सदस्यता न मिलने से नाराज अवधेश ने भी बलबीर दत्त को भेजी लीगल नोटिस

द रांची प्रेस क्लब के अध्यक्ष बलबीर दत्त को एक और पत्रकार अवधेश कुमार सिंह ने आज लीगल नोटिस भेज दी। अवधेश अपने अधिवक्ता आनन्द प्रकाश के माध्यम से नोटिस भेजी है। अवधेश कुमार सिंह का कहना है कि उनके अखबार नियुक्ति, सातवां सच और न्यू रांची मेल के किसी भी सदस्य को रांची प्रेस क्लब की सदस्यता नहीं प्रदान की गई है।

द रांची प्रेस क्लब के अध्यक्ष बलबीर दत्त को एक और पत्रकार अवधेश कुमार सिंह ने आज लीगल नोटिस भेज दी। अवधेश अपने अधिवक्ता आनन्द प्रकाश के माध्यम से नोटिस भेजी है। अवधेश कुमार सिंह का कहना है कि उनके अखबार नियुक्ति, सातवां सच और न्यू रांची मेल के किसी भी सदस्य को रांची प्रेस क्लब की सदस्यता नहीं प्रदान की गई है।

अवधेश कुमार सिंह ने बताया कि उनके अखबार से विजय रंजन कुमार, प्रिय रंजन कुमार और उदय कुमार ने रांची प्रेस क्लब के लिए सदस्यता हेतु आवेदन दिया था, पर इनमें से किसी को भी सदस्यता नहीं दी गई। उन्होंने यह भी कहा कि चुनाव के पूर्व शीघ्र इन्हें सदस्यता प्रदान की जाये, अगर ऐसा नहीं होता है तो वे न्यायालय के शरण में जाने को तैयार है।

अवधेश कुमार सिंह ने इसकी प्रतिलिपि हरि नारायण सिंह, वी पी शरण, विजय पाठक, दिलीप श्रीवास्तव नीलू, अमर कांत, विनय कुमार, अनुपम शेषांक, दिवाकर, प्रदीप कुमार सिंह, धरमवीर सिन्हा, सोमनाथ सेन को भी भेजी हैं।

इधर सदस्यता सूची जारी होने के बाद रांची प्रेस क्लब में कोर कमेटी की बैठक हुई। बैठक में सर्वसम्मति से जेनरल मीटिंग बुलाने की बात कहीं गई, जिसमें संभवतः चुनाव आदि पर चर्चा होगी। यह बैठक 16 दिसम्बर को बुलाई गई है। इधर कई पत्रकारों द्वारा सदस्यता के लिए बार-बार लीगल नोटिस भेजे जाने पर कई सदस्यों ने आशंका व्यक्त की, कि कही ऐसा न हो कि प्रेस क्लब का चुनाव प्रभावित न हो जाये। इसी बीच सोशल साइट पर कई सदस्यों ने प्रेस क्लब के चुनाव को लेकर चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की है, कई अभी से ही संपर्क में लग गये है, इधर कई लोग ऐसे भी हैं, वे बस चुनाव तिथि की घोषणा का इंतजार कर रहे हैं, जैसे ही चुनाव तिथि की घोषणा होगी, वे अपना पत्ता खोलेंगे।

वरिष्ठ पत्रकार किसलय ने आज विद्रोही 24. कॉम को बताया कि उन्हें खुशी है कि अपनी रांची में बहुत ही शानदार, कर्मठ और भोले-भाले पत्रकारों का समूह हैं। उन्होंने आशा व्यक्त की, कि आनेवाले दिनों में रांची प्रेस क्लब अपने स्वर्णिम युग में प्रवेश करेगा।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

एक पत्रकार ने बहुत सारे नेताओं और मठाधीशी कर रहे पत्रकारों की नींद उड़ा दी

Fri Dec 1 , 2017
उमाकांत महतो झारखण्ड के वरिष्ठ पत्रकार है। फिलहाल वे राष्ट्रीय सागर से जुड़े हैं। कलम के धनी और बहुत सारे मठाधीशी में लिप्त पत्रकारों-नेताओं की चुनौती वे बखूबी स्वीकार करते हैं। इन दिनों वे चर्चाओं में हैं। सीएनटी-एसपीटी एक्ट को लेकर इन दिनों चल रही उठा-पटक पर उन्होंने अच्छे-अच्छों की क्लास ले ली है। उन्होंने इसी पर एक किताब लिखी है। किताब का नाम है – सीएनटी – एसपीटी एक्ट के परिप्रेक्ष्य में झारखण्ड।

You May Like

Breaking News