यह है भाजपा का न्यू इंडिया, जहां BJP विधायक एक ड्यूटी पर तैनात अधिकारी की बैट से पिटाई कर देता है।

वह मध्यप्रदेश के महत्वपूर्ण शहर इंदौर-3 से भाजपा का विधायक है। वह भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का बेटा है। उसका नाम आकाश विजयवर्गीय है। वह नया-नया विधायक बना है और उसने नगर निगम के एक अधिकारी की बैट से पिटाई कर दी है। इस घटना का विडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। आकाश के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करा दी गई है।

वह मध्यप्रदेश के महत्वपूर्ण शहर इंदौर-3 से भाजपा का विधायक है। वह भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का बेटा है। उसका नाम आकाश विजयवर्गीय है। वह नया-नया विधायक बना है और उसने नगर निगम के एक अधिकारी की बैट से पिटाई कर दी है। इस घटना का विडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। आकाश के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करा दी गई है। यह है भाजपा का न्यू इंडिया, यह हैं भाजपा के एक नेता के बेटा की हरकत। जिसे देख सभी हतप्रभ है।

बताया जाता है कि नगर निगम के कर्मचारी अतिक्रमण के खिलाफ विशेष अभियान चला रहे थे, तभी आकाश वहां पहुंचा, और कर्मचारियों से उलझ गया, कर्मचारियों से उलझने के क्रम में उसने आव देखा, न ताव, वह क्रिकेट बैट से अधिकारी को पीटना प्रारम्भ कर दिया। यहीं नहीं आकाश विजयवर्गीय का कहना है कि वह भ्रष्टाचार और गुंडागर्दी खत्म करके रहेगा, उसका लाइन ऑफ एक्शन है – आवेदन, निवेदन और फिर दनादन।

जब वह अधिकारी की पिटाई कर रहा था, तभी वहां खड़ी पुलिस और लोग उसे रोकने की कोशिश कर रहे थे, पर वह मानने को तैयार नहीं था। इधर आकाश विजयवर्गीय के इस हरकत से भाजपा की छीछालेदर शुरु हो गई है, कांग्रेस के नेताओं ने तो इस घटना पर साफ कहा है कि ये घटना भाजपा के चाल, चरित्र और चेहरे को उजागर कर देती है, जिसे भी भाजपा के संस्कार देखने हो, वह इस विडियो को देख लें। अब सवाल उठता है कि क्या भाजपा के विधायक यहीं करेंगे, वे कानून अपने हाथ में लेंगे, वे किसी की भी ठुकाई कर देंगे, वे किसी की भी इज्जत ले लेंगे, अगर यहीं भाजपा का “न्यू इंडिया” है तो ये “न्यू इंडिया” भाजपा को ही मुबारक।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

भाई मेरे वक्त बलवान होता है, मोदी या दास नहीं, वक्त ने यहां तक पहुंचाया, वक्त ही वहां से हटायेगा भी

Thu Jun 27 , 2019
सूरज प्रतिदिन निकलता है, लेकिन करोड़ों की आबादी में बहुत कम ही लोग हैं, जो सूरज को प्रतिदिन निकलते और डूबते देखते हैं। सूरज प्रतिदिन एक संदेश देता है, पर बहुत कम ही लोग हैं, जो उन संदेशों को समझ पाते हैं, पर जो समझ लेते हैं, उनकी जिंदगी बन जाती है, उनका जीने का उद्देश्य सफल हो जाता है, और जो नहीं समझ पाते, वे ऊंचाइयों को भी पाकर, अंत में धूल में मिल जाते हैं, जिनका बाद में कोई अता-पता भी नहीं होता।

You May Like

Breaking News