हाथी उड़ानेवाले रघुवर को छत्तीसगढ़ के जंगल में भेजने का प्रबंध करें, हमारी सरकार बनी, कई मंत्री जेल में होंगे – हेमन्त

तमाड़ में पहली चुनावी सभा को संबोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष हेमन्त सोरेन ने आज सीएम रघुवर को खुब खरी-खोटी सुनाई, तथा राज्य की दुर्दशा के लिए सीएम रघुवर को खुब लताड़ा, आश्चर्य इस बात की रही, कि जब हेमन्त सोरेन अपनी बातें रख रहे थे, उस वक्त जनता ने उनकी हां में हां भी मिलाई, हेमन्त ने इस दौरान अपनी सरकार और वर्तमान सरकार के बीच तुलनात्मक विश्लेषण भी किया, जिसे जनता ने एकमत से स्वीकारा

तमाड़ में पहली चुनावी सभा को संबोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष हेमन्त सोरेन ने आज सीएम रघुवर को खुब खरी-खोटी सुनाई, तथा राज्य की दुर्दशा के लिए सीएम रघुवर को खुब लताड़ा, आश्चर्य इस बात की रही, कि जब हेमन्त सोरेन अपनी बातें रख रहे थे, उस वक्त जनता ने उनकी हां में हां भी मिलाई, हेमन्त ने इस दौरान अपनी सरकार और वर्तमान सरकार के बीच तुलनात्मक विश्लेषण भी किया, जिसे जनता ने एकमत से स्वीकारा कि उनके शासनकाल में, वर्तमान सरकार की अपेक्षा बेहतर काम हुई थी।

भाजपा आजसू दोमुंहां सांप, लूटेरों का दस्ता

हेमन्त सोरेन ने भाषण में कहा कि भाजपा और आजसू जो आज भी सरकार में शामिल हैं, दरअसल ये दोनों दोमुंहा सांप हैं, लूटेरों का दस्ता हैं, जो दिखावे के लिए वर्तमान में एक दूसरे से लड़ रहे हैं, पर दरअसल दोनों एक ही हैं, जैसे ही चुनाव समाप्त होगा, ये दोनों एक हो जायेंगे, इसलिए ऐसी पार्टियों से आम जनतो को सावधान रहने की जरुरत है। उन्होंने कहा कि जैसे चोर लूटेरा अपनी लूट को अंजाम देने के लिए एक लूट वाले स्थान को जाता हैं और दूसरा अन्य लोगों को आंख में धूल झोंकने के लिए दूसरी जगह का रुख करता हैं, दरअसल फिलहाल दोनों यहीं कर रहे हैं। दोनों अपनी-अपनी दुकानदारी चला रहे हैं, जिससे सावधान रहने की जरुरत हैं।

उन्होंने कहा कि कई दलों में हमारे ही गांव-घर के लोग दलाल बनकर बैठे हैं, उनसे भी सावधान रहने की जरुरत हैं, वोट देने के समय इनसे भी सावधान रहना है, वोट उसी को देना है, जो झारखण्ड के लिए कुछ किया हैं या करने को आमदा हैं। उन्होंने कहा कि जो लोग बोलता है कि हमने झारखण्ड को दिया हैं, तो याद रखिये,ये झारखण्ड कोई भीख में नहीं मिला, ये हम सब के संघर्ष की देन है। जब हम खेतों में काम करते हैं, तभी धान उगता है, जिससे हम सब की पेट की आग बुझती है, लेकिन इन बेइमानों ने पांच साल तक हमलोगों को लूटने के बाद फिर हमारा वोट खरीदने निकला हैं, जिसका इस बार जवाब देना है।

