CPIML ने महागठबंधन को समझाया, कोडरमा में BJP को सिर्फ CPIML ही रोक सकती है, दूसरा नहीं

भाकपा माले राज्य कमेटी की बैठक पार्टी राज्य कार्यालय में संपन्न हुई। बैठक मूलतः संसदीय चुनाव की तैयारी को लेकर आयोजित की गई। बैठक में यह निर्णय लिया गया कि भाकपा माले झारखंड में कोडरमा और पलामू संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ेगी। इसके अलावा वामदल जहां पर चुनाव लड़ेंगे,  वहां पर वाम दलों को भाकपा माले समर्थन करेगी। शेष सीटों पर बीजेपी को रोकने के लिए पूरे राज्य में अभियान संचालित करेगी।

भाकपा माले राज्य कमेटी की बैठक पार्टी राज्य कार्यालय में संपन्न हुई। बैठक मूलतः संसदीय चुनाव की तैयारी को लेकर आयोजित की गई। बैठक में यह निर्णय लिया गया कि भाकपा माले झारखंड में कोडरमा और पलामू संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ेगी। इसके अलावा वामदल जहां पर चुनाव लड़ेंगेवहां पर वाम दलों को भाकपा माले समर्थन करेगी। शेष सीटों पर बीजेपी को रोकने के लिए पूरे राज्य में अभियान संचालित करेगी।

इसके साथ ही इस बात की चर्चा की गई कि गठबंधन वाले जो कोडरमा संसदीय क्षेत्र को हजारीबाग क्षेत्र के खिलाफ खड़ा करने की कोशिश कर रहे हैं वह उनकी बौनापन है। भाकपा माले कोडरमा में मजबूती से चुनावी संघर्ष में भाजपा के खिलाफ में खड़ी है। एकमात्र भाकपा माले ही इस क्षेत्र से भाजपा को पराजित कर सकती है। इसीलिए गठबंधन की पार्टियों को यह चाहिए कि कोडरमा में माले का समर्थन करें भाजपा विरोधी वोटों का बंटवारा होने से रोके।

पूरे राज्य में भाजपा को अलगथलग करने में कोडरमा की धरती पर लाल झंडे को साथ दें। जहां तक हजारीबाग क्षेत्र का मामला है तो कांग्रेस हजारीबाग में भाकपा का समर्थन करें यह अच्छी बात है। भाकपा उस इलाके से कई बार जीती है। पूरे झारखंड में वामपंथ की जो ताकत है, उस ताकत के अनुकूल हजारीबाग संसदीय क्षेत्र और कोडरमा क्षेत्र में अगर गठबंधन के लोग लाल झंडे का साथ देते हैं तो इसके जरिए पूरे राज्य में भाजपा को रोकने की जो मुहिम है, उसमें वाम कतारें भी पूरे झारखंड में एक सक्रिय भूमिका निभा सकती है और भाजपा को पूरी तरह से अलगाव में डाल सकती है। 

बैठक में रांची में 16 लोगों पर प्रशासन द्वारा जो मुकदमा किया गया है, उसके खिलाफ राज्य कमेटी ने प्रस्ताव लिया और चुनाव आयोग से अपील की है कि उनसे मुकदमे वापस ले, अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों लोकतांत्रिक शक्तियों को इस चुनाव के मौके पर प्रताड़ित करना बंद करें। बैठक मे भगत सिंह जयंती 23 मार्च को संकल्प दिवस के रूप में मनाने का निर्णय हुआ। 25 मार्च को रांची मे माले महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य की उपस्थिति मे आयोजित पीसी मे माले प्रत्याशियों और भाकपामाले का घोषणापत्र जारी किया जाएगा। 

राज्य कमेटी की बैठक में भाकपा माले राज्य सचिव जनार्दन प्रसाद, केंद्रीय कमेटी सदस्य मनोज भक्त, विनोद सिंह, शुभेंदु सेन, गीता मंडल, राजकुमार यादव, उस्मान अंसारी, मोहन दत्ता, सुषमा मेहता, आर एन सिंह, रविंद्र भुइयां, बिरजू राम, देवकीनंदन बेदिया, देव दीप सिंह दिवाकर समेत सभी राज्य कमेटी सदस्य बैठक में उपस्थित थे।                      

Krishna Bihari Mishra

Next Post

झारखण्ड सिविल सोसाइटी ने लोगों को सावधान किया -‘बच के रहना झारखण्डवालों, अपने चौकीदारों से’

Fri Mar 22 , 2019
ये पंक्तियां राज्य की जनता के दर्द को बयां करती हैं। कोई भी कविताएं ऐसे ही जुबां पर नहीं आ जाती, वह तभी आती है, जब दर्द बर्दाश्त के बाहर हो, जरा देखिये राज्य के क्या हालात कर दिये हैं, राज्य की रघुवर सरकार ने? अगर झारखण्ड सिविल सोसाइटी ने राज्य की जनता से यह कह दिया कि बच के रहना झारखण्डवालों, अपने चौकीदारों से, तो ये गलत थोड़े ही हैं।

Breaking News