यौन शोषण की शिकार भाजपा नेत्री ने कहा, न्याय नहीं मिला तो पूरे परिवार के साथ कर लेगी आत्मदाह

यौन शोषण की शिकार धनबाद भाजपा की जिला मंत्री कमला कुमारी ने आज धनबाद के गांधी सेवा सदन में पत्रकारों के बीच कहा कि अगर उसे न्याय नहीं मिला, तो वह अपने पूरे परिवार के साथ आत्मदाह कर लेगी। उसने कहा कि जब से उसने सही बात जनता के सामने रखा, उसका जीना मुहाल कर दिया गया है। उसके आजीविका पर प्रहार किया जा रहा है, पुलिस उसकी सुन ही नहीं रही।

यौन शोषण की शिकार धनबाद भाजपा की जिला मंत्री कमला कुमारी ने आज धनबाद के गांधी सेवा सदन में पत्रकारों के बीच कहा कि अगर उसे न्याय नहीं मिला, तो वह अपने पूरे परिवार के साथ आत्मदाह कर लेगी। उसने कहा कि जब से उसने सही बात जनता के सामने रखा, उसका जीना मुहाल कर दिया गया है। उसके आजीविका पर प्रहार किया जा रहा है, पुलिस उसकी सुन ही नहीं रही।

उसने यह भी कहा कि भाजपा विधायक ढुलू महतो का आतंक इतना सर चढ़ कर बोल रहा है कि भाजपा का कोई नेता भी सच जानते हुए, एक शब्द नहीं बोल रहा, क्योंकि उसे पता है कि इसका परिणाम क्या होगा?  कमला ने यह भी कहा कि अब तो उस पर ढुलू महतो के लोग आक्रमण भी करने लगे है, यहीं कारण है कि उसने अपने बच्चों और बेटी को स्कूल-कॉलेज जाने से मना कर दिया  है, क्योंकि उसे डर है कि उसके परिवार के साथ कुछ भी हो सकता है।

कमला ने कहा कि ढुलू महतो का ये कहना कि वह सांसद रवीन्द्र पांडे के कहने पर ऐसा कर रही है, सफेद झूठ है, भला वह किसी शरीफ व्यक्ति को क्यों बदनाम करेगी? उसने कहा कि ये सब काम ढुलू महतो के यहां होता होगा, उसके यहां ये सब काम नहीं होता है, वह संघर्ष करेगी, उसे न्याय मिलेगा? उसे आशा ही, नहीं बल्कि पूर्ण विश्वास है, उसका संघर्ष जाया नहीं जायेगा।

कमला ने यह भी कहा कि ढुलू महतो सीबीआई की जांच की बात करते है, मैं भी कहती हूं कि सीबीआई जांच हो, इससे अपने आप दूध का दूध पानी का पानी हो जायेगा। मैं तो कहूंगी कि सीबीआई, दस साल का कॉल डिटेल्स उसका और ढुलू का निकाल लें तो पता लग जायेगा कि ढुलू महतो कितने महान और आदर्श विधायक है? कमला ने यह भी कहा कि आज जो लोग इस मुद्दे पर चुप है, वे यह न भूलें कि उनके घर में भी बहू-बेटियां है, कल उनके साथ भी ऐसा हो सकता है, इसलिए इस मुद्दे पर अपनी जूबां खोले, उसके संघर्ष में साथ दें।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

झारखण्ड के शिक्षा विभाग को पता ही नहीं, इधर लक्षद्वीप ने बच्चों के स्कूल बैग और पढ़ाई की सुध ले ली

Mon Nov 26 , 2018
जब छोटा सा केन्द्रशासित प्रदेश लक्षद्वीप, भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय के निर्देशों को पालन करने में रुचि दिखा सकता है, उसे क्रियान्वयन करने के लिए सक्रिय हो सकता है, तो झारखण्ड में ऐसा देखने को क्यों नहीं मिल सकता, पर यहां का शिक्षा विभाग रुचि लेगा तभी न। यहां तो झारखण्ड को दूहने से किसी को फुर्सत ही नहीं।

Breaking News