कांग्रेस की नजर में झारखण्ड की जनता त्रस्त, मुख्यमंत्री रघुवर दास मस्त

अजय कुमार ने कांग्रेस कार्यालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राज्य के वर्तमान हालात को देखते हुए तो यहीं लग रहा है कि झारखण्ड की जनता त्रस्त और मुख्यमंत्री रघुवर दास मस्त। झारखण्ड पुलिस सुस्त और अपराधी चुस्त। उन्होंने कहा कि पांच अक्टूबर को चावल व्यवसायी नरेन्द्र सिंह होड़ा की हत्या, कल भाजपा कार्यालय के पीछे मुक्ति गैस एजेसी से तीन लाख की लूट और आज बीस लाख के जेवर की लूट बता रहा है कि राज्य के हालात क्या है?

कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार ने आज प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राज्य के वर्तमान हालात को देखते हुए तो यहीं लग रहा है कि झारखण्ड की जनता त्रस्त और मुख्यमंत्री रघुवर दास मस्त। झारखण्ड पुलिस सुस्त और अपराधी चुस्त। उन्होंने कहा कि पांच अक्टूबर को चावल व्यवसायी नरेन्द्र सिंह होड़ा की हत्या, कल भाजपा कार्यालय के पीछे मुक्ति गैस एजेसी से तीन लाख की लूट और आज बीस लाख के जेवर की लूट बता रहा है कि राज्य के हालात क्या है?

अजय कुमार ने कहा कि जिस तरह से राज्य में हत्या, लूट, दुष्कर्म, डकैती, छिनतई की घटनाएं दिन प्रतिदिन दिखाई और सुनाई दे रही है, वह बताता है कि पूरे राज्य में भय का माहौल व्याप्त है। जहां मुख्यमंत्री, विधानसभाध्यक्ष, मुख्य न्यायाधीश और मुख्य सचिव रहते हैं, उनके आवास के ठीक 500 मीटर के अदंर हत्या का होना, राइफल का छीना जाना, जहरीली शराब से सात लोगों की मौत हो जाना बताता है कि मुख्यमंत्री रघुवर दास किस प्रकार से जनता की सेवा कर रहे हैं?

उन्होंने कहा कि पुलिस मुख्यालय ने जो आकड़े उपलब्ध कराएं है, वह चौकानेवाले हैं। इस साल सर्वाधिक 798 अपराधिक घटनाएं हुई है। जो बीते साल की तुलना में 108 अधिक है। बीते साल दुष्कर्म के 554 मामले दर्ज हुए थे, जबकि इस साल 639 मामले दर्ज हुए है। बीते साल गृह भेदन के 618 मामले दर्ज हुए, जबकि इस साल 736 मामले दर्ज हुए है, राज्य में पुलिस को मिलनेवाली सुविधाओं में इजाफा तो हुआ, पर अपराधिक वारदातों में लगाम कसने का काम नहीं हुआ।

उन्होंने कहा कि ये शर्म की बात है कि यहां की पुलिस राज्यपाल की बात भी नहीं सुनती, ऐसे हालत में जब राज्यपाल की बात नहीं सुनी जा रही तो आम जनता की बात को कौन सुनता होगा? इसे समझने की जरुरत है। उन्होंने संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा कि पिछले दिनों राज्यपाल महोदया ने 13 अप्रैल और 9 सितम्बर 2018 को राजभवन बुलाकर, डीजीपी को कड़ी फटकार लगाई थी, फिर भी डीजीपी के कानों पर जूं नहीं रेंग रही। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री रघुवर दास की तो बात ही निराली है, वे कभी डीजीपी को फटकार लगाते है, तो कभी घटना की उद्भेदन के लिए एक सप्ताह का समय दे देते हैं, पर हकीकत यहीं है कि राज्य का कानून अंधा ही नहीं, बल्कि बहरा भी हो चुका है।

