ढुलू समर्थकों की घिनौनी करतूत, समाजसेवी विजय झा के बेटे पर लगाया झूठे छेड़खानी का आरोप, समाज स्तब्ध

मुख्यमंत्री रघुवर दास के चहेते भाजपा के बाघमारा विधायक ढुलू की बल्ले-बल्ले हैं, उसे लगता है कि दुनिया की अब कोई ताकत उसे परास्त नहीं कर सकती, सारा जिला प्रशासन उसकी मुट्ठी में हैं, वह किसी की भी इज्जत के साथ खेल सकता है, किसी पर भी हमले करा सकता है, किसी का भी शोषण कर सकता है, पर उसका कोई बाल बांका नहीं कर सकता, उसकी इस सोच पर जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन भी मुहर लगा रहा है,

मुख्यमंत्री रघुवर दास के चहेते भाजपा के बाघमारा विधायक ढुलू की बल्लेबल्ले हैं, उसे लगता है कि दुनिया की अब कोई ताकत उसे परास्त नहीं कर सकती, सारा जिला प्रशासन उसकी मुट्ठी में हैं, वह किसी की भी इज्जत के साथ खेल सकता है, किसी पर भी हमले करा सकता है, किसी का भी शोषण कर सकता है, पर उसका कोई बाल बांका नहीं कर सकता, उसकी इस सोच पर जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन भी मुहर लगा रहा है। 

आम जनता जिसे इज्जत की फिक्र है, वो फिलहाल इस विवादास्पद विधायक से लगना नहीं चाहती, क्योंकि उसे मालूम है कि उसके पास हर तरह के आदमी है, जिसे भी चाहे उसे यूज कर, वह किसी का भी नींद उड़ा सकता है, पर इन सबके बावजूद भी कुछ लोग हैं, जो अपनी ईमानदारी, सत्यता, कर्तव्यनिष्ठता तथा समाज सेवा से ढुलू और उनके समर्थकों की नींद उड़ा रखी हैं, तभी तो ऐसे लोगों से घबराए ढुलू महतो के लोगों ने कल ऐसे समाजसेवी के इज्जत से खेलने की कोशिश की। 

जिनका सम्मान पूरा बाघमारा ही नहीं, बल्कि पूरा धनबाद करता है, पर राज्य के सीएम रघुवर दास और उनके चहेते ढुलू महतो को इन सबसे क्या मतलब, वे तो सिर्फ ये जानते है कि जो उनसे टकरायेगा, वे उसकी खुशियां छीन लेंगे, उसे तबाह कर देंगे, उसकी इज्जत से खेल जायेंगे, पर कहा जाता है , जिसके साथ ईश्वर हैं, उसका बाल बांका भी नहीं हो सकता।

हम बात कर रहे हैं, कतरास के सुप्रसिद्ध समाजसेवी विजय झा की, जिनके बेटे बिट्टू पर बाघमारा के भाजपा विधायक मुख्यमंत्री रघुवर दास के चहेते ढुलू महतो के इशारे पर एक महिला ने छेड़खानी का झूठा आरोप लगा दिया। आश्चर्य है कि उक्त झूठी शिकायत पर पुलिस भी रेस में गई, वह पुलिस जो हाई कोर्ट के आदेश के बाद भी भाजपा की जिला मंत्री कमला कुमारी (जिसने ढुलू महतो पर यौन शोषण का आरोप लगाया है) के मामले में ढुलू महतो के खिलाफ एक प्राथमिकी तक दर्ज नहीं कर पाई।

स्थानीय पुलिस समाजसेवी विजय झा के घर पर पहुंच गई और मामले की तहकीकात की, वो तो अच्छा रहा कि समाजसेवी विजय झा के घर और उनके आसपास सीसीटीवी लगा है, नहीं तो विजय झा के घर और परिवार पर क्या बीतती, यह सोचकर ही उनके परिवार और उनके चाहनेवालों के होश उड़ जाते हैं। 

बताया जाता है कि ढुलू महतो के इशारे पर जिस महिला ने छेड़खानी का आरोप लगाया और जिस समय का जिक्र किया, उस समय से पहले से लेकर बाद तक के समय तक सीसीटीवी बता रहा है कि विजय झा के बेटे अपने घर पर अपने परिवार के साथ अपने काम में लगे थे। पुलिस ने पूरे मामले की तहकीकात कर रिपोर्ट तैयार कर रही है।

