ब्राह्मणों के खिलाफ CM रघुवर दास ने आग उगला, ब्राह्मण समुदाय में भड़का आक्रोश

झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास पूरे भारत में सिंगल पीस हैं, वे क्या बोलते हैं? कहां बोलते है? उसका क्या प्रभाव पडे़गा? उससे सामाजिक समरसता बिगड़ेगी या किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचेगी, उससे कोई उनका मतलब नहीं होता, वे अपनी मस्ती में डूबे होते हैं, ये मस्ती कहां से आती हैं, हमें नहीं पता। जरा देखिये पिछले 6 दिसम्बर को वे पलामू में थे, सभा कर रहे थे, बजट पूर्व परिचर्चा पर। परिचर्चा क्या खाक करेंगे, उलटे वे जातिवाद के नाम पर ऐसा बीज बोकर आ गये हैं, कि पूरा पलामू लहक उठा हैं, और इसकी आग धीरे-धीरे पूरे झारखण्ड को लील रही हैं।

हालांकि, इस मुद्दे पर रांची से निकलनेवाले सारे अखबार पूरी झारखण्ड की जनता को धोखा दे रहे हैं, ये पलामू की आग को पलामू तक ही सीमित रखे हुए हैं, उन्हें लगता है कि ऐसा कर वे पत्रकारिता धर्म का निर्वहण कर रहे हैं, जबकि सच्चाई यह है कि झारखण्ड के एक बडे तबके को पता ही नहीं, कि झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने संवैधानिक पद पर रहकर कितना बड़ा समाज में विषमता का बीज बो दिया। पलामू की सभा में उन्होंने ब्राह्मणों के खिलाफ जमकर आग उगला हैं, उनकी माने तो पलामू, गढ़वा, लातेहार में जो बिचौलिये हैं, वे सारे के सारे ब्राह्मण हैं, और इनका काम हैं समाज को लूटना।

जरा स्वयं देखिये ये हैं सीएम का भाषण –

https://www.facebook.com/kbmishra24/videos/1646308978766349/

“पलामू गढ़वा लातेहार में बहुत बिचौलिया हैं। ये बिचौलिया विभिन्न राजनीतिक दलों में, कुछ दिया लिया गरीब लोगों को, वोट खरीद के ले गया यहीं हुआ न, बता भइया कहीं जात के नाम पर लिया, कि हम ब्राह्मण है, शादी ब्राह्मण में होता है, जात बेटी का, भोजपुरी में बोलता है न, हां बेटी-रोटी, वो जनता लोग को मूर्ख बनाया नेता लोग, जातिवाद के नाम पर, न संप्रदायवाद चला, विकासवाद की राजनीति अब चलेगा।“

सीएम रघुवर दास के खिलाफ पूरे झारखण्ड में फैला आक्रोश

हालांकि मुख्यमंत्री कितना विकास कर रहे हैं, वह सबको पता है, पर पलामू में जिस प्रकार उन्होंने विकास के लिए एक जाति को निशाना बनाया, उससे पूरे ब्राह्मण जाति में आक्रोश व्याप्त हैं। ब्राह्मणों का कहना है कि किसी भी जाति में एक-दो लोग गलत हो सकते हैं, पर उसके लिए पूरे ब्राह्मण समुदाय को अपराधी करार देना, ये एक सीएम को शोभा नहीं देता। कुछ लोग यह भी कहते है कि अगर ब्राह्मण जातिवादी होता तो डालटनगंज से इन्दर सिंह नामधारी कभी चुनाव नहीं जीतते, इसी प्रकार पूरा पलामू प्रमंडल ब्राह्मण बहुल क्षेत्र हैं फिर भी यहां से ब्राह्मण विधायकों की संख्या मात्र एक ही है।

रघुवर दास को मालूम होना चाहिए कि ब्राह्मणों के वोट से ही वे सत्ता में हैं और उनकी पार्टी जीवित है। उनके सारे के सारे नेता चाहे पं. दीन दयाल उपाध्याय हो, या अटल बिहारी वाजपेयी, जाकर उनसे भी जाकर यहीं बात कहें तो ज्यादा अच्छा रहेगा। एक सीएम और उसका इस प्रकार से निकृष्टतम भाषण सचमुच पूरे राज्य के लिए दुखद है।

रघुवर दास ने संवैधानिक मर्यादाएं लांघ दी, पार्टी को इन्हें निलंबित कर देना चाहिए – के एन त्रिपाठी

इसी बीच झारखण्ड के पूर्व ग्रामीण विकास मंत्री के एन त्रिपाठी ने कहा है कि मुख्यमंत्री रघुवर दास ने पलामू प्रमंडल में जातिवाद, ब्राह्मणवाद हावी होने की बात कहकर संविधान को गाली दी है। संवैधानिक पद पर बैठा व्यक्ति मुख्यमंत्री, जातीय, धार्मिक, क्षेत्रीय आधार पर भेदभाव नहीं कर सकता। संविधान में धार्मिक, जातीय, भेदभाव करने की मनाही है और बतौर मुख्यमंत्री ने इसकी शपथ ले रखी है। रघुवर दास हमेशा विवादित बयान देने के लिए जाने जाते है। कांग्रेस ने गलतबयानी करने के कारण मणिशंकर अय्यर को पार्टी से निलंबित कर दिया, भाजपा भी रघुवर दास को गलत बयान के लिए निलंबित करें।

