EVM के जमाने में मुहर लगाकर जीताने का अनुरोध कर रहा आजसू कैंडिडेट मुनचुन राय

आजसू पार्टी से उप महापौर पद पर खड़े उम्मीदवार मुनचुन राय को पता ही नहीं है कि रांची नगर निगम का चुनाव इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन से होगा या मतपत्र के द्वारा। चुनाव प्रचार में लगे बैनर और वाहन पर ये जनाब रांची के मतदाताओं से निवेदन कर रहे है कि उन्हें लोग उनके चुनाव चिह्न पर मुहर लगाकर भारी मतों से विजयी बनाये, इसका मतलब है कि मुहर तभी लगेगा, जब चुनाव मतपत्रों के द्वारा संपन्न हो,

आजसू पार्टी से उप महापौर पद पर खड़े उम्मीदवार मुनचुन राय को पता ही नहीं है कि रांची नगर निगम का चुनाव इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन से होगा या मतपत्र के द्वारा। चुनाव प्रचार में लगे बैनर और वाहन पर ये जनाब रांची के मतदाताओं से निवेदन कर रहे है कि उन्हें लोग उनके चुनाव चिह्न पर मुहर लगाकर भारी मतों से विजयी बनाये, इसका मतलब है कि मुहर तभी लगेगा, जब चुनाव मतपत्रों के द्वारा संपन्न हो, लेकिन सच्चाई यह भी है कि रांची नगर निगम चुनाव मतपत्रों द्वारा नहीं, बल्कि इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन से होना तय है।

रांची नगर निगम में विभिन्न पदों पर खड़े अन्य दलों के प्रत्याशी, अपने चुनावी पोस्टरों, बैनरों व प्रचार वाहनों में इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन की ही बाते कर रहे हैं, पर आजसू मुहर लगाकर विजयी बनाने की बात कर रहा है, रांची नगर निगम में वोटिंग के लिये तैयार मतदाता, आजसू के प्रचार वाहनों पर लिखे “मुहर लगाकर विजयी बनाने” की बात पर हतप्रभ है, क्योंकि यहां के मतदाता जानते है कि वोटिंग इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन से होनी हैं, पर प्रचार वाहनों तथा बैनरों, पोस्टरों  में आजसू द्वारा मुहर लगाने की बात पढ़कर थोड़ा कन्फ्यूज्ड हो जा रहे है।

कई मतदाता तो व्यंग्यात्मक रुप से ये कहने से नहीं चूकते, कि जब कैंडिडेट ही मुहर लगाकर जीताने की बात कर रहा हैं, और मतदान के दिन जब मतदान केन्द्र पर न तो मतपत्र होगा और न ही मुहर लगाने के लिए स्टाम्प पैड तो ऐसे में आजसू को वोट करने आये मतदाता क्या करेंगे, ऐसे हालात में या तो वे घर लौंटेंगे या दूसरे को वोट कर आयेंगे, क्योंकि कैंडिडेट मुहर लगाने की बात कर रहा और मतदान केन्द्र में इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन होगी। कुल मिलाकर पूरे रांची नगर निगम में आजसू के बैनर-पोस्टर और प्रचार वाहन में लिखे वाक्यांशों पर लोग खूब मजे ले रहे हैं और कह रहे हैं कि इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन के जमाने में मतपत्र और मुहर की बात करनेवाले कैसे चुनाव जीतेंगे, आश्चर्य हैं?

Krishna Bihari Mishra

Next Post

"अरे तोड़े से भाई टूटे ना ये मोदी-शाह की जोड़ी", 39वें साल में भी भाजपा का जादू सर चढ़कर बोल रहा

Fri Apr 6 , 2018
6  अप्रैल 1980, जब भारतीय जनता पार्टी का जन्म हुआ था तब किसी ने यह सपने में भी नहीं सोचा था कि एक दिन भारतीय जनता पार्टी अपने बलबूते पर केन्द्र में सरकार बनायेगी। शुरुआती दौर में जब भी चुनाव होते थे, तो राज्य की विधानसभा चुनावों से लेकर केन्द्र के लिए लोकसभा के चुनावों तक भाजपा को निराशा हाथ लगती थी। कई राज्यों में तो उसे तीसरे स्थान पर उसे संतोष करना पड़ता था और भाजपा को लोग पिछलग्लू पार्टी से ज्यादा कुछ नहीं समझते थे,

Breaking News