विनय ने HC में याचिका दायर कर BJP MLA ढुलू और उसके गुर्गों से जान बचाने की लगाई गुहार

गत् 11 सितम्बर को जिस विनय सिंह पर धनबाद-रांची इंटर एक्सप्रेस में बोकारो के पास मुख्यमंत्री रघुवर दास के अति चहेते बाघमारा भाजपा विधायक ढुलू महतो के समर्थकों ने जानलेवा हमला किया था, उन ढुलू महतो के समर्थकों पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है, जबकि उन अपराधियों के खिलाफ नेम्ड एफआइआर, जीआरपी रांची थाने में दर्ज है। ज्ञातव्य है विनय सिंह कमला कुमारी के साथ हुए यौन शोषण मामले में प्रमुख गवाह और पैरवीकार है।

गत् 11 सितम्बर को जिस विनय सिंह पर धनबादरांची इंटर एक्सप्रेस में बोकारो के पास मुख्यमंत्री रघुवर दास के अति चहेते बाघमारा भाजपा विधायक ढुलू महतो के समर्थकों ने जानलेवा हमला किया था, उन ढुलू महतो के समर्थकों पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है, जबकि उन अपराधियों के खिलाफ नेम्ड एफआइआर, जीआरपी रांची थाने में दर्ज है।

ज्ञातव्य है विनय सिंह कमला कुमारी के साथ हुए यौन शोषण मामले में प्रमुख गवाह और पैरवीकार है। भाजपा विधायक ढुलू महतो पर धनबाद भाजपा की जिला मंत्री कमला कुमारी ने आरोप लगाया था कि ढुलू ने उसका यौन शोषण किया। कमला कुमारी अपने साथ हुए यौन शोषण को लेकर न्याय के लिए दरदर भटक रही हैं, पर उसकी कोई नहीं सुन रहा और ही पुलिस प्राथमिकी दर्ज कर रही है। 

बताया जाता है कि मुख्यमंत्री रघुवर दास का ढुलू पर वरदहस्त होने के कारण ही पुलिस कुछ नहीं कर पा रही। लोगों का यह भी कहना है कि इसी प्रकार के मामले में झाविमो नेता प्रदीप यादव जेल में बंद है, और भाजपा विधायक ढुलू महतो बाहर है और उस पर प्राथमिकी तक दर्ज नहीं हो रही। कमला, ढुलू को सजा दिलाने तथा उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराने के लिए कोर्ट से गुहार लगाई, और हाईकोर्ट ने अक्टूबर के तीसरे सप्ताह में राज्य के पुलिस महानिदेशक और धनबाद एसएसपी को अपना पक्ष रखने को कहा है कि आखिर कमला की प्राथमिकी अब तक क्यों नहीं दर्ज की गई?

बताया जाता है कि हाई कोर्ट द्वारा यह निर्देश देने के बाद, ढुलू और उसके समर्थकों में भारी आक्रोश देखा जा रहा हैं, इसी प्रकरण में विनय सिंह के उपर 11 सितम्बर को जानलेवा हमला किया गया तथा उसे कहा गया कि वह कमला पर दबाव डालकर भाजपा विधायक ढुलू के खिलाफ विभिन्न जगहों पर दिये गये आवेदन को वापस ले लें।

अधिवक्ता राजीव कुमार के अनुसार, चूंकि विनय सिंह कमला प्रकरण में प्रमुख गवाह और पैरवीकार हैं, इसलिए इनके जीवन की सुरक्षा ज्यादा जरुरी है, और 11 सितम्बर की घटना को जोड़कर, यह दूसरी घटना उनके साथ हो गई, जो जानलेवा है, इसलिए उन्होंने हाई कोर्ट से गुहार लगाई है कि उनकी तथा उनके परिवार  जान की सुरक्षा न्यायालय सुनिश्चित करायें। रिट याचिका दायर हो गई हैं, संभवतः इस मामले में आनेवाले सोमवार को सुनवाई भी हो जायेगी।

अधिवक्ता राजीव कुमार ने विद्रोही24.कॉम को बताया कि चूंकि भाजपा विधायक ढुलू अपराधी किस्म का व्यक्ति हैं और उस पर ऐसे भी दो दर्जन से ज्यादा के अपराधिक केस चल रहे हैं, ऐसे में कमला और उसके पति, तथा विनय सिंह और उनके बेटे पर झूठे केस दर्ज करवाकर, इन सबको अपनी ओर झूकाने का प्रयास ढुलू महतो कर रहा हैं, जिसकी जानकारी वे आगामी सोमवार को न्यायालय में विस्तार से देंगे, क्योंकि अब स्थिति बहुत ही भयावह है।

एक यौन शोषण की शिकार महिला की प्राथमिकी दर्ज नहीं होना, उसके पैरवीकार और प्रमुख गवाह पर जानलेवा हमले करना, इनके परिवार को तबाह करने के लिए झूठे केस में फंसाना सब जाहिर कर देता है कि राज्य में किस प्रकार के हालात हैं, उन्हें न्यायालय पर पूरा भरोसा है, न्यायालय विनय सिंह के वर्तमान हालात को देखते हुए उनके तथा उनके परिवार के जीवन को बचाने के लिए कुछ कुछ जरुर दिशानिर्देश देगी।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

चुनाव-प्रचार में भाजपाइयों को दिक्कत से बचाने के लिए CM रघुवर ने चालान काटने पर लगाई रोक

Fri Sep 13 , 2019
हमारे राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास कितने मासूम है, सुना है कि उन्होंने राज्य की जनता को तीन महीने की मोहलत दी है कि वे अपने गाड़ियों के कागजातों को तीन महीने के अंदर अद्यतन करा लें। साथ ही अपने प्रशासनिक अधिकारियों को  हिदायत भी दी है कि वह इस बीच जागरुकता अभियान चलाती रहे, यानी जनता को हमारे मुख्यमंत्री इतना बेवकूफ समझते हैं कि जैसे लगता है कि जनता को पता ही नहीं कि राज्य में विधानसभा चुनाव होनेवाले हैं,

Breaking News