विजय झा इस संबंध में विद्रोही24.कॉम से कहते है कि पुलिस रात में आई, जांच की और चली गई, पुलिस भी संतुष्ट है, साथ ही जानती है कि पूरा मामला झूठ पर आधारित है, जैसे ही पुलिस इस मामले की अंतिम रिपोर्ट जारी करती है, सत्य को उजागर करती हैं, वे इस पूरे मामले पर संबंधित महिला के खिलाफ मानहानि का मुकदमा करेंगे, ताकि कोई महिला, किसी भी व्यक्ति पर, किसी के इशारे पर दाग लगा सकें। 

क्योंकि धनबाद में यह एक प्रकार से परंपरा बनती जा रही है, कुछ लोगों ने अपने पॉकेट में ऐसे लोगों को कैद कर रखा है, जो उनके इशारे पर किसी के सम्मान को चोट पहुंचा सकते हैं। उन्होंने कहा कि झूठा आरोप लगानेवाले गांठ बांध ले, कि वे उन्हें छोड़ने नहीं जा रहे, अदालत तक अपने सम्मान की रक्षा के लिए लड़ेंगे और उन लोगों को भी सम्मान दिलायेंगे, जो झूठे आरोपों के शिकार होते हैं, साथ ही इस मानहानि के मुकदमे से उन लोगों को एक सबक भी मिलेगा कि झूठे आरोप लगाने से क्या होता है?

ढुलू महतो के इशारे पर हुए इस मुकदमे से पूरा परिवार हालांकि क्षणिक तनाव में दिखा पर फिलहाल तनाव मुक्त हैं। विजय झा कहते है कि कुछ लोगों ने सारी मर्यादाएं तोड़ दी हैं, वे समझ रहे है कि इस प्रकार की घटनाओं से, वे उन्हें तोड़ देंगे, उन्हें नहीं पता कि विजय झा किस मिट्टी के बने हैं, मुगालते में रहे, अदालत में सबको आना पड़ेगा और सत्य को स्वीकार करना पड़ेगा।

लोग बताते है कि जिस महिला ने विजय झा के बेटे पर छेड़खानी का आरोप लगाया है, वह पहले भी कई लोगों पर छेड़खानी का आरोप लगा चुकी है, और बाद में उन छेड़खानी के आरोप को वापस भी ले चुकी है, यानी ब्लेकमेलिंग उसका स्वभाव रहा हैं, इधर लोगों का कहना है कि उक्त महिला ने अच्छे जगह न्यौता दे दिया हैं, अब उन सभी को राहत मिलेगी, जो अब तक इसके इस हरकत से परेशान होते रहे हैं।

इधर कमला कुमारी प्रकरण के प्रमुख गवाह विनय सिंह पर बोकारो में हमले करवाने के बाद तथा इधर कल ही सायं में विजय झा के बेटे को छेड़खानी के झूठे आरोप में फंसाने के बाद ढुलू महतो और उनके समर्थकों में खुशी देखी गई, उन्हें लगता है कि सीएम रघुवर दास की कृपा से उन्हें इस प्रकरण पर जीत मिल जायेगी। 

पर जो धनबाद में एक सभ्य समाज हैं, इस कांड से आक्रोशित है। भाजपा में ही कई लोग ऐसे हैं, जो विजय झा का बहुत ही सम्मान करते हैं, इस घटना से वे भी आश्चर्यचकित हैं, तथा विजय झा के प्रति उन्होंने गहरी सहानुभूति जताई है, उनका कहना है कि वे चिन्ता करें, सारा समाज विजय झा और उनके परिवार के साथ है, सत्य की जीत होगी।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

नवनिर्मित विधानसभा का श्रेय लेने की होड़ में CM रघुवर ने लोकतंत्र की मर्यादा को तार-तार कर डाला

Thu Sep 12 , 2019
झारखण्ड में नवनिर्मित विधानसभा  का उद्घाटन अभी से थोड़ी देर पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कर दिया है। इस नवनिर्मित विधानसभा का श्रेय लेने के चक्कर में मुख्यमंत्री रघुवर दास तथा उनके इर्द-गिर्द घूमनेवाले कनफूंकवों ने लोकतंत्र की सारी मर्यादाएं ही धूल में मिला दी। एक तो आज नवनिर्मित विधानसभा के उद्घाटन का जो विभिन्न अखबारों में विज्ञापन निकाला गया हैं,

You May Like

Breaking News