प्रेम प्रकाश को हिरासत में लेने के बाद ईडी पूर्व सीएम रघुवर, उनके मुख्य सचिव, ओएसडी, प्रेस-सह-राजनीतिक सलाहकार से भी पूछताछ के साथ-साथ पिछली प्रेम के वाराणसी वाले ठिकाना से मिले अचल संपत्ति में निवेश के कागजातों को भी जांचे – सरयू

सरयू राय की लगातार पांच ट्विट ने झारखण्ड की राजनीति में भूचाल ला दिया है। पूर्व मंत्री व जमशेदपुर पूर्व सीट पर राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास को धूल चटाने वाले सरयू राय हमेशा से ही भ्रष्टाचार को लेकर मुखर रहे तथा रघुवर दास और उनके आस-पास रहनेवाले लोगों तथा कनफूंकवों पर हमले करते रहे। लेकिन रघुवर दास ने सरयू राय के भ्रष्टाचारों के आरोपों को हमेशा नजरंदाज किया, वहीं हाल वर्तमान मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन की रही, इन्होंने भी सरयू राय द्वारा उठाये जा रहे भ्रष्टाचार के मुद्दे पर ध्यान देने की कभी कोशिश ही नहीं की।

आज स्थिति यह है कि ईडी जैसे-जैसे नये-नये भ्रष्ट अधिकारियों व पूर्व सरकार तथा वर्तमान सरकार में भी भ्रष्टाचार के कीर्तिमान स्थापित करनेवाले लोगों के धीरे-धीरे गर्दन पकड़ रही हैं, उनके नामों का खुलासा कर रही हैं, उनके घरों पर दबिश बना रही है। भ्रष्टाचार में लिप्त रहनेवाले लोगों के बीच हड़कम्प मचती जा रही हैं, अब तो कई पत्रकारों के भी प्राण सूखने लगे हैं, कही ऐसा नहीं कि उनके यहां भी ईडी दबिश बना दें।

सरयू राय ने अपने पहले ट्विट में एक फोटो जारी किया है। उस फोटो के माध्यम से सरयू राय ने जोर का झटका धीरे से दिया है। ट्विट में लिखा है कि इस तस्वीर के किरदारों को पहचानिये। निशिकांत दूबे और बाबू लाल मरांडी और दीपक प्रकाश अवश्य पहचान लेंगे। नरेन्द्र मोदी और अमित शाह की भी ये चाहें तो एक छोड़कर अन्य किरदारों से पहचान करा सकते हैं।

सरयू राय का दूसरा ट्विट देखिये – बाबू लाल मरांडी पूर्व सरकार के सीएमओ के भ्रष्टाचार के बारे में दिये गये अपने बयानों पर गौर करें, उनकी जाँच के लिये भी ईडी से कहें। उस शासन में मशहूर तीन आर (R) के साथ अंडा-शराब-रेडी-टू-ईट फ़ूड सप्लाई कारोबार में प्रेम प्रकाश की साझेदारी के बारे में पीएम नरेन्द्र मोदी को बताएं।

सरयू राय का तीसरा ट्विट देखिये – प्रेम प्रकाश को हिरासत में लेने के बाद ईडी पूर्व सीएम, उनके मुख्य सचिव, ओएसडी, प्रेस सह राजनीतिक सलाहकार से भी पूछताछ करे। पिछली प्रेम के वाराणसी वाले ठिकाना से मिले अचल संपत्ति में निवेश के कागजातों, स्कूलों में अंडा एवं आंगनबाड़ी में रेडी-टू-ईट फ़ूड की सप्लाई के काग़ज़ात भी जाँचें।

सरयू राय का चौथा ट्विट -मित्रवत पूर्व पुलिस अधिकारी ने बताया कि निगरानी/अन्वेषण विभाग में पहले भ्रष्टाचार का ककहरा मशहूर था कि क से कैश कमाओ तो ख से खा जाओ, ग से गहना भले बना लो पर घ से घर मत बनाओ, डं. से अंगड़ाई लेकर अकड़ दिखाओगे तो पकड़े जाओगे। आज का सत्ता परस्त अधिकारी समूह इस ककहरा को लतियाते रहता है।

सरयू राय का पांचवां ट्विट – झारखंड की पिछली सरकार के जिन विभागों के खिलाड़ी वर्तमान सरकार में भी खुलकर खेल रहे हैं, उनमें एक है स्किल डेवलपमेंट डिपार्टमेंट। विशाल चौधरी पर ईडी की दबिश ने यह साबित कर दिया। इसमें फर्जीवाडा की मेरी दर्जनों शिकायतों को पिछली सरकार दबाकर बैठी रही, वर्तमान सरकार का भी वही रवैया है।