एक करोड़ से अधिक की राशि जमा करनेवाले लोगों पर जल्द ही बड़ी कार्रवाई

बिहार एवं झारखण्ड के प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त कैलाश चंद्र घुमरिया ने आज रांची में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि वित्तीय वर्ष 2017-18 में आयकर वसूली का जो लक्ष्य बिहार एवं झारखण्ड को दिया गया हैं, वह लगभग 13200 करोड़ है, इसमें से 8100 करोड़ की वसूली हो चुकी है। 13200 में झारखण्ड का लक्ष्य 2750 करोड़ का है और इसके एवज में 1154 करोड़ रुपये वसूली कर ली गई है।

बिहार एवं झारखण्ड के प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त कैलाश चंद्र घुमरिया ने आज रांची में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि वित्तीय वर्ष 2017-18 में आयकर वसूली का जो लक्ष्य बिहार एवं झारखण्ड को दिया गया हैं, वह लगभग 13200 करोड़ है, इसमें से 8100 करोड़ की वसूली हो चुकी है। 13200 में झारखण्ड का लक्ष्य 2750 करोड़ का है और इसके एवज में 1154 करोड़ रुपये वसूली कर ली गई है। पिछले वित्तीय वर्ष में आज की तारीख तक रिफंड 1526 करोड़ हुए थे, इस वित्तीय वर्ष में लगभग 2386 करोड़ रिफंड निर्गत कर दिये गये है, लगभग 850 करोड़ का रिफंड ज्यादा है।

उनका कहना था कि अभी उन्हें इस वित्तीय वर्ष 2017-18 में मार्च तक लक्ष्य प्राप्ति के लिए 5000 करोड़ आयकर की वसूली करनी है। 13200 करोड़ के हमारे लक्ष्य में टीडीएस का लक्ष्य लगभग 8500 का है। आज की तारीख में टीडीएस का वसूली 5443 करोड़ रुपये हो चुका है। नये करदाता बनाने के लिए बिहार एवं झारखण्ड को 5,02,000 का नया लक्ष्य दिया गया था, जिसमें 75% यानी 376500 बना लिये गये है और उनका लक्ष्य, उनके और मीडिया के प्रयास से पूरा हो जायेगा। उन्होंने मीडिया से अनुरोध किया कि वह सहयोग करें। इसमें झारखण्ड का लक्ष्य 188363 रखा गया है, जिसमें 131475 नये करदाता बनाये जा चुके है।

उन्होंने कहा कि ऑपरेशन क्लीन मनी के अंतर्गत बड़ी संख्या में करदाता निशाने पर है, 104 व्यक्तियों द्वारा एक करोड़ से अधिक की राशि अपने खाते में नकद जमा की गई है, एवं 1815 व्यक्तियों द्वारा एक करोड़ से नीचे की राशि नकद जमा की गई है। ऐसे व्यक्तियों के खिलाफ विभाग कार्रवाई कर रही है और आनेवाले समय में बड़ी कार्रवाई की जायेगी।

उन्होंने कहा कि सरकार ने आयकर विवरणी फाइल करने की तिथि में बड़ी फेरबदल की है, निर्धारण वर्ष 2017-18 की विवरणी 31 मार्च 2018 तक फाइल करना अनिवार्य है, इसके बाद आप निर्धारण वर्ष 2017-18 का विवरणी फाइल नहीं कर पायेंगे। कुछ करदाता अपने विवरणी को निर्धारित समय पर फाइल न कर लेट से फाइल करने के आदी है और इनके द्वारा उलटा-सीधा कर अपने आय को छिपाया जाता है, वैसे करदाता आयकर के निशाने पर है, इन्हें बक्शा नहीं जायेगा। कुछ वैसे भी करदाता है जो कि अग्रिम कर देने में आना-कानी करते है और अपने वास्तविक आय को छिपाते है, वे भी हमारे निशाने पर है, हमारे अधिकारी वैसे करदाताओं का सूची बना चुके है। विभाग वैसे करदाताओं के खिलाफ सर्वे अभियान चला रही है, और आनेवाले समय में इसे और भी तेज किया जायेगा, अगर करदाता ऐसा समझते है कि आयकर विभाग से अपने आय को छिपा लेंगे तो वे अपनी भूल सुधार लें।

उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने सेल कम्पनियों की एक सूची बनाई हैं, जो बेनामी सम्पत्ति का हवाला के माध्यम से इधर-उधर करने का काम करते है, इनके खिलाफ विभाग काम कर रहा है, और जल्द ही इनके उपर बड़ी कार्रवाई की जायेगी।

उन्होंने कहा कि टीडीएस एवं टीसीएस के संबंध में भी बड़ी कार्रवाई की जा रही है, अब तक झारखण्ड में 114 करदाता के खिलाफ प्रोस्क्यूशन फाइल किये जा चुके है, जिसमें निर्धारण अधिकारी द्वारा 16 एवं टीडीएस अधिकारी द्वारा 98 प्रोस्क्यूशन फाइल किये गये है और आगे भी बड़ी कार्रवाई की जानी है। वैसे लोग, जो टीडीएस और टीसीएस एकत्रित कर सरकार के खाते में जमा नहीं कराते हैं वे अब बचनेवाले नहीं है। घुमरिया ने वैसे करदाताओं, जिन्होंने अपनी आय छिपाई है, उनके बारे में कहा कि विभाग उन्हें छोड़ने नहीं जा रहा, उनके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करने जा रही है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

भाकपा माले का 10 वां राष्ट्रीय महाधिवेशन 23 मार्च से मानसा पंजाब में

Thu Mar 8 , 2018
पिछले तीन वर्षों से मोदी सरकार द्वारा लोकतंत्र पर किये जा रहे हमले तथा कॉरपोरेट-सांप्रदायिक ताकतों का देश में फैलता जाल के खिलाफ भाकपा माले पंजाब के मानसा में राष्ट्रीय महाधिवेशन करने जा रही है। इस बात की जानकारी भाकपा माले के राष्ट्रीय महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य ने रांची में दी। उनका यह भी कहना था कि भाकपा माले का राष्ट्रीय महाधिवेशन 23 मार्च 2018 से प्रारंभ होगा।

Breaking News