ये बेवजह ब्राह्मणों के खिलाफ टिप्पणियां कर रहे है। कुछ दिन पहले ही राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ ने ब्राह्मणों के खिलाफ अपमानजनक शब्दों का प्रयोग करने पर मुख्यमंत्री रघुवर दास का पुतला दहन किया था, तथा मुख्यमंत्री रघुवर दास से माफी मांगने को कहा था।

इधर खुशी इस बात की है, कि जिला प्रशासन ने रांची कॉलेज एवं रांची विश्वविद्यालय के दीवारों पर लिखे गये आपत्तिजनक सलोगनों को मिटवा दिया।

जिसका ब्राह्मण संघों ने स्वागत किया तथा इस कार्य के लिए जिला प्रशासन की सराहना की। इधर देखने को मिल रहा हैं।

जब से ब्राह्मणों के खिलाफ मुख्यमंत्री रघुवर दास ने बयान जारी किया है, तब से लेकर अब तक ब्राह्मणो के खिलाफ बोलनेवालों का मनोबल बढ़ता जा रहा हैं, वे इसके लिए विभिन्न संस्थानों की दीवारों का प्रयोग कर रहे हैं, जिसकी सभी ने आलोचना की है।

Krishna Bihari Mishra

One thought on “संगीता ने काला झंडा दिखाने की घोषणा क्या कर दी, सीएम ने गिरफ्तार ही करा दिया

  1. You have proven yourself to be a very transparent and bold journalist who has the capacity to do great things. Continue to make us proud for publishing truth…

Comments are closed.

Next Post

सावधान, अगर सरकार के खिलाफ एक शब्द भी बोला तो जेल जाने को तैयार रहिये

Wed Dec 20 , 2017
अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का मतलब यह नहीं होता, कि आप किसी व्यक्ति, संस्थान, दल या किसी भी संगठन को, जब चाहे जब, मन भर गाली दे दें। अगर आपको किसी ने गाली दे भी दी, तो इसका मतलब यह भी नहीं हो गया कि आपको लाइसेंस मिल गया कि आप भी उसको गाली दे दें। यह वहीं बात हुई कि गाली दोनों ने दी, एक ने पहले तो दूसरे ने बाद में दी। इन दिनों मैं देख रहा हूं कि विभिन्न सोशल साइटों पर गाली देने की नई परंपरा की शुरुआत हो गई है।

Breaking News