जमुई जेल में सेंधमारी, कैदियों पर संदेह, पुलिस प्रशासन के उड़े होश

बिहार के जमुई जेल की दीवार में लगी सेंध को देख स्थानीय पुलिस प्रशासन के होश उड़ गये हैं, दरअसल जमुई जेल में हुई सेंधमारी की खबर छात्रों और शिक्षकों को मिली, और इसकी सूचना तत्काल पुलिस अधिकारियों को दे दी गई। मौके वारदात पुलिस प्रशासन की टीम भी पहुंच गई और पूरी स्थिति का जायजा लेते हुए, जेल की सुरक्षा बढ़ा दी गई।

बिहार के जमुई जेल की दीवार में लगी सेंध को देख स्थानीय पुलिस प्रशासन के होश उड़ गये हैं, दरअसल जमुई जेल में हुई सेंधमारी की खबर छात्रों और शिक्षकों को मिली, और इसकी सूचना तत्काल पुलिस अधिकारियों को दे दी गई। मौके वारदात पुलिस प्रशासन की टीम भी पहुंच गई और पूरी स्थिति का जायजा लेते हुए, जेल की सुरक्षा बढ़ा दी गई।

लोग बताते है कि जमुई मंडल कारा की दीवार के एक ओर बुनियादी स्कूल है तो दूसरी ओर जेल है, जिसमें लगभग 700 कैदी बंद है, इन कैदियों में दुर्दांत अपराधी भी है, और कई हार्डकोर नक्सली भी बंद है, ऐसे में जेल में सेंधमारी पुलिस प्रशासन के होश उड़ा दिये हैं।

लोगों का कहना है कि जब सुबह बच्चे स्कूल पहुंचे तब खेलने के क्रम में उन्होंने जेल की दीवार में सुराख देखा और फिर अपने शिक्षक को इसकी जानकारी दी, इसके तुरंत बाद पुलिस और जेल प्रशासन को इसकी सूचना दी गई। घटना की जानकारी मिलते ही स्थानीय पुलिस प्रशासन की टीम घटनास्थल पर पहुंची और स्थिति का जायजा लिया और जेल की सुरक्षा बढ़ाने का निर्देश दिया।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

झारखण्ड में मगही, भोजपुरी, मैथिली और अंगिका को मिला द्वितीय भाषा का दर्जा

Wed Mar 21 , 2018
झारखण्ड कैबिनेट ने एक महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए मगही, भोजपुरी, मैथिली तथा अंगिका को झारखण्ड राज्य की द्वितीय भाषा घोषित करने के लिए बिहार राजभाषा (झारखण्ड संशोधन) अध्यादेश 2018 के प्रारुप को स्वीकृति प्रदान कर दी। ज्ञातव्य है कि इससे पूर्व झारखण्ड राज्य में 12 भाषाओं उर्दू, संथाली, मुंडारी, हो, खड़िया, कुरुख (उरांव), कुरमाली, खोरठा, नागपुरी, पंचपरगनिया, बांगला और उड़िया भाषा को द्वितीय राजभाषा का दर्जा दिया जा चुका है।

Breaking News