जब इन्दिरा जेपी, राजीव वीपी सिंह का इमेज खराब नहीं कर सके तो राहुल PM मोदी का क्या बिगाड़ लेंगे

जो नेता अपने प्रतिद्वंद्वी की इमेज खराब करने की मंशा रखता है, उसकी सोच कितनी खतरनाक होगी, समझा जा सकता है। हम बात कर रहे हैं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की जिन्होंने अपने दिये एक साक्षात्कार में स्वीकार किया है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ताकत उनकी इमेज है, इसे वे खराब कर देंगे, और उन्होंने ऐसा करना प्रारम्भ भी कर दिया हैं,

जो नेता अपने प्रतिद्वंद्वी की इमेज खराब करने की मंशा रखता है, उसकी सोच कितनी खतरनाक होगी, समझा जा सकता है। हम बात कर रहे हैं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की जिन्होंने अपने दिये एक साक्षात्कार में स्वीकार किया है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ताकत उनकी इमेज है, इसे वे खराब कर देंगे, और उन्होंने ऐसा करना प्रारम्भ भी कर दिया हैं, अब सवाल उठता है कि क्या हमारे देश के होनहार नेता, एक दूसरे का इमेज खराब करने के लिए षडयंत्र रचेंगे, तब तो ये देश के लिए बहुत ही घातक है।

हमारा मानना है कि दुनिया की कोई ताकत, किसी के भी इमेज को खराब नहीं कर सकती, क्योंकि किसी भी व्यक्ति का इमेज किसी के रहमोकरम या दया का मोहताज नहीं होता, उसकी इमेज उसके कर्मों के फल का नतीजा है, ठीक उसी प्रकार राहुल गांधी की जो इमेज है, वो उनकी खुद की बनाई हुई है, कि नरेन्द्र मोदी ने उनकी इमेज बना दी है, आम जनता की नजरों में आज भी राहुल गांधी क्या है? वो पूरा विश्व जानता है।

राहुल गांधी ने बोलने को तो बोल दिया कि वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की इमेज खराब कर देंगे, पर वे भूल गये, कि उनकी दादी एवं भारत की पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इन्दिरा गांधी ने बोलकर तो नहीं, लेकिन खुलकर लोकनायक जयप्रकाश नारायण के इमेज को प्रभावित करने का प्रयास किया था, पर लोकनायक जयप्रकाश नारायण के इमेज को वो कितना प्रभावित कर सकी, उन्हें खुद पता चल गया था, जब लोकनायक जयप्रकाश नारायण दुनिया में नहीं रहे।

खुद राहुल गांधी के पिता राजीव गांधी ने भी अपने प्रतिद्वंद्वी विश्वनाथ प्रताप सिंह के इमेज को खराब करने के लिए अपने अनुसार कई तिकड़म भिड़ाएं, जब राजीव गांधी ने अपने समय के विदेश मंत्री नरसिम्हा राव, तांत्रिक चंद्रास्वामी और कुछ अधिकारियों के सहयोग से विश्वनाथ प्रताप सिंह के बेटे अजय सिंह को फंसाने की कोशिश की, तथा सेंट किट्स में जाली बैंक खाते खुलवा, उनमें पैसे जमा कराये, पर क्या हुआ? वी पी सिंह ने बोफोर्स घोटाले के दलाल क्वात्रोचि के स्विस बैंक की लंदन शाखा के बैंक खाते को ही सार्वजनिक कर दिया।

कभी इन्दिरा गांधी ने लोकनायक जयप्रकाश नारायण पर पूंजीपतियों के साथ सांठगांठ रखने का आरोप लगाया था, तथा उसी दौरान भ्रष्टाचार को लेकर, उनका बयान आया था, कि दुनिया के कौन ऐसे देश में भ्रष्टाचार नहीं है, यानी उन्होंने भारत में भ्रष्टाचार को संस्थागत ढांचा प्रदान करने की कोशिश की थी। जिसको लेकर लोकनायक जयप्रकाश नारायण ने गजब का आंदोलन छेड़ा, जिसे सभी जानते है।

