CM रघुवर से नाराज चल रहे सरयू नहीं दिखे सीएम आवास पर आयोजित कार्यक्रम में

अपनी सरकार के तीन साल पूरे होने पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने आज अपने आवास पर संवाददाताओं से बातचीत की। उन्होंने बातचीत में स्वीकारा कि कई खामियों और गड़बड़ियों के बावजूद, उन्होंने बड़ी ही ईमानदारी से राज्य को एक बेहतर मुकाम पर लाने की कोशिश की है। इस कोशिश में सभी लोगों का साथ मिला है। आज की इस संवाददाता सम्मेलन में मुख्यमंत्री रघुवर दास का बोलने का अंदाज, बदला-बदला था।

अपनी सरकार के तीन साल पूरे होने पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने आज अपने आवास पर संवाददाताओं से बातचीत की। उन्होंने बातचीत में स्वीकारा कि कई खामियों और गड़बड़ियों के बावजूद, उन्होंने बड़ी ही ईमानदारी से राज्य को एक बेहतर मुकाम पर लाने की कोशिश की है। इस कोशिश में सभी लोगों का साथ मिला है। आज की इस संवाददाता सम्मेलन में मुख्यमंत्री रघुवर दास का बोलने का अंदाज, बदला-बदला था। हमेशा आक्रामक मुद्रा में रहनेवाले मुख्यमंत्री शायद धीरे-धीरे मौके की नजाकत को समझ रहे हैं, ये देखकर अच्छा लगा।

इस बार नहीं दिख रहा सीएम रघुवर का होर्डिंग-बैनर रांची की सड़कों पर

पहली बार यह भी देखने को आया कि राजधानी रांची में सरकार के तीन साल पूरे होने पर होर्डिंग-बैनर उतने नहीं दीखे, जितने की सरकार के पहले और दूसरे साल पूरे होने पर तथा मोमेंटम झारखण्ड के दौरान देखने को मिले थे। शायद मुख्यमंत्री रघुवर दास और उनके सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग को पता चल गया है कि जनता अब ये सब पसन्द नहीं कर रही और इसके गलत मैसेज नीचे से लेकर उपर तक जा रहे हैं, सरकार इस मामले में सजग हुई, ये देखकर भी अच्छा लगा।

रघुवर सरकार से नाराज चल रहे मंत्री सरयू राय ने एक बार फिर अपनी नाराजगी दिखाई 

हमेशा की तरह मुख्यमंत्री और यहां के नौकरशाहों के क्रियाकलापों से नाराज चल रहे संसदीय कार्य मंत्री सरयू राय, सीएम आवास में चल रहे इस कार्यक्रम में शुरु से लेकर अंत तक कही भी दिखाई नहीं पड़े, जबकि राज्य के अन्य मंत्रियों का समूह मंच पर नजर आया। मंच के नीचे अग्रिम पंक्तियों में सरकार का गुणगान करने में आगे रहनेवाले विभिन्न अखबारों एवं चैनलों के वरिष्ठतम लोग विद्यमान थे।

सीएम रघुवर दास को कई पत्रकारों ने मुक्त कंठ से बधाई दी, सवाल पूछने से ज्यादा बधाई देने में समय बिताया

पीटीआई और यूएनआई से जुड़े संवाददाताओं के सवाल पूछे जाने का अंदाज ऐसा था, जैसे लगता था कि वे अब और तब मुख्यमंत्री के चरणकमलों में बलिहारी हो जायेंगे, उनके मुख से सवाल कम और सीएम के रुप में रघुवर दास के तीन साल पूरे होने पर बधाइयों के स्वर सर्वाधिक निकल रहे थे, जिसे सुनकर अन्य पत्रकार हतप्रभ रहे। कई पत्रकारों ने वहां उपस्थित भारतीय प्रशासनिक अधिकारियों के साथ मिलकर लायजनिंग करने में भी ज्यादा समय व्यतीत किया। एक आईएएस अधिकारी तो एक राष्ट्रीय चैनल के संवाददाता का हाथ छोड़ने को ही तैयार नहीं था, जब समय मिलता, वह उसका हाथ पकड़कर, सीएम आवास में इधर-उधर टहलता रहा, उधर उक्त राष्ट्रीय चैनल का संवाददाता भी यह देखकर, स्वयं गौरवान्वित महसूस कर रहा था कि उसके उक्त अधिकारी से कितने मधुर संबंध हैं।

कार्यक्रम खत्म होने के बाद अधिकारियों, नेताओं व पत्रकारों ने मिलकर, सीएम आवास में बने सुस्वादु भोजन का आनन्द लिया और पहले से ही सीट पर रखे बहुमूल्य उपहारों को लेकर अपने अन्य कार्यक्रमों को गति देने के लिए वहां से चल पड़े और इस प्रकार रघुवर सरकार के तीन साल पूरे होने का कार्यक्रम विधिवत् संपन्न हो गया।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

हेमन्त ने रघुवर को चेताया, ऐसा महाभारत होगा, जैसा पहले कभी नहीं हुआ

Thu Dec 28 , 2017
प्रशासनिक अराजकता, अनियंत्रित कानून व्यवस्था, महंगे आयोजनों की भव्यता, राजनीतिक निर्लज्जता, विकास शून्यता, अंधी अडानी निष्ठा, बेटियों एवं महिलाओं की असुरक्षा, गरीबों एवं किसानों की उपेक्षा, निर्दोष मूलवासियों एवं आदिवासियों की पुलिस द्वारा हत्या तथा गाली-गलौज को संसदीय भाषा का दर्जा रघुवर दास के तीन वर्षों में अराजक शासन की प्रमुख उपलब्धियों में शामिल हैं।

You May Like

Breaking News