संपूर्ण विपक्ष ने राज्य सरकार का पूतला फूंका, CM पर माहौल खराब करने का आरोप

राज्य में पहली बार संपूर्ण विपक्ष ने प्रतिपक्ष के नेता हेमन्त सोरेन के नेतृत्व में अलबर्ट एक्का चौक पर राज्य सरकार का पुतला फूंका। इसके पहले रांची विश्वविद्यालय के प्रांगण में बड़ी संख्या में विपक्षी दलों के नेताओं, कार्यकर्ताओं, विधायकों का जमावड़ा हुआ और फिर ये रांची विश्वविद्यालय से जुलूस की शक्ल में अलबर्ट एक्का चौक पहुंचे और सीएम रघुवर दास का पुतला फूंक दिया। जुलूस में शामिल सभी राज्य सरकार विरोधी नारे लगा रहे थे।

राज्य में पहली बार संपूर्ण विपक्ष ने प्रतिपक्ष के नेता हेमन्त सोरेन के नेतृत्व में अलबर्ट एक्का चौक पर राज्य सरकार का पुतला फूंका। इसके पहले रांची विश्वविद्यालय के प्रांगण में बड़ी संख्या में विपक्षी दलों के नेताओं, कार्यकर्ताओं, विधायकों का जमावड़ा हुआ और फिर ये रांची विश्वविद्यालय से जुलूस की शक्ल में अलबर्ट एक्का चौक पहुंचे और सीएम रघुवर दास का पुतला फूंक दिया। जुलूस में शामिल सभी राज्य सरकार विरोधी नारे लगा रहे थे।

पुतला फूंकने के बाद संवाददाताओं से बातचीत के क्रम में नेता प्रतिपक्ष हेमन्त सोरेन ने कहा कि आज जिस प्रकार का माहौल यहां देखने को मिल रहा है, ऐसा माहौल कभी यहां नहीं हुआ था। सदन के नेता के द्वारा ऐसा माहौल बना दिया गया है कि इसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। मुख्यमंत्री का आचरण और सदन के प्रति जो उनका रवैया है, उससे आहत आज सारे विपक्षी दलो के नेता एक होकर, उनका प्रतिकार कर रहे हैं। जिस प्रकार से भाजपा और राज्य के मुख्यमंत्री यहां की जनभावनाओं के विपरीत काम कर रहे हैं, उससे इस राज्य का सत्यानाश होना तय है।

हेमन्त सोरेन ने कहा कि आज यहां के आदिवासी मूलवासी के जीवन पर संकट है, आज पूरे देश में यह राज्य चर्चा का विषय बना हुआ है, राज्य सरकार गलत पदाधिकारियों को संरक्षण दे रही है, जिससे राज्य में भ्रष्टाचार का माहौल पनपा है। आज के इस पुतला दहन कार्यक्रम में कांग्रेस, झामुमो, झाविमो राजद, भाकपा, माकपा, भाकपा माले के साथ-साथ अन्य दलों के लोग भी मौजूद थे।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

सीएस के हंसने पर सदन आउट ऑफ कंट्रोल, विधानसभा मंगलवार तक के लिए स्थगित

Sat Jan 20 , 2018
आज एक बार फिर सदन में बवाल हुआ। बवाल इस बात को लेकर हुआ कि जब सीएम सदन को संबोधित कर रहे थे, तब उसी दौरान सीएस, अधिकारियों के लिए बने कक्ष में हंस रही थी। जिसे लेकर विपक्ष आपे से बाहर हो उठा। झाविमो विधायक दल के नेता प्रदीप यादव ने इसे सदन का अपमान बताया और कहा कि यह सदन का मजाक उड़ाने जैसा है।

Breaking News