उन्होंने कहा कि रघुकुल रीति सदा चलि आई, प्राण जाय पर बचन न जाई का होर्डिंग चारो ओर लगवाने वाले सीएम रघुवर दास बताए कि उनका प्राण कहां है और वचन कहा है? उन्होंने कहा कि जिस डीजीपी को गिरती कानून व्यवस्था को ठीक करने की जिम्मेवारी है, वह ये सब छोड़कर विकास दर का फायदा बता रहा है, वह यह कहता है कि ग्रोथ दस प्रतिशत का होगा तो नक्सलवाद व जातिवाद खत्म हो जायेगा, ऐसा कहकर वह अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रहा है, किन्तु ऐसा बयान यह भी बताता है कि ग्रोथ रेट नहीं बढ़ने के लिए वह प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री और जनप्रतिनिधि को जिम्मेवार बता रहा है, जिसके कारण राज्य में नक्सलवाद, जातिवाद एवं अपराध आदि बढ़ रहे हैं, ये सब रघुवर के राज में ही संभव है।

उन्होंने कहा कि राज्य में भाजपा सरकार चावल घोटाला कर रही है। पूरे पांच साल के कार्यकाल में 1200 करोड़ रुपये का घोटाला करने की संभावना है। 32.60 रुपये में सरकार चावल खरीद रही है, वह चावल बाजार में 17 रुपये से लेकर 22 रुपये तक खुदरा बाजार में आसानी से उपलब्ध है। ऐसे में बीच का पैसा जा कहां रहा है? क्या रघुवर दास भी चावल बाबा हो गये? उन्होंने राज्य सरकार से सवाल किया कि वह चावल किससे खरीद रही है? इसका जल्द खुलासा करें। कम दाम में उपलब्ध चावल को मंहगे दामों में क्यों खरीदा जा रहा है? सरकार इसका जवाब दें? प्रदेश अध्यक्ष ने स्पष्ट कहा कि अगर सरकार इन सवालों का जवाब नहीं देती, तो उनकी पार्टी इस मुद्दे पर जनांदोलन खड़ी करेगी।

अजय कुमार ने कहा कि गुजरात में बिहारियों और झारखण्डियों पर हमले हो रहे हैं, भाजपा भारत की एकता व अखण्डता की बात करती है, और दूसरे राज्यों में वह व्यापार व रोजगार करने के लिए गये, यहां के लोगों पर हमले करवाती है, इससे बड़ा दुर्भाग्य दूसरा कोई नहीं हो सकता। गुजरात में भाजपा का शासन है और झारखण्ड में भी भाजपा का शासन है, ऐसे में यहां की सरकार बताए कि झारखण्डियों की सुरक्षा के लिए क्या अब तक प्रयास किये गये?

आज के संवाददाता सम्मेलन में कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम, प्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रभारी राजेश ठाकुर, प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद, लाल किशोर नाथ शाहदेव, प्रदेश महिला कांग्रेस अध्यक्ष गुंजन सिंह एवं रांची महानगर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष संजय पांडे भी मौजूद थे।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

पता नहीं, बिहारियों को ये कब समझ आयेगी कि बकरे और मुर्गे-मुर्गियां कटने के लिए ही पैदा होते हैं

Tue Oct 9 , 2018
पता नहीं, बिहारियों को ये बात कब समझ में आयेगी कि बकरे और मुर्गे-मुर्गियां कटने के लिए ही पैदा होते हैं, अगर आप बकरे और मुर्गे-मुर्गियां खुद को बनायेंगे तो यहीं होगा, जो आज गुजरात में हुआ। क्या ये सही नहीं कि बिहारी मजदूर कभी असम तो कभी तमिलनाडू में घृणा राजनीति के शिकार हुए, महाराष्ट्र में तो ये सिलसिला थमने का नाम ही नहीं लेता। कभी दिल्ली की सीएम रह चुकी कांग्रेस की वरिष्ठ नेतृ शीला दीक्षित भी ऐसे बयान दे चुकी है,

You May Like

Breaking News