दिल्ली के CM अरविन्द केजरीवाल का आरोप, भाजपा UP और बिहार के लोगों को दिल्ली से भगाने में लगी

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल गुस्से में हैं, उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाया है कि भाजपा अपनी हार की डर से दिल्ली के करीब 30 लाख वोटरों के नाम कटवा दिये, मगर ये वोटरों के कटे नाम, वे खुद जुड़वायेंगे। वे शुक्रवार को दिल्ली के मंगोलपुरी में विकास कार्यों को शुभारम्भ करने के वक्त बोल रहे थे। अरविन्द केजरीवाल ने इस दौरान यह भी कहा कि पीएम नरेन्द्र मोदी, उनके हर विकास के काम में अड़ंगा लगाते हैं।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल गुस्से में हैं, उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाया है कि भाजपा अपनी हार की डर से दिल्ली के करीब 30 लाख वोटरों के नाम कटवा दिये, मगर ये वोटरों के कटे नाम, वे खुद जुड़वायेंगे। वे शुक्रवार को दिल्ली के मंगोलपुरी में विकास कार्यों को शुभारम्भ करने के वक्त बोल रहे थे।

अरविन्द केजरीवाल ने इस दौरान यह भी कहा कि पीएम नरेन्द्र मोदी, उनके हर विकास के काम में अड़ंगा लगाते हैं, मगर हम संघर्ष करना जानते हैं, वे जितनी बाधाएं हमारे सामने खड़ी करते हैं, हम उन बाधाओं को पार कर जाते हैं, क्योंकि हमें जनता के काम करने से ताकत मिलती है।

अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि दरअसल आसन्न लोकसभा चुनाव में भाजपा को अपनी हार साफ दिखाई पड़ रही है, इसलिए वे बौखला गये है, वे यूपी और बिहार के लोगों पर हमले करवाते है, गुजरात में भी यहीं किया, अब दिल्ली में कर रहे हैं, हाल ही में पन्द्रह लाख वोट पूर्वांचल के इसलिए कटवाएं ताकि ये दिल्ली छोड़कर चले जाये, पर उन्हें नहीं पता कि आम आदमी के कार्यकर्ता उनके सारे मंसूबों पर पानी फेरने को तैयार बैठे हैं।

उन्होंने दिल्ली की जनता को आह्वान किया कि दिल्ली की सभी सात लोकसभा सीटों पर आम आदमी पार्टी को विजय दिलाएं ताकि वे दिल्ली की जनता को और ईमानदारी से सेवा कर सकें तथा दिल्ली को उसका हक दिलवा सकें।

उन्होंने यह भी कहा कि दिल्ली में सीलिंग को भाजपा के लोग जानबूझकर नहीं रोकना चाहते, अगर भाजपाइयों को सीलिंग रोकने की तनिक भी मंशा होती तो संसद के माध्यम से एक मिनट में ही सीलिंग रोकी जा सकती थी, मगर इनकी तो मंशा दिल्ली के लोगों को उजाड़ने की है, उनसे बदला लेने की है, कि दिल्ली वालों ने उन्हें दिल्ली में सत्ता नहीं दिलाई, 70 सीटों में से 67 सीटें आम आदमी पार्टी को क्यों दे दी?

Krishna Bihari Mishra

Next Post

आखिर कितने पारा टीचरों के मौत के बाद अपने CM रघुवर दास की नींद टूटेगी?

Sun Jan 13 , 2019
आज सारठ प्रखण्ड के ग्राम बलवा के पारा शिक्षक राजेन्द्र यादव की मौत इलाज के दौरान पटना में हो गई। राजेन्द्र यादव पिछले कई दिनों से गंभीर बीमारी से पीड़ित थे, आज उनकी जीवन लीला ही समाप्त हो गई। अकेले राजेन्द्र यादव ही नहीं बल्कि अब तक दर्जनों पारा शिक्षकों की मौत हो गई, एक पारा शिक्षक लापता है, पर उसे ढूंढने का जिम्मा भी राज्य सरकार और उसकी पुलिस नहीं उठा रही,

Breaking News