अब राहुल गांधी ही बताएं कि जब इन्दिरा गांधी, लोकनायक जयप्रकाश नारायण के इमेज को प्रभावित नहीं कर सकी, उनके पिता राजीव गांधी, विश्वनाथ प्रताप सिंह के इमेज को प्रभावित नहीं कर सकें, जबकि दूसरे का इमेज प्रभावित करने के कारण, खुद का बेहतर इमेज बनाने के बदले, अपना ही इमेज गवां दिये, इससे उन्हें क्या फायदा मिला? राहुल गांधी को शायद पता नहीं कि भारत में एक लोकोक्ति है कि जोदूसरे के लिए गड्ढा खोदता है, वह खुद उस गड्ढे में फंस जाता है”, इसलिए वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के इमेज को प्रभावित करने के बदले, अपना इमेज ठीक करने में लगाएं, नहीं तो कहीं वो कहावत उनके पीछे पल्ले पड़ जाये चौबे गये छब्बे बनने दूबे बनकर आये।”

अब सवाल उठता है कि जो राहुल गांधी राफेल मुद्दे पर ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को घेर नहीं पाये, जो राहुल गांधी सुप्रीम कोर्ट में राफेल मुद्दे पर ही माफीनामा पेश करते नजर आये, वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की क्या इमेज खराब करेंगे, अभी तो वे स्वयं और उनके परिवार के कई सदस्य वेल पर घूम रहे हैं, अगर फिर से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शासन में गये, जिसकी संभावना सभी चैनल दूसरे देशों के राजनैतिक पंडित अनुमान लगा रहे हैं, तो फिर खुद कहां जायेंगे, क्योंकि नरेन्द्र मोदी की खासियत हैं, कि जो को छेड़ता है, उसे वो छोड़ता भी नहीं।

हमें लगता है कि पीएम नरेन्द्र मोदी तक ये बात जरुर ही पहुंच गई होगी कि जनाब राहुल गांधी उनके इमेज को खराब करने में लगे हैं, ऐसे में वे इनके इस षडयंत्र पर अभी से ही जरुर लग गये होंगे, और रही बात जनता की तो अब राहुल गांधी जो भी नरेन्द्र मोदी पर आरोप लगायेंगे, लोग यहीं समझेंगे कि उन्होंने पीएम नरेन्द्र मोदी की इमेज को खराब करने के लिए ही ऐसा किया है, ऐसे में घाटा नरेन्द्र मोदी को हुआ या राहुल गांधी को, खुद राहुल गांधी ही बेहतर समझ सकते हैं।

Krishna Bihari Mishra

One thought on “जब इन्दिरा जेपी, राजीव वीपी सिंह का इमेज खराब नहीं कर सके तो राहुल PM मोदी का क्या बिगाड़ लेंगे

  1. सर् नमस्ते
    ये आपका विश्लेषण बिल्कुल सत्य है वैसे आपकी सभी रिपोर्ट सत्य ही रहती है परन्तु माननीय मोदी जी का कोई तोड़ नही है ये आपने लिख ही दिया है आपको शुभकामनाएं एवं आपका अभिनंदन है
    आपके रिपोर्ट ज्यादातर निस्पक्ष एवं भ्रष्ट्राचार के विरुद्ध होता है जो बहुत ही सराहनीय एवं सामाजिक न्याय के लिए उत्कृष्ट रिपोर्ट होता है मैं आपके चैनल को एक नया नाम देना चाहता हूँ
    एक आंदोलन, भ्रष्ट्राचार के विरुद्ध
    अनुरंजन अशोक
    प्रदेश अध्यक्ष
    मिशन मोदी अगेन पीएम
    झारखण्ड प्रदेश

Comments are closed.

Next Post

विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस को मार गोली, फिलहाल हर-हर मोदी बोल और जब राहुल युग आयेगा तो राहुल-राहुल चिल्लाना

Sat May 4 , 2019
कल यानी 3 मई को विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस था। कई अखबार मेरे सामने पड़ी थी। कई चैनलों व पोर्टलों के दृश्य मेरे आंखों के सामने तैर रहे थे। मेरे आंखों के सामने पड़ी अखबारों, चैनलों व पोर्टलों के दृश्यों में से मैं विश्व, प्रेस, स्वतंत्रता और दिवस को ढूंढ रहा था, पर अफसोस की इन चार शब्दों को छोड़ बाकी सारे शब्द मेरे सामने बड़ी संख्या में पड़े थे, जिससे हमको कोई लेना देना नहीं था,

You May Like

Breaking News