धनबाद के दो सहोदर भाइयों महेन्द्र और हेमन्त की रांची में नृशंस हत्या, पूरे कोयलांचल में शोक की लहर

रांची स्थित साधना न्यूज चैनल के कार्यालय में धनबाद निवासी हेमन्त अग्रवाल और महेन्द्र अग्रवाल की नृशंस हत्या कर दी गई। सूत्र बताते है कि महेन्द्र और हेमन्त अपना बकाया पैसा मांगने के लिए साधना न्यूज चैनल पहुंचे थे, जहां उसकी हत्या कर दी गई। ऑफिस के कर्मचारी फिलहाल फरार है। इस दोहरे हत्या का आरोप साधना न्यूज की फ्रैंचाइजी चलानेवाले लोकेश चौधरी पर है।

रांची स्थित साधना न्यूज चैनल के कार्यालय में धनबाद निवासी हेमन्त अग्रवाल और महेन्द्र अग्रवाल की नृशंस हत्या कर दी गई। सूत्र बताते है कि महेन्द्र और हेमन्त अपना बकाया पैसा मांगने के लिए साधना न्यूज चैनल पहुंचे थे, जहां उसकी हत्या कर दी गई। ऑफिस के कर्मचारी फिलहाल फरार है। इस दोहरे हत्या का आरोप साधना न्यूज की फ्रैंचाइजी चलानेवाले लोकेश चौधरी पर है।

महेन्द्र अग्रवाल और हेमन्त अग्रवाल धनबाद के बैंक मोड़ थाने के शास्त्री नगर में बालाजी अपार्टमेंट में रहा करते थे, उनके पिता ओम प्रकाश अग्रवाल हैं, ये पूरा परिवार एक मध्यमवर्गीय परिवार से आता है। परिवार के दो महत्वपूर्ण सदस्यों की हत्या की खबर से धनबाद ही नहीं, बल्कि झरिया में भी शोक की लहर है।

बताया जाता है कि महेन्द्र और हेमन्त रांची के शिवम अपार्टमेन्ट में भी रहा करते थे, तथा दोनों भाई कार्गो कम्पनी में काम करते थे, जब उनके परिजनों को उनके लापता होने का कोई सुराग नहीं मिला तो हारथककर  लालपुर थाने में अपहरण की शिकायत उन्होंने दर्ज कराई थी, पारिवारिक सूत्रों के अनुसार पैसे के लेनदेन को लेकर लोकेश चौधरी और महेन्द्रहेमन्त के बीच काफी दिनों से विवाद चल रहा था।

परिजनों के शिकायत के बाद पुलिस हरकत में आई, तथा जैसे ही न्यूज चैनल के कार्यालय में पुलिस आई, तब पुलिस ने कार्यालय के दरवाजे को तोड़ा, जहां उसे महेन्द्र और हेमन्त की लाश मिली। पुलिस पूरे मामले की तहकीकात कर रही है, जबकि जिस पर हत्या का आरोप है, वह फरार बताया जा रहा हैं, ऐसे भी यह न्यूज चैनल काफी दिनों से बंद पड़ा था।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

रांची में सरना धर्म कोड की मांग को लेकर दो गुटों में बंटे आदिवासियों ने सभा तथा प्रदर्शन कर सरकार को चेताया

Thu Mar 7 , 2019
सरना धर्म कोड की मांग को लेकर आदिवासियों की विभिन्न संस्थाएं व संगठनों ने दो स्थानों पर अपने-अपने ढंग से धरना व प्रदर्शन किया। एक ने मोराबादी मैदान में सभा कर सरकार को शक्ति प्रदर्शन के माध्यम से बताया कि सरना धर्म कोड पर अब टालमटोल ज्यादा दिनों तक बर्दाश्त नहीं, जबकि दूसरे ने राजभवन के समक्ष धरना व प्रदर्शन किया। दोनों स्थानों पर आदिवासियों की संख्या भारी संख्या में थी।

Breaking News