दलित एक्ट के विरोध व आरक्षण की मांग को लेकर बिहार की सड़कों पर उतरे सवर्ण

दलित एक्ट के विरोध एवं निर्धन सवर्णों को भी आरक्षण मुहैया करने की मांग को लेकर बिहार मे कई स्थानों पर सवर्ण युवकों ने सड़क जाम की, आगजनी किये तथा कुछ जगहों पर पुलिस के साथ युवाओं की हिंसक झड़प भी हुई। सवर्ण युवकों का कहना था कि स्वतंत्रता के बाद इन 70 सालों में काफी परिवर्तन हुए हैं, आप यह नही कह सकते कि

दलित एक्ट के विरोध एवं निर्धन सवर्णों को भी आरक्षण मुहैया करने की मांग को लेकर बिहार मे कई स्थानों पर सवर्ण युवकों ने सड़क जाम की, आगजनी किये तथा कुछ जगहों पर पुलिस के साथ युवाओं की हिंसक झड़प भी हुई। सवर्ण युवकों का कहना था कि स्वतंत्रता के बाद इन 70 सालों में काफी परिवर्तन हुए हैं, आप यह नही कह सकते कि जो आज से 70 साल पहले दलितों की स्थिति थी, वह आज भी हैं, आज दलितों की जिंदगी में भी बेहतर सुधार हुआ हैं, जबकि कई स्थानों में सवर्ण परिवारों की आर्थिक स्थिति दयनीय भी हुई हैं।

सवर्ण युवकों का कहना था, केन्द्र सरकार हो या राज्य सरकार, जब आप जनता का मत प्राप्त करते हैं, तो आपको सबके लिए सोचना होगा, आप ये नहीं कह सकते कि आप एक वर्ग के लिए सोचेंगे और दुसरे वर्ग पर ध्यान नहीं देंगे, अगर आरक्षण ही बेहतर जिंदगी का आधार हैं, तो फिर सवर्णों को आरक्षण से वंचित क्यों रखा गया हैं? उन्हें भी आर्थिक आधार पर आरक्षण दिया जाय, तथा एससी-एसटी एक्ट का जो बड़े पैमाने पर दुरुपयोग हो रहा हैं, जैसे हाल ही में राजस्थान के एक पत्रकार दुर्ग सिंह राजपुरोहित और नोएडा यूपी में एक अवकाश प्राप्त कर्नल के साथ, एससी-एसटी एक्ट का दुरुपयोग किया गया, इस प्रकार की घटनाओं पर रोक लगाई जाये, नहीं तो समाज में बिखराव होगा, समाज में एकरुपता-समरसता नहीं आयेगी।

आज इन्हीं विषयों को लेकर इन सवर्ण युवकों ने बिहार बंद बुलाया था, जिसके कारण आरा के नासरीगंज-सकड्डी राजमार्ग पर सवर्णों ने चक्का जाम कर दिया, जिससे पटना और बक्सर जानेवाली गाड़ियों का लंबा जाम लग गया, स्थिति की नाजुकता को समझते हुए स्थानीय पुलिस ने बुद्धिमानी से काम लिया तथा युवाओं को समझा-बुझाकर जाम को हटाने में सफलता प्राप्त की।

वहीं गया के मानपुर में स्थानीय पुलिस को आंदोलनकारियों के साथ दो-दो हाथ करना पड़ा, यहां पुलिस ने लाठियां भी भांजी। बताया जाता है कि गया के मानपुर में आंदोलनकारियों ने उग्र रुप धारण कर लिया था, इधर पटना के खुसरुपुर में भी स्टेट हाइवे को जाम करने की कोशिश की गई। मुजफ्फरपुर के बैरिया में प्रदर्शनकारियों ने सड़कों पर आगजनी कर सड़क जाम करने की कोशिश की। लखीसराय और बेगुसराय में सड़क जाम कर बिहार बंद करने की कोशिश की गई।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

देशव्यापी मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के विरोध में रांची में नागरिक मार्च

Thu Aug 30 , 2018
झारखण्ड के मशहुर शख्सियतों द्वारा देश व झारखण्ड के मशहुर मानवाधिकार-सामाजिक-बौद्धिक एक्टिविस्टों की गिरफ्तारी, सत्ता संरक्षित जुल्म के खिलाफ, झारखण्ड के विभिन्न राजनीतिक दलों, सामाजिक संगठनों, बुद्धिजीवियों, पत्रकारों द्वारा रांची विश्वविद्यालय गेट से परमवीर अलबर्ट एक्का चौक तक नागरिक मार्च निकाला गया, जहां इन सभी ने एक मानव शृंखला भी बनाया।

Breaking News