विधानसभा चुनाव में भाजपा को शिकस्त देने के लिए झामुमो पूरी तरह तैयार – हेमन्त सोरेन

लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद झामुमो विधायक दल की बैठक आज रांची में संपन्न हो गई। बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत में नेता प्रतिपक्ष हेमन्त सोरेन ने कहा कि उनकी पार्टी की लोकसभा में हार हुई हैं, पर वे हतोत्साहित नहीं हैं, पूरी पार्टी एक बार फिर जोश के साथ आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारी में लग गई हैं, हम संघर्ष करेंगे और जीतेंगे।

लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद झामुमो विधायक दल की बैठक आज रांची में संपन्न हो गई। बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत में नेता प्रतिपक्ष हेमन्त सोरेन ने कहा कि उनकी पार्टी की लोकसभा में हार हुई हैं, पर वे हतोत्साहित नहीं हैं, पूरी पार्टी एक बार फिर जोश के साथ आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारी में लग गई हैं, हम संघर्ष करेंगे और जीतेंगे।

हेमन्त सोरेन का कहना था कि पार्टी से कहां चूक हुई? सांगठनिक स्तर पर कहां भूल हुई, इसको लेकर वे चिन्तन कर रहे हैं, कल फिर कार्यकारिणी की बैठक होगी, जिसमें और बाते सामने आयेगी। उनका कहना था कि ये कोई पहली बार ऐसी हार का सामना झामुमो नहीं कर रही, इसके पूर्व भी ऐसी स्थिति आई थी, लेकिन झामुमो उबरी, खुद को बेहतर स्थिति में लाने की कोशिश की और वे सफल रहे।

इसलिए अगर कोई ये कहता है कि एक हार से झामुमो समाप्त हो गई, अब झामुमो में कुछ नहीं रहा, तो वह कुछ भी गलतफहमी पालने को स्वतंत्र हैं, हम आनेवाले विधानसभा चुनाव में बतायेंगे कि झामुमो क्या हैं? झामुमो विधानसभा चुनाव में बड़े भाई की भूमिका में रहेगा, महागठबंधन के साथ मिलकर हम बेहतर करने की कोशिश करेंगे, कई चरणों में महागठबंधन की बैठक होगी, और बेहतर करने का हम प्रयास करेंगे।

हेमन्त सोरेन ने कहा कि चुनाव में हार-जीत लगी रहती हैं, क्योंकि जिस तरीके से मौजूदा चुनाव संपन्न हुए हैं, उन कारकों को लेकर हम गहन चिन्तन कर रहे हैं। हमारा अगला लक्ष्य विधानसभा चुनाव है, जो इसी साल के अंतिम महीने में होने हैं। उन्होंने कहा कि बीजेपी जिस प्रकार से लोकसभा में धनबल का दुरुपयोग किया, जिस प्रकार से रुपये छींटे मानो जैसे लगता हो कि उनके पास नोट छापने की मशीन आ गई हो, पेड स्टाफ रखकर लोगों को भरमाने-दिग्भ्रमित करने का प्रयास किया, ऐसी हरकतें  उनकी पार्टी नहीं कर सकती।

हेमन्त सोरेन ने कहा कि जिस प्रकार भाजपा ने लोगों को छलने का काम किया, अब उनका चेहरा लोगों के समक्ष आ रहा है, जिस कर्नाटक में लोकसभा चुनाव के दौरान बम्पर वोट भाजपा को मिला, वहीं पंचायत चुनाव में भाजपा क्यों नहीं सफलता अर्जित की, मतलब साफ है कि लोकसभा में जहा इवीएम से वोट पड़ा, भाजपा आगे निकल गई और जहां पंचायत चुनाव में बैलेट पेपर का उपयोग हुआ, भाजपा पिछड़ गई।

हेमन्त सोरेन ने कहा कि उनकी पार्टी कल एक बार फिर बैठेंगी और सभी मुद्दों पर चर्चा कर, एक ठोस योजना तैयार करेगी और उस पर अमल करते हुए, विधानसभा चुनाव में एक बेहतर रोल अदा करेगी, हम महागठबंधन के साथ एक बेहतर विकल्प राज्य की जनता को देंगे, राज्य की जनता विधानसभा चुनाव में उन्हें अपना समर्थन अवश्य देगी, ऐसा उनका पूरा विश्वास है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

अविश्वसनीय नीतीश ने मोदी-शाह को दिया जवाब, मंत्रिमंडल विस्तार में भाजपा को नहीं मिला स्थान

Sun Jun 2 , 2019
बिहार के राज्यपाल लालजी टंडन ने आठ नये मंत्रियों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिला दी। नीतीश मंत्रिमंडल में नरेन्द्र नारायण यादव, अशोक चौधरी, श्याम रजक, बीमा भारती, राम सेवक सिंह, लक्ष्मेश्वर राय, संजय झा और नीरज कुमार को शामिल कर लिया गया। ये सारे के सारे जदयू कोटे से हैं। नीतीश मंत्रिमंडल के विस्तार के दौरान भाजपा की ओर से एक भी सदस्य को शामिल नहीं किया गया।

You May Like

Breaking News