गया-धनबाद इंटरसिटी के यात्रियों ने गोमो स्टेशन पर किया हंगामा, बेवजह ट्रेन रोके जाने से थे परेशान

गया से धनबाद को जानेवाली इंटरसिटी एक्सप्रेस कल ठीक 8.55 रात्रि में गोमो स्टेशन पहुंच गई। इसमें सवाल रेलयात्रियों को लगा कि अब उनका 30 किलोमीटर का शेष सफर जल्द ही खत्म हो जायेगा, लेकिन ये क्या उनकी ट्रेन गोमो स्टेशन पर लगी हुई है, और इसी बीच अन्य ट्रेनों को, सिग्नल ऑन कर चलाया जा रहा है, बस फिर क्या था, रेलयात्री आक्रोशित हो गये और स्टेशन मास्टर के कार्यालय में जाकर हंगामा करना शुरु कर दिया।

गया से धनबाद को जानेवाली इंटरसिटी एक्सप्रेस कल ठीक 8.55 रात्रि में गोमो स्टेशन पहुंच गई। इसमें सवाल रेलयात्रियों को लगा कि अब उनका 30 किलोमीटर का शेष सफर जल्द ही खत्म हो जायेगा, लेकिन ये क्या उनकी ट्रेन गोमो स्टेशन पर लगी हुई है, और इसी बीच अन्य ट्रेनों को, सिग्नल ऑन कर चलाया जा रहा है, बस फिर क्या था, रेलयात्री आक्रोशित हो गये और स्टेशन मास्टर के कार्यालय में जाकर हंगामा करना शुरु कर दिया।

रेलयात्रियों का कहना था कि गया-धनबाद इंटरसिटी ट्रेन ज्यादा देर तक गोमो में नहीं रुकती, पर ये पहली बार हुआ कि रेलकर्मियों की दादागिरी के कारण इस ट्रेन को बेवजह रोक दिया गया। रेलयात्रियों का कहना था कि उनका गुस्सा इस बात को लेकर ज्यादा बढ़ गया, जब शेड में खड़ी एक मालगाड़ी को खोल दिया गया और गया-धनबाद इंटरसिटी को खोलने की इन रेलकर्मियों ने जरुरत ही नहीं समझी।

जब रेलयात्रियों का आक्रोश बढ़ता गया तो स्टेशन मास्टर एस एन झा ने अपने उपर के वरीय रेल अधिकारियों को सूचना दी। बाद में रेलयात्रियों के बढ़ते दबाव को देख, उनके आक्रोश को देख कल 10.30 रात्रि में गोमो से यह ट्रेन धनबाद के लिए रवाना हुई। ऐसे भी इन दिनों धनबाद रेल मंडल में रेल सेवाओं की स्थिति बद से बदतर होती जा रही है। जिसके कारण रेलयात्रियों में आक्रोश देखा जा रहा है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

लो आया मौसम सत्तापक्ष के नेताओं के चेहरे चमकाने का, उसके बदले मुंहमांगी रकम वसूलने का

Mon Oct 8 , 2018
रांची के विभिन्न इलाकों में बड़े-बड़े होर्डिंग, बड़े-बड़े बैनर लगे हैं, जो लोगों को अपनी ओर बरबस आकर्षित कर रहे हैं। ये होर्डिंग और बैनर किसी राजनीतिक दल ने नहीं लगवाये हैं, दरअसल रांची से प्रकाशित अखबार ‘हिन्दुस्तान’ ने लगवाये है, क्योंकि अब अखबारों को भी पहचान का संकट हो गया है, इसलिए वे भी अपने यहां होनेवाले कार्यक्रमों के प्रचार-प्रसार के लिए होर्डिंग व बैनर का सहारा लेते हैं, तथा सड़कों पर लगे बिजली के खंभों में उसे लटकवाते हैं।

You May Like

Breaking News