चिन्ता न करें, महागठबंधन जल्द अपना स्वरुप लेगा, लोगों को बेवकूफ बनाना बंद करे रघुवर सरकार

झारखण्ड मुक्ति मोर्चा की केन्द्रीय समिति की एकदिवसीय विशेष बैठक आज सम्पन्न हो गई, विभिन्न राज्यों व झारखण्ड के सभी जिलों से आये झामुमो के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लेकर विभिन्न मुद्दों पर सहमति जताई, वहीं झारखण्ड में गिरती कानून-व्यवस्था, सरकार की दलित-आदिवासी विरोधी सोच तथा अन्य मुद्दों पर रघुवर सरकार की जमकर खिंचाई की।

झारखण्ड मुक्ति मोर्चा की केन्द्रीय समिति की एकदिवसीय विशेष बैठक आज सम्पन्न हो गई, विभिन्न राज्यों व झारखण्ड के सभी जिलों से आये झामुमो के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लेकर विभिन्न मुद्दों पर सहमति जताई, वहीं झारखण्ड में गिरती कानून-व्यवस्था, सरकार की दलित-आदिवासी विरोधी सोच तथा अन्य मुद्दों पर रघुवर सरकार की जमकर खिंचाई की।

केन्द्रीय समिति की बैठक की समाप्ति के बाद नेता प्रतिपक्ष हेमन्त सोरेन ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि राज्य के बदतर हालात को लेकर शीघ्र ही राज्यपाल से एक झामुमो का प्रतिनिधिमंडल मिलेगा और उनसे सरकार पर दबाव बनाने का अनुरोध करेगा, ताकि राज्य में अमन-चैन बहाल हो सके। हेमन्त सोरेन ने कहा कि इस राज्य का दुर्भाग्य है कि अमर शहीद निर्मल महतो के हत्यारों को यह सरकार रिहा कराने पर तुल गई, जिसका झामुमो कड़ा विरोध करती है और इसको लेकर उनका दल चुप नहीं बैठेगा। उन्होंने कहा पूरे देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है, उनकी पार्टी छत्तीसगढ़ में अपना उम्मीदवार उतारेगी, क्योंकि वृहत्त झारखण्ड में आज का छत्तीसगढ़ भी आता है, जिसे झामुमो अपना मानती है, वहां भी झामुमो के लोग हैं, इसलिए चुनाव कैसे लड़े, क्या रणनीति बनाई जाये, इसके लिए झामुमो सुप्रीमो को अधिकृत किया गया है।

हेमन्त सोरेन ने राज्य में दूसरे राज्यों से आनेवाले लोगों के जाति प्रमाण पत्र, झारखण्ड में बनाने की सोच पर हैरानी जताई तथा इसकी कड़ी आलोचना की। उन्होंने पिछले दिनों रघुवर सरकार द्वारा आयोजित लोकमंथन कार्यक्रम के समापन के अवसर पर लोकसभाध्यक्ष सुमित्रा महाजन के उस बयान की कड़ी आलोचना की, जो आरक्षण को लेकर थी। उन्होंने सुमित्रा महाजन की सोच को आदिवासी-दलित विरोधी बताया।

उन्होंने कहा कि राज्य में इस बार हुई कम बारिश से झारखण्ड के कई जिलों में सूखे के हालात है। किसानों की बुरी स्थिति हो गई है, इसलिए राज्य सरकार को चाहिए कि इस ओर विशेष ध्यान दें। उन्होंने सरकार द्वारा राज्य के सात हजार स्कूलों को विलय करने के प्रस्ताव की कड़ी निन्दा की, उन्होंने कहा कि अगर ऐसा हो जाता है तो राज्य के गांव पिछड़ जायेंगे, किसानों और मजदूरों के बच्चे सदा के लिए अशिक्षित हो जायेंगे।

उन्होंने कहा कि जल्द ही राज्य में महागठबंधन अपने स्वरुप को पा जायेगा, इस पर चिन्ता करने की कोई जरुरत नहीं, उन्होंने ओडीएफ मुद्दे पर सरकार की कड़ी आलोचना करते हुए कहा, सरकार को चाहिए वह लोगों को बेवकूफ बनाना बंद करें, प्रचार-प्रसार से कुछ नहीं होनेवाला, अब जनता रघुवर सरकार को अच्छी तरह जान गई है। उन्होंने बताया कि कभी जनता दल में रहे ओड़िशा के कद्दावर नेता लक्ष्मण टुडू, झामुमो की सदस्यता ग्रहण की है, इससे ओड़िशा में झामुमो और अत्यधिक मजबूत होगा।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

उषा मार्टिन के हड़ताली कर्मचारियों ने बोनस की मांग को लेकर प्रबंधन का फूंका पुतला, हड़ताल जारी

Sun Oct 7 , 2018
उषा मार्टिन के हड़ताली कर्मचारियों ने आज अलबर्ट एक्का चौक पर, इंजीनियरिंग मजदूर सभा के बैनर तले, प्रबंधन का पुतला फूंका। अलबर्ट एक्का चौक पर पुतला फूंकने आये मजदूरों का कहना था कि प्रबंधन अस्थायी मजदूरों को बोनस के रुप में 21,000 और स्थायी मजदूरों को 70,000 रुपये बोनस उपलब्ध कराए। इसी बोनस की मांग को लेकर लगभग अस्सी घंटे से उषा मार्टिन के कर्मचारी हड़ताल पर है।

Breaking News