CM रघुवर के फेसबुक पेज पर दो युवकों ने मांगी इच्छामृत्यु, CMO दिखाई संवेदनहीनता

इस कमेंटस में दो युवकों के मोबाइल नं. और उनके नाम लिखित हैं। इसमें इन दोनों युवकों ने लिखा हैं कि वे दोनों झारखण्ड सरकार द्वारा संचालित JSBCL के अन्तर्गत 2 अक्टूबर 2017 से धुर्वा में कार्यरत थे, मगर बिना किसी पूर्व सूचना और बिना किसी कारण के दिनांक 18 अक्टूबर 2017 को हटा दिये गये। जिस कारण ये दोनों बहुत तकलीफ में हैं। ये दोनों अपने जीवन को समाप्त करना चाहते हैं क्योंकि ये अपने परिवार पर बोझ बनना नहीं चाहते।

रघुवर दास के फेसबुक पेज पर  दिनांक 26 फरवरी 2018, समय 19:10 बजे, एक वीडियो पोस्ट किया गया है। इस पोस्ट किये गये वीडियो को, 95 लाइक्स, 19 कमेन्ट्स, 8 शेयर और 1000 से भी ज्यादा बार इसे देखा गया है। जिसमें सीएम रघुवर दास ने कहा है कि “देश की जनता ने परिवारवाद को बढ़ावा देनेवाली पार्टियों को चुनकर देख लिया। अब देश को पीएम नरेन्द्र मोदी के रुप में ऐसा युगपुरुष मिल गया है, जिनको देश की जनता अगाध प्रेम करती है। 2019 में 2014 का इतिहास दोहराया जायेगा।“  इसी पोस्ट पर एक ऐसा कमेंन्ट्स आया हैं, जिसमें दो युवकों द्वारा इच्छामृत्यु की बात कहीं गई है।

इस कमेंटस में दो युवकों के मोबाइल नं. और उनके नाम लिखित हैं। इसमें इन दोनों युवकों ने लिखा हैं कि वे दोनों झारखण्ड सरकार द्वारा संचालित JSBCL के अन्तर्गत 2 अक्टूबर 2017 से धुर्वा में कार्यरत थे, मगर बिना किसी पूर्व सूचना और बिना किसी कारण के दिनांक 18 अक्टूबर 2017 को हटा दिये गये। जिस कारण ये दोनों बहुत तकलीफ में हैं। ये दोनों अपने जीवन को समाप्त करना चाहते हैं क्योंकि ये अपने परिवार पर बोझ बनना नहीं चाहते और न ही कोई गलत काम कर अपने परिवार और अपने देश का नाम खराब करना चाहते है। अतः इन्हें रोजगार के बदले रोजगार दे, बेरोजगारी नहीं या इन्हें इच्छा मृत्यु दें, क्योंकि इनके पास इसके अलावा और कोई दूसरा रास्ता नहीं। ये दोनों अपना नाम सुमित, कान्टेक्ट नंबर – 9570202516 और किशन, कान्टेक्ट नंबर – 7004299212 बता रहे हैं। ये पोस्ट K.D. Rock Solut के नाम से पोस्ट किया गया है।

अब सवाल उठता है कि जब मुख्यमंत्री के फेसबुक पेज पर ही ऐसा कमेन्टस आ रहा है, तो इस कमेन्टस के बाद सीएम के सोशल साइट देखनेवालों ने क्या एक्शन लिया? सीएम रघुवर दास ने क्या एक्शन लिया? क्या वे किसी अनहोनी का इंतजार कर रहे हैं? क्या इन युवकों से संपर्क किया गया? सीएम के सोशल साइट पर ऐसी बातों का आना बहुत ही गंभीर बात  है और इस पर एक्शन नहीं लिया जाना, उससे ज्यादा गंभीर बात, इसका मतलब है कि सोशल साइट पर आनेवाली बातों को भी यहां की सरकार गंभीरता से नहीं लेती, जबकि 26 फरवरी 2018, समय 21:25 बजे दूसरी वीडियो पोस्ट की गई है, जो बताता है कि इस पेज को लेकर सीएम के सोशल साइट देखनेवाले सीएम के वीडियों या अन्य डायलॉग को पोस्ट करने के लिए एक्टिव थे, पर जब इतनी बड़ी बात हो गई, दो युवकों ने जीवन समाप्त करने की बात कह दी, फिर भी इस ओर ध्यान नहीं दिया  जाना, मुख्यमंत्री की संवदेनहीनता को दर्शाती हैं।

वैसे भी इन दिनों झारखण्ड की राजधानी रांची तथा अन्य जिलों में युवाओं में गहरी निराशा छाई हुई हैं, और युवा बड़े पैमाने पर अनुचित कदम उठाये हैं, जिसके कारण आत्महत्या करनेवाले युवकों व युवतियों की संख्या में बेतहाशा वृद्धि हुई हैं, राज्य सरकार को चाहिए कि इस घटना को गंभीरता से लें।

Krishna Bihari Mishra

2 thoughts on “CM रघुवर के फेसबुक पेज पर दो युवकों ने मांगी इच्छामृत्यु, CMO दिखाई संवेदनहीनता

  1. It is noted that this govt is always loading hoax about digital india but themselves made it mockery of the digital platforms where the one-way corum forum for formality is there…No concern no coment no mention no remedies no answers…Total insensitiveness.
    Really..Vertically opposite deeds.
    You have thrown light and concern my thanks

    Rajesh krishn.
    Ranchi.

  2. It is noted that this govt is always louding hoax about digital india but themselves made it mockery of the digital platforms where the one-way corum forum for formality is there…No concern no coment no mention no remedies no answers…Total insensitiveness.
    Really..Vertically opposite deeds.
    You have thrown light and concern my thanks

    Rajesh krishn.
    Ranchi.

Comments are closed.

Next Post

मंत्री सीपी सिंह ने बस ऑनर्स एसोसिएशन द्वारा बढ़ाये गये किराये को अवैध करार दिया

Tue Feb 27 , 2018
संजीव कुमार लाल का कहना है कि झारखण्ड राज्य के अंदर बस भाड़ा नियत करने की शक्ति (जिसके अंतर्गत अधिकतम तथा न्यूनतम किराया और माल भाड़ा नियत करना भी है) मोटरयान अधिनियम 1988  की धारा 67 की उपधारा (1) के खण्ड (1) में राज्य सरकार में निहित है, बगैर राज्य सरकार की सहमति के बस ऑनर्स एसोसिएशन के द्वारा राज्य में बसों के किराये में बढ़ोत्तरी करना बिल्कुल गलत तथा अवैध है।

You May Like

Breaking News