झारखण्ड में भूख से हो रही मौत से खफा कांग्रेसी, मंत्री सरयू राय से इस्तीफा मांगने पहुंचे उनके घर

झारखण्ड में लगातार हो रही भूख से मौतें और इधर गिरिडीह और चतरा में भूखजनित बीमारी से हुई मौत को लेकर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सैकड़ों कार्यकर्ता आलोक दूबे के नेतृत्व में, खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय से इस्तीफा मांगने को लेकर सरयू राय के आवास पर आ धमके। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता आलोक दूबे के नेतृत्व में सैकड़ों प्रदर्शनकारियों के मंत्री सरयू राय के आवास पर पहुंचने तथा प्रदर्शन करते देख स्थानीय पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार कर लिया।

झारखण्ड में लगातार हो रही भूख से मौतें और इधर गिरिडीह और चतरा में भूखजनित बीमारी से हुई मौत को लेकर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सैकड़ों कार्यकर्ता आलोक दूबे के नेतृत्व में, खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय से इस्तीफा मांगने को लेकर सरयू राय के आवास पर आ धमके। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता आलोक दूबे के नेतृत्व में सैकड़ों प्रदर्शनकारियों के मंत्री सरयू राय के आवास पर पहुंचने तथा प्रदर्शन करते देख स्थानीय पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार कर लिया।

मंत्री सरयू राय के आवास पर पहुंचने के पूर्व इन कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने डोरण्डा अम्बेडकर चौक से जुलूस निकाला, तथा सरयू राय इस्तीफा दो, मौत के जिम्मेदार मंत्री इस्तीफा दो का नारा लगाते हुए, ये सभी मंत्री सरयू राय के आवास पर पहुंचे और वहां प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान पुलिसकर्मियों और कांग्रेसी प्रदर्शनकारियों में झड़प भी हुई। इधर मंत्री सरयू राय के आवास के अंदर प्रवेश करने के आरोप में स्थानीय पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया।

आलोक दूबे का कहना था कि कांग्रेस पार्टी मंत्री सरयू राय का इस्तीफा लेकर राज्यपाल को सौंपना चाहती हैं, लेकिन सरकार उन्हें थाना ले आई। उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्य है कि देश 21 वीं सदी में पहुंच रहा है और यहां लोग भूख से मर रहे हैं। उन्होंने कहा कि झारखण्ड में अब तक नौ लोगों की भूख से मौत हो गई, लेकिन किसी पीड़ित के यहां न तो सरकार गई और न मंत्री पहुंचे। उन्होंने कहा कि जब तक मंत्री सरयू राय इस्तीफा नहीं दे देते, कांग्रेसियों का आंदोलन जारी रहेगा।

आज मंत्री आवास पर प्रदर्शन के दौरान जिन्हें गिरफ्तार कर, बाद में निजी मुचलके पर छोड़ दिया गया। उनके नाम इस प्रकार है – अख्तर हुसैन, अख्तर अली, फिरोज रिजवी, संजीत यादव, अभिषेक साहू, उमर खान, डॉली लिंडा, तौकिर आलम, राजेश चंद्र राजू, उदय विश्वकर्मा, शशि कुमारी, कृष्णा यादव, नीरज कुमार सिंह, राम जी राय, आतिफ अंसारी और राकेश सिंह।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

CM रघुवर का विभाग IPRD, जहां एक सही पत्रकार को अधिमान्यता के लिए नाक रगड़ने पड़ते हैं

Thu Jun 7 , 2018
जब कोई पत्रकार सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के द्वारा बनाये गये नियमों का सम्मान करते हुए, उसके नियमों का पालन करता है, तो फिर ऐसे में सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के अधिकारियों को उसे अधिमान्यता प्रदान करने में क्यों दिक्कत होती हैं? ये समझ से परे हैं। चलिये ये भी मान लिया कि आपको उक्त पत्रकार को अधिमान्यता देने में दिक्कत आ रही हैं, या उससे आप घृणा करते हैं,

Breaking News