के एन त्रिपाठी ने यह भी कहा कि अगर पलामू प्रमंडल में जातिवाद है, तो वे बताये कि पलामू का सांसद और इस क्षेत्र के कौन- कौन विधायक है, जो ऐसा कर रहे हैं, कुल मिलाकर सभी तो भाजपा से ही जुडे़ हैं, यानी खुद की गलती को आप ब्राह्मण पर थोप रहे हैं। इधर पूरे पलामू के विभिन्न प्रखण्डों में ब्राह्मण समुदाय सड़कों पर उतर चुका हैं, और सीएम रघुवर दास का पुतला फूंकना प्रारंभ कर दिया है, पर दुर्भाग्य है कि इन सारी घटनाओं पर रांची से प्रकाशित सारे अखबार और चैनल चुप्पी साध रखे हैं, तथा मुख्यमंत्री रघुवर दास की छवि सुधारने में लगे हैं, इधर जमशेदपुर से भी खबर है कि ब्राह्मण समुदाय से जुड़े संगठन मुख्यमंत्री रघुवर दास के खिलाफ अपना आक्रोश व्यक्त करने के लिए सड़क पर उतरेंगे।

18 thoughts on “ब्राह्मणों के खिलाफ CM रघुवर दास ने आग उगला, ब्राह्मण समुदाय में भड़का आक्रोश

  • December 12, 2017 at 9:01 am
    Permalink

    Chief minister ko yesa bayan dena galat hai

  • December 12, 2017 at 10:02 am
    Permalink

    गलती ब्राह्मणों में हैं मुख्यमंत्री में नहीं।
    जब मुख्यमंत्री जातिवाद पर उतर आए हैं तो सभी ब्राह्मणों को बीजेपी से नाता तोड़ लेना चाहिए।।

    अजय कुमार तिवारी पत्रकार

  • December 12, 2017 at 7:54 pm
    Permalink

    20 salo se mera pura pariwar bjp ko vote deta aaya hai A B bajpai ke naam par.lekin cm Raghuar das ke bayan se mai marmahat hoon.jati ki bhasa bolne wale raghubar das ko bahar ka rasta dikha dena chahiye.PM MODI ke chalte ye satta me hai ,barna ye uss layak hai bhi nahi.BJP me sirf MODI ko log jante hai ,Raghubar ko nahi.pm modi ji ko inke khilaf Action lena chahiye.

  • December 12, 2017 at 9:03 pm
    Permalink

    If such a comment could have been told against any of the S. C. or S. T., this could have been led to legal action against the person at the helm of affairs.

  • December 12, 2017 at 9:58 pm
    Permalink

    इस मुख्यमंत्री को यह पता नहीं है ब्राम्हण लोग शादी कराते हैं तो श्राद्ध भी ब्राम्हण ही करवाते हैं मेरी निजी राय है भाजपा को तत्काल प्रभाव से रघुवर दास को निकाल देना चाहिए

  • December 13, 2017 at 10:49 am
    Permalink

    रघुवर दास जी से मेरी एक ही विनती है कि वो जिस तरह ब्रह्ममण समाज को भला बुरा बोले हैं उससे भाजपा को भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है क्रिप्या आप माफी मांग ले इसी में भलाई है

  • December 13, 2017 at 11:23 am
    Permalink

    Manniye mantri ji jatiwad bismtaon ko khatam karna per jor dijie gora kala ka bhed dalne ka nahi.

  • December 13, 2017 at 3:14 pm
    Permalink

    डूब कर मरने वाली बात कही जब ये peda हुआ या शादी हुई तो इसके बाप ने कराई थी नाम करण व शादी नहि ना ब्राह्मण ने ही करवाई थी ओर राजनीतिक भविष्य क्या होगा cm बनूँगा तो पूजा पथ भी उपाय भी तेरे बाप से ही करवाए होंगे हे ना

    • December 13, 2017 at 9:24 pm
      Permalink

      सही कहा आपने 👍👍👍

    • December 14, 2017 at 6:09 pm
      Permalink

      Bilkul shi kha aapne

  • December 13, 2017 at 8:59 pm
    Permalink

    रघुवर दास भाजपा को डुबोने के लिए अपनी पुरी ताकत लगा रहा है।केन्द्रीय नेतृत्व को तय करना है कि झारखंड में अगली बार चुनाव जीतना है या नहीं।रघुवरदास हटाओ, भाजपा बचाओ।।

  • December 13, 2017 at 9:09 pm
    Permalink

    Ham nhi itIhas bolta h..
    Brahmno se brahmand dolta h
    Jai brahman jai parshuram

  • December 13, 2017 at 9:22 pm
    Permalink

    रघुवर दास को निलम्बित किया जाए…

  • December 13, 2017 at 9:28 pm
    Permalink

    कुंठित, ब्राह्मण विरोधी , संवैधानिक पद का हनन करने बाले झारखंड CM रघुवर दास को उसके पद से तत्काल निलम्बित किया जाए,, नही तो इसका खामियाजा भाजपा को भुगतना पडेगा |

  • December 14, 2017 at 5:08 pm
    Permalink

    गद्दार नेता की है पहचान

  • December 14, 2017 at 6:45 pm
    Permalink

    Is election me AGR ragubar das RHA to *bjp*ko har nischit hai

  • December 14, 2017 at 10:44 pm
    Permalink

    Brahmins ko gali Dena fashion Ho reha hai.CM Raghuver Daas ne BJP Ki soch hi batai hai ab poore desh me Brahmins ko kinare Ker rajneet chalne wali hai
    Kuch chatukaar ya prabhvi Brahmins ko chodker .
    Kisi party me samman nahi hai
    Jago nahi to bahut der Ho jayegi

  • December 25, 2017 at 12:56 am
    Permalink

    Jis din sabarn ek ho jayega usdin sab party rajniti bhul jayega

Comments are closed.