भाजपा के नेताओं को बेइमानों की संज्ञा दे दी

अपने पूरे भाषण में हेमन्त सोरेन ने भाजपा के शीर्षस्थ नेताओं व मुख्यमंत्री रघुवर दास को बेइमानों की संज्ञा दे दी। उन्होंने कहा कि जब 2014 में उनकी सरकार थी, तब उन्होंने पांच रुपये में दाल-भात योजना लागू किया था, पर इस बेइमान सरकार ने उसे बंद कर दिया, यानी गरीबों को दाल-भात नहीं मिला, गरीब मरते रहे, गोदामों में बेइमानों ने अनाज सड़ा दिया। उन्होंने कहा कि एक ओर गरीब भात-भात चिल्ला रहे हैं, उन्हें भोजन नसीब नहीं, कई लोग भूख से मर गये, किसान आत्महत्या कर रहे हैं, बेरोजगार आत्महत्या कर रहे हैं, रोजगार उन्हें मुहैया नहीं कराया जा रहा, यहां तक की बीजेपी के नेता के बेटे तक आत्महत्या कर रहे हैं, लेकिन इन बेइमानों को आंखों में आंसू नहीं।

सीएम रघुवर दास बताएं कि उनके बेटे को किस हुनर के कारण टाटा में नौकरी मिल गई?

उन्होंने कहा कि हमारे मुख्यमंत्री रघुवर दास डिग्री की जगह हुनर की बात करते हैं, जरा उनसे पूछिये कि उनके बेटे को टाटा में नौकरी किस हुनर के कारण मिल गई। कमाल हैं, जमीन हमारे पुरखों की, आपके बेटे के पास कौन सा हुनर था? छत्तीसगढ़ से आकर आप यहां नौकरी पा लिये और हम यहां आज भी बेरोजगार हैं, क्या ऐसी सरकार राज्य में होने चाहिए?  कि वह हुनर चाहिए जो आपके पास हैं विधायकों को खरीदकर सरकार चलाने का। उन्होंने जनता से कहा कि यह विधायक ऐसे खरीदता हैं, जैसे हाट बाजार में सब्जी खरीद रहा हो।

आज देखिये इस मुख्यमंत्री ने सीएनटी-एसपीटी, स्थानीय नीति पर झारखण्ड की क्या दुर्दशा कर दी हैं, हमें इन राजनीतिक षडयंत्रकारियों को सबक सिखाना ही होगा। उन्होंने कहा कि तमाड़ का किसान रांची और जमशेदपुर के लोगों को सब्जी खिला रहा हैं, पर उसे उचित कीमत नहीं मिल रही, वह सड़कों पर सब्जियों को छोड़ दे रहा हैं, पर ये सरकार इनके लिए कुछ नहीं की, उनकी सरकार आयेगी तो किसान बैंक बनेगा, गोदाम बनेंगे, ये समस्याएं खत्म होगी।

उन्होंने कहा कि इन बेइमानों ने उनके द्वारा चलाई गई  दस रुपये में धोती-साड़ी योजना को भी बंद कर दिया, जबकि हम चाहते थे कि हमारी गरीब महिलाओं का तन ढंक सकें, ये ऐसे लोग हैं, जिनकी जितनी आलोचना की जाय कम है। जरा देखिये, इन बेइमानों को चुनाव का समय आया तो कपड़ों का टेंडर निकाल रहे हैं, कपड़े बांटने की तैयारी कर रहे हैं, जरा इनके इरादों को समझने की कोशिश करिये।

उन्होंने कहा कि आज पूरे राज्य में टेंडर बिहार, गुजरात, छत्तीसगढ़ आदि के लोगों को मिलता हैं, और झारखण्डियों को टेंडर ही नहीं मिलता, हमनें साफ कह दिया है कि हमारी सरकार आयेगी तो 25 करोड़ का टेंडर झारखण्डियों को मिलेगा। उन्होंने कहा कि एक ओर केरल की महिलाओं का नाम नर्स में आता हैं तो झारखण्ड के महिलाओं का नाम दाई में आता है, कितने शर्म की बात हैं, आखिर हम कहां हैं, जरा सोचिए, हमें इस हाल में किसने पहुंचाया?

