धनबाद में CM की सभा के लिए बन रहा मंच क्या धराशायी हुआ, BJP वाले ही मजाक बनाना शुरु कर दिये

16-17 अक्टूबर को राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास अपने जन आशीर्वाद यात्रा को लेकर धनबाद में रहेंगे। जहां वे अपने पांच साल की उपलब्धियों को जनता के समक्ष रखेंगे। मुख्यमंत्री के इस कार्यक्रम को लेकर आम जनता में कोई उत्साह नहीं दिखता और न ही भाजपा कार्यकर्ताओं में इसे लेकर उत्साह हैं। उसके बाद भी जिन्हें भाजपा की टिकट की चाह हैं,

16-17 अक्टूबर को राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास अपने जन आशीर्वाद यात्रा को लेकर धनबाद में रहेंगे। जहां वे अपने पांच साल की उपलब्धियों को जनता के समक्ष रखेंगे। मुख्यमंत्री के इस कार्यक्रम को लेकर आम जनता में कोई उत्साह नहीं दिखता और न ही भाजपा कार्यकर्ताओं में इसे लेकर उत्साह हैं।

उसके बाद भी जिन्हें भाजपा की टिकट की चाह हैं, वे मुख्यमंत्री की इस सभा के लिए एड़ी-चोटी एक किये हुए हैं तथा सभा बेहतर हो, इसके लिए अभी से ही प्रबंध करने में जुट गये हैं, दूसरी ओर कल जिस प्रकार से आंधी-बारिश आई, उस आंधी बारिश में मुख्यमंत्री रघुवर दास के लिए बन रहा मंच उखड़ गया, जो भाजपाइयों में ही बहस का विषय बन गया।

कुछ भाजपा कार्यकर्ताओं ने इसे फेसबुक पर डालकर, मंच के उखड़ने, बांस-बल्ली गिरने को लेकर मजाक बनाना शुरु किया, जिस पर कई लोगों ने टिप्पणियां की, कुछ का कहना था कि मंच का गिरना, बांस-बल्ली का उखड़ना मतलब साफ है कि मुख्यमंत्री के पुनः सत्ता में लौटने के लक्षण नहीं दिख रहे। कुछ का कहना था कि भाजपा का कार्यकर्ता होकर अपने ही पार्टी का मजाक उड़ाना सही नहीं।

कुछ लोगों ने इस प्रकरण को अपने फेसबुक पर डाला और जैसे ही उपर से दबाव आया, बड़ी ही चालाकी से उसे फेसबुक से डिलीट कर दिया, लेकिन तब तक उनकी इस चालाकी को कई लोगों ने कैद कर लिया था। राजनीतिक पंडितों की मानें तो मुख्यमंत्री के मंच का गिरना और भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा ही इसका मजाक बना देना, बतला देता है कि भाजपा कार्यकर्ताओं में अंदर ही अंदर क्या खिचड़ी पक रही हैं?

राजनीतिक पंडितों का कहना है कि गोधर की घटना बता रही है कि भाजपा पहले वाली भाजपा नहीं, बल्कि अब ये जातिवाद का शत प्रतिशत शिकार हो चुकी है, जिस जाति के लोगों का जहां प्रभाव होगा, उसी की बल्ले-बल्ले होगी, बाकी जातियां या लोग इनके शिकार होते रहेंगे और आपस में ही एक दूसरे का मजाक बनायेंगे, जिसका प्रभाव धनबाद में फिलहाल दिख रहा है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

प्रभात खबर ने अपने ही समाचार का किया चीर-हरण, CM की छवि चमकाने के चक्कर में जनता की आंखों में झोका धूल

Sun Oct 13 , 2019
झारखण्ड में पत्रकारिता का स्तर कितना नीचे गिरा हुआ हैं, उसका एक और परिणाम आज देखने को मिला, जब मुख्यमंत्री रघुवर दास से जुड़ी खबर को प्रभात खबर पूरी तरह से खा गया। यह वहीं अखबार हैं, जो खुद को झारखण्ड में अखबार नहीं आंदोलन बताता है, पर ये कर क्या रहा हैं? आजकल यह इस प्रकार खुद को पेश कर रहा हैं, जैसे लगता है कि यह भारतीय जनता पार्टी का मुख पत्र हो गया हो।

Breaking News