स्टेन स्वामी के आवास पर महाराष्ट्र पुलिस का छापा, सामग्रियां जब्त, आदिवासियों में नाराजगी

मानवाधिकार कार्यकर्ता फादर स्टेनस्वामी के नामकुम बगइचा स्थित आवास पर अहले सुबह महाराष्ट्र पुलिस ने छापा मारकर, राज्य के सारे मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की नींद उड़ा दी। फादर स्टेन स्वामी झारखण्ड का जाना मान नाम और हस्ती हैं, जिन्हें सभी मानवाधिकार कार्यकर्ता ही नहीं, आदिवासी समाज भी उनका नाम आदर से लेता है।

मानवाधिकार कार्यकर्ता फादर स्टेनस्वामी के नामकुम बगइचा स्थित आवास पर अहले सुबह महाराष्ट्र पुलिस ने छापा मारकर, राज्य के सारे मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की नींद उड़ा दी। फादर स्टेन स्वामी झारखण्ड का जाना मान नाम और हस्ती हैं, जिन्हें सभी मानवाधिकार कार्यकर्ता ही नहीं, आदिवासी समाज भी उनका नाम आदर से लेता है। फिलहाल झारखण्ड सरकार की टेढ़ी नजर भी इन पर हैं, और वे देशद्रोह का मुकदमा भी झेल रहे हैं, हालांकि उनके साथ देशद्रोह का मुकदमा झेल रहे 19 लोग और भी हैं, जिन्हें जैसे ही पता चला कि फादर स्टेन स्वामी के आवास पर छापा चल रही हैं, वे भूमिगत होना ही ज्यादा जरुरी समझे।

इधर फादर स्टेन स्वामी के आवास पर महाराष्ट्र पुलिस की छापेमारी खबर पूरे राज्य में आग की तरह फैल गई, सोशल साइट के माध्यम से यह समाचार जन-जन तक पहुंच गया, बहुतायत इस घटना से आक्रोशित हैं और तरह-तरह के बयान दे रहे हैं, रांची में रह रहे कुछ लोगों को जैसे ही इस बात की जानकारी हुई वे फादर स्टेन स्वामी के आवास पर पहुंच गये।

सूत्र बता रहे हैं कि देश के अन्य भागों में भी एक साथ मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के यहां छापे चल रहे हैं, जिसमें रांची में फादर स्टेन स्वामी भी शामिल हैं। जिन मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के यहां छापे चल रहे हैं, उनमें अरुण फरेरा, वरनॉन गोंसाल्विस, क्रांतिकारी लेखक वरवर राव, सुधा भारद्वाज और गौतम नवलेख भी शामिल हैं।

बताया जा रहा है कि ये छापेमारी महाराष्ट्र के भीमा कोरेगांव मामले से संबंधित हैं, पुलिस को शक हैं कि भीमा कोरेगांव मामले का लिंक सीधे माओवादियों तथा उनसे संबंधित मानवाधिकार कार्यकर्ताओं से जुड़ा हैं और जिनके यहां छापेमारी चल रही हैं वे किसी न किसी रुप में माओवादियों से जुड़ें हैं या उनके साथ उनका संपर्क हैं।

पूर्व में कहां जा रहा था भीमा कोरेगांव मामले को हिंसक स्वरुप देने में हिन्दुत्ववादियों का हाथ हैं, पर बाद में राज्य सरकार को इस संबंध में कोई एविडेंस नहीं मिले, इसके बाद महाराष्ट्र सरकार ने मानवाधिकार कार्यकर्ताओं तथा माओवादियों की भूमिका पर नजर गड़ाई, जिस सिलसिले में अहले सुबह से मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के यहां छापेमारी जारी है।

इधर महाराष्ट्र पुलिस ने फादर स्टेन स्वामी के आवास पर उनके मोबाइल और लैपटॉप को खंगाला, तथा उनकी डायरी और अन्य नोटबुक्स जब्त कर, जांच जारी रखी हैं, फादर स्टेन स्वामी के यहां से कुछ सीडी, प्रेस विज्ञप्तियां और पत्थलगडी मूवमेंट्स से जुडे कागजात भी पुलिस ने जब्त किये हैं।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

देशव्यापी मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की हुई गिरफ्तारी की भाकपा माले ने की कड़ी भर्त्सना

Tue Aug 28 , 2018
भाकपा माले ने मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के घर आज अहले सुबह हुई छापेमारी और उनकी हुई गिरफ्तारी पर गहरा आक्रोश जताते हुए, इसकी तुलना आपातकाल से कर दी हैं। भाकपा माले नेताओं ने कहा कि आज गिरफ्तार होनेवालों में जानी मानी कार्यकर्ता सुधा भारद्वाज भी हैं, जो एक वकील है, और आजीवन छत्तीसगढ़ के उत्पीड़ित समुदायों के अधिकारों की रक्षा के लिए काम करती आ रही हैं।

Breaking News