आज रोज 200 से अधिक प्राथमिकी महिला उत्पीड़न, बलात्कार व अत्याचार के दर्ज हो रहे हैं, इसके लिए जिम्मेवार कौन है? आज कोई सुरक्षित नहीं, इसलिए झारखण्डियों को जगना होगा, हम अपने झारखण्ड के लिए जान देंगे भी और जान लेंगे भी, इन बेइमानों को छोड़ेंगे नहीं, क्योंकि गांव से लेकर शहर तक त्राहिमाम् हो रहा है। चारों तरफ मायूसी है।

डबल इंजन नहीं, डबल लूट की सरकार

उन्होंने कहा कि इस राज्य में डबल इंजन की सरकार नहीं, बल्कि डबल लूट की सरकार है, इनके पास तनख्वाह देने को पैसे नहीं, पर मोमेंटम झारखण्ड के नाम पर दोनों हाथों से पैसे लूटाने के लिए पैसे हैं। पारा शिक्षक, आंगनवाड़ी सेविकाओं, सहिया, रसोइया को मानदेय देने के लिए पैसे नहीं हैं, सरकारी कर्मचारियों को वेतन देने के लिए पैसे नहीं हैं, पर बाहरी लोगों को अय्य़ाशी कराने के लिए पैसे है, विकास के नाम पर हजारों-करोड़ों फूंक देने के लिए पैसे है। जब ये आंगनवाड़ी महिलाएं अपना हक मांगे, तो उन्हें पीटवाने का प्रबंध करने का उन्हें दिमाग आ जाता है।

उन्होंने कहा कि ये पीएम आवास के नाम पर एक कमरा थमा दे रहे हैं, जरा बताइये कि उस एक कमरे में मां-बाप, बहू-बेटी, भाई-दामाद यानी एक परिवार कैसे रहेगा? इन बेइमानों ने तो हमें जानवरों से भी बदतर स्थिति में लाकर खड़ा कर दिया, हम जब सत्ता में आयेंगे तो ये स्थितियां बदलेगी। हम ऐसा घर देंगे, जिसमें पानी, बिजली, पंखे सब कुछ होंगे।

सरयू राय पर भी जमकर बोले हेमन्त

उन्होंने जनता से कहा कि आज सीएम रघुवर के खिलाफ, उनके ही एक मंत्री सरयू राय जमशेदपुर पूर्व से चुनाव लड़ रहे हैं, यानी भ्रष्टाचार से लड़नेवालों को ही इन बेइमानों ने टिकट से वंचित कर दिया, ये स्थिति इनके पार्टी की है, इसलिए इस सीएम रघुवर को उसके उड़नेवाले हाथी समेत छत्तीसगढ़ के जंगल में छोड़ देने की जरुरत है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार का आलम यह है कि मुख्यमंत्री इधर हजारों करोड़ रुपये के नहर का उद्घाटन करता है और 24 घंटे के अंदर ही उस नहर को चूहा कुतर देता है।

एक कलक्टर के यहां एक कंबल की मांग करने पहुंची, एक महिला कंबल के अभाव में दम तोड़ देती हैं और इधर कंबल घोटाला हो जाता हैं, और जैसे ही उस विभाग की एक अधिकारी यह कहती है कि उसे छेड़ा गया तो वह किसी को नहीं छोड़ेगी, मामला ही ठंडा पड़ जाता हैं, आखिर ये क्या मामला है? उन्होंने कहा कि हमारी सरकार बनी तो आज जो मंत्री की शोभा बढ़ा रहे हैं, वे जेल जाने के लिए तैयार रहे।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

‘रघुवर दास’ मतलब ‘रघुवर दाग’, जिसे ‘मोदी डिटर्जेंट’ या ‘शाह लॉन्ड्री’ भी नहीं धो सकती - सरयू राय

Mon Nov 18 , 2019
जमशेदपुर पूर्व से राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास को चुनौती दे रहे, राज्य के पूर्व खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय ने कहा कि आज से राज्य के मुख्यमंत्री का नया नाम हैं, रघुवर दाग। यानी ऐसा दाग, जिसे ‘मोदी डिटर्जेंट’ या ‘शाह लॉन्ड्री’ भी नहीं धो सकती। ये बातें उन्होंने सीएम रघुवर दास के उस जवाब में कही, जिसमें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने अपने उपर लगे भ्रष्टाचार को बेबुनियाद बताया हैं।

You May Like

Breaking News