जनसभा दागी प्रत्याशियों को लेकर चलायेगी अभियान, राजनीतिक दलों से की अपील दागियों को न दें टिकट

402

जन जागरुकता तथा भ्रष्टाचार के खिलाफ काम करनेवाली संस्था जनसभा ने रांची प्रेस क्लब में संवाददाता सम्मेलन के माध्यम से कहा कि आगामी विधानसभा में राजनीतिक दलों को चाहिए कि वे वैसे प्रत्याशियों को अपना उम्मीदवार न बनाएं, जिन पर हत्या, यौन-शोषण, अपराध या भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप हैं, इनका कहना था कि ऐसे ही लोग जब सत्ता में आते हैं तो आम आदमी के लिए ये गंभीर समस्याएं खड़ा कर देते हैं, जिससे समाज व देश दोनों को खतरा होता है।

आज के संवाददाता सम्मेलन में धनबाद के प्रख्यात समाजसेवी विजय झा ने भी भाग लिया। उन्होंने संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा कि जनसभा इसको लेकर जन-जागरण चलायेगी, क्योंकि झारखण्ड विधानसभा चुनाव के तिथियों की घोषणा होने में अब ज्यादा देर नहीं हैं, उनका कहना था कि इसके पूर्व ही सभी प्रमुख राजनीतिक दलों से जनसभा की टीम मिलेगी, और उनसे अनुरोध करेगी कि उनका दल ऐसे लोगों को उम्मीदवार नहीं बनाएं, जिन पर अपराध के गंभीर मामले दर्ज हो।

सिविल सोसाइटी के आर पी शाही का कहना था कि आश्चर्य हैं कि जिन्हें हमलोगों ने माथे चढ़ाया, वे ही अब हमारा शोषण करने में तथा राज्य की प्रमुख सम्पतियों को नुकसान करने में विशेष भूमिका अदा कर रहे हैं, इससे ज्यादा दुख की बात कुछ हो ही नहीं सकती, इसका मतलब यह भी नहीं कि हम इसे चुपचाप बैठकर देखते जाये, क्योंकि हमारा फर्ज बनता है कि इसका विरोध करें, और जब तक जिन्दा रहेंगे, वे विरोध करते रहेंगे।

वरिष्ठ अधिवक्ता एवं जनसभा के अध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा कि वे दागी उम्मीदवारों को चुनाव में भाग लेने के लिए रोकने हेतु 2009 से ही प्रयासरत है। चुनाव में भाग ले रहे दागी उम्मीदवारों को रोकने के लिए हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर भी की। कुछ दागियों पर जांच बैठा, पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। 2014 में भी झारखण्ड अगेंस्ट करप्शन नामक संस्था के माध्यम से सत्तापक्ष और विपक्ष के कुल 51 विधायकों पर चल रहे अपराधिक मामले पर जांच कराकर सजा दिलाने के लिए जनहित याचिका दायर की है।

साढ़े चार साल बाद एक्टिंग चीफ जस्टिस एचसी मिश्रा तथा जस्टिस अपरेश सिंह के बेंच ने सीबीआइ से व्यवहार कोर्ट, इडी कोर्ट से दागी विधायकों पर क्या कार्रवाई हुई, उसकी स्टेटस रिपोर्ट की मांग की है। वे दागियों को दंडित करने के लिए कानूनी लड़ाई लड़ रहे हैं, साथ ही राजनीतिक दलों से भी अनुरोध करेंगे कि वे दागियों को इस बार टिकट न दें, तथा झारखण्ड को दागदार होने से बचाएं।

जनसभा महासचिव पंकज यादव ने कहा कि अगर राजनीतिक पार्टियां हमारी बातों पर संज्ञान नहीं लेती हैं तो जनसभा ना सिर्फ दागी उम्मीदवारों के खिलाफ बल्कि दागियों को टिकट देनेवाली पार्टियों के खिलाफ भी मोर्चा खोलेगी। जनसभा द्वारा आयोजित इस संवाददाता सम्मेलन में समाज के कई संभ्रांत नागरिक भी मौजूद थे।

Comments are closed.