पीएम ने रघुवर को डायनेमिक नहीं बताया, ये रांची के अखबारों की दिमागी उपज हैं

लीजिये, अब समाचार आ रहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ऐसा कोई बयान ही नहीं दिया, जिसमें उन्होंने सीएम रघुवर दास के लिए डायनेमिक शब्द का प्रयोग किया हो। ये कहना है भारत के एक महत्वपूर्ण न्यूज एजेंसी में कार्यरत ब्यूरो प्रमुख का, इन्होंने www.vidrohi24.com को बताया कि ऐसी कोई बात ही नहीं है, ये सिर्फ रांची के अखबारों की दिमागी उपज है, जिन्होंने मुख्यमंत्री रघुवर दास की जमकर आरती उतार दी और पीएम के मुख से बोलवा दिया कि यहां के सीएम डायनेमिक है।

लीजिये, अब समाचार आ रहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ऐसा कोई बयान ही नहीं दिया, जिसमें उन्होंने सीएम रघुवर दास के लिए डायनेमिक शब्द का प्रयोग किया हो। ये कहना है भारत के एक महत्वपूर्ण न्यूज एजेंसी में कार्यरत ब्यूरो प्रमुख का, इन्होंने www.vidrohi24.com को बताया कि ऐसी कोई बात ही नहीं है, ये सिर्फ रांची के अखबारों की दिमागी उपज है, जिन्होंने मुख्यमंत्री रघुवर दास की जमकर आरती उतार दी और पीएम के मुख से बोलवा दिया कि यहां के सीएम डायनेमिक है।

प्रभात खबर और दैनिक जागरण ने तो शीर्षक ही दे दिया। प्रभात खबर का हेंडिग था – डायनेमिक हैं मुख्यमंत्री रघुवर दास – प्रधानमंत्री, जबकि दैनिक जागरण की हेडिंग थी – पीएम ने सीएम को कहा डायनेमिक, सब हेंडिग थी – मोदी ने नीति आयोग के कार्यक्रम में रघुवर दास की तारीफ की।

आश्चर्य यह भी है कि खबर थी – दिल्ली की, और रांची में बैठे इनके महान संवाददाताओं ने अपने दिव्य दृष्टि से देखकर व विशिष्ट कर्णों से सुनकर झूठी खबरे फैला दी और सीएम की नजरों में खुद को महान घोषित किया कि देखिये हम आपको आनन्द देने के लिए, आपको जनता के बीच महानायक बनाने के लिए खुद को कितना गिरा सकते हैं।

रांची से प्रकाशित हिन्दुस्तान ने डायनेमिक शब्द का प्रयोग तो नहीं किया, पर मुख्यमंत्री की तारीफ की बात जरुर कर दी, जबकि दैनिक भास्कर ने इससे अपने आपको बचाया। सूत्र बताते है कि ये खबर सीएमओ द्वारा ही इन संवाददाताओं को प्रेषित किया गया था, जिसके आधार पर इन अखबारों के संवाददाताओं ने सीएम को डाय़नेमिक बताने में कोई कसर नहीं छोड़ा।

Krishna Bihari Mishra

One thought on “पीएम ने रघुवर को डायनेमिक नहीं बताया, ये रांची के अखबारों की दिमागी उपज हैं

Comments are closed.

Next Post

नियुक्ति पत्र बांटे जाने को लेकर सीएम के सोशल साइट पर ही युवाओं ने दागे सवाल

Tue Jan 9 , 2018
‘जनता भाड़ में जाये, युवाओं का हित मिट्टी में मिल जाये, हमें कोई मतलब नहीं, बस हमें लाखों-करोड़ों का विज्ञापन मिल जाये, मेरे परिवार का कहीं अच्छा सेट हो जाये, हम जब तक जिंदा रहे, लाखों-करोड़ों में खेलते रहे, हमें दुनिया के महंगी से महंगी होटलों में सरकार या सरकार के लोग रहने-ठहरने की व्यवस्था कर दें, और हमें क्या चाहिए?  बस सरकार इतनी सी व्यवस्था कर दें, उसके बाद देखिये।

Breaking News