राशन के अभाव में कान्हाचट्टी के झिंगुर भुइंया की मौत, CPIML ने कहा उपायुक्त के खिलाफ कार्रवाई जरुरी

भाकपा माले राज्य सचिव जनार्दन प्रसाद ने झारखंड की भाजपा सरकार को जनता के प्रति असंवेदनशील सरकार की संज्ञा दी है। चतरा जिले में राशन के अभाव मे कान्हाचट्टी प्रखंड के झिंगुर भुइंया की मौत को दुखद बताते हुए जिला उपायुक्त पर कार्रवाई करने की मांग की है। उन्होंने आगे और कहा कि सरकार की जनवितरण प्रणाली की व्यवस्था विफल साबित हुई है। काफी मात्रा में गरीब राशनकार्ड से वंचित होकर राशन के अभाव में भूखे मरने को विवश हो रहे है।

कई जिलों में सरकार नियमित राशन देने मे अक्षम साबित हो गई है। डिजिटल व्यवस्था की वजह से कहीं समय पर नेटवर्क नहीं रहता, तो किसी का अंगूठा मैच नहीं करता फलतः गरीब राशन लेने से वंचित रह जा रहे है। पिछले तीन साल के अंदर भूख से मौत की यह 19वीं घटना है। राज्य सरकार भूख से मौत की इन घटनाओं को कभी भी स्वीकार नहीं करती है, वे या तो पेट मे अनाज का दाना खोजने लगते हैं या यह साबित करने लगते हैं कि यह मौत बीमारी से हुई है।

सरकार इस बात को कुबूल नहीं करती कि यह मौत भूख जनित बीमारियों की वजह से है जिस पर सरकार को संवेदनशील बनते हुए इस गरीबी की बिमारी का मुकम्मल निराकरण का उपाय करना चाहिए इस तरह की मौत की स्थिति मे जिला के उपायुक्त को अवश्य जिम्मेदार बनाया जाना चाहिए। सरकार भूख की शिकार चतरा के इस पीड़ित परिवार को 10लाख रुपये मुआवजा प्रदान करे।