जमशेदपुर में अमित शाह की सभा से जनता ने बनाई दूरी, सिर्फ मोदी के नाम पर अमित शाह ने मांगा वोट

लगता है कि अब जनता नेताओं की रैलियों और सभाओं से दूरियां बनानी शुरु कर दी है, जिसका झलक आज जमशेदपुर के टाटा एग्रिको मैदान में देखने को मिला, जहां भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की सभा थी, इस सभा से ज्यादातर जनता ने दूरियां बनाई, ऐसे भी जमशेदपुर के बारे में माना जाता है कि यहां की जनता कुछ ज्यादा ही सुकुमार है और वह बेकार के भाषण में तथा भीषण गर्मी से खुद को बचाने पर ज्यादा ध्यान देती है,

लगता है कि अब जनता नेताओं की रैलियों और सभाओं से दूरियां बनानी शुरु कर दी है, जिसका झलक आज जमशेदपुर के टाटा एग्रिको मैदान में देखने को मिला, जहां भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की सभा थी, इस सभा से ज्यादातर जनता ने दूरियां बनाई, ऐसे भी जमशेदपुर के बारे में माना जाता है कि यहां की जनता कुछ ज्यादा ही सुकुमार है और वह बेकार के भाषण में तथा भीषण गर्मी से खुद को बचाने पर ज्यादा ध्यान देती है, चूंकि जो पार्टी के कार्यकर्ता होते हैं उन्हें अपना चेहरा नेताओं को दिखाना होता है, इसलिए वे इन सभी कार्यक्रमों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेते हैं।

कुछ पत्रकारों को ड्यूटी रहती है कि वे इन नेताओं के भाषण जितना जल्द हो सकें, अपने मुख्यालय में भेजें, इसलिए उनकी मजबूरी होती है कि वे कैमरा और अपनी टीम लेकर वहां पहुंचते हैं, और बाकी लोग को चूंकि इन सबसे कोई मतलब नहीं होता, अब वे भी जान गये है कि ये जो नेता जो कुछ बोलेंगे,  गलत या सही कल अखबारों में पढ़ने को तथा सायं काल में टीवी पर देखने को मिल ही जायेगा और जो रियल रियलिटी हैं, जो भाजपा के ही विक्षुब्ध लोग हैं, वो अपने सोशल साइट पर खुद ही वायरल कर देंगे, तो जरुरत क्या है, इस भीषण गर्मी में खुद की जान आफत में डालने की, इसलिए पड़े रहे आराम से अपने घर पर।

इधर अमित शाह के पूरे भाषण को देखें, तो इन्होंने कुछ भी ऐसा नहीं कहा, जो अन्य जगहों पर न कही हो, ले-देकर उनके भाषण में मोदी ही मोदी थे, वे बता रहे थे कि पिछले 20 साल से नरेन्द्र मोदी ने आराम नहीं किया है, देश की सेवा की है, इसलिए देश की सुरक्षा के लिए पीएम की कुर्सी पर नरेन्द्र मोदी का होना बहुत ही जरुरी है, इसलिए जनता जब वोट करें तो ध्यान रखे कि वो पीएम मोदी को वोट कर रहे हैं, न कि वे स्थानीय सांसद को वोट कर रहे हैं।

 

अमित शाह ने कहा कि वे अब तक 296 लोकसभा का दौरा कर चुके है, हर कुछ दूर पर भाषाएं और बोलियां बदल जाती है, पर एक ही चीज नहीं बदलती है, वो हैं लोगों के जुबान पर मोदी-मोदी के नारे। उन्होंने कहा कि उन्हें पूरा विश्वास  है कि 23 मई को एक बार फिर नरेन्द्र मोदी देश का बागडोर संभालेंगे, क्योंकि जनता जानती है कि विपक्ष में कोई ऐसा नेता नहीं, जो नरेन्द्र मोदी का विकल्प भी बन सकें।

अमित शाह ने राहुल गांधी और हेमन्त सोरेन पर तंज कसते हुए कहा कि वे आतंकियों से जितना इलू-इलू करना है कर लें, पर भाजपा पाकिस्तान को उचित जवाब देती रहेगी। उन्होंने कहा कि भाजपा दुबारा सत्ता में आई तो धारा 370 हटायेंगी, राजद्रोह करनेवालों को जेल के सलाखों में डालेगी, देश मे एक भी घुसपैठिया नहीं रहेगा। उन्होंने कहा कि भाजपा के लिए तीन जी है – गांव, गौ माता और गंगा माता, जबकि कांग्रेस के लिए तीन जी हैं – राहुल जी, प्रियंका जी और सोनिया जी।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

IPRD के उप-निदेशक अजय ने झांसा देकर पंकज जैन से काम कराया और दो महीने की सैलरी भी नहीं दी

Thu May 9 , 2019
कभी आइपीआरडी में कंटेट राइटर और उसके बाद मुख्य सचिव के पीआरओ के पद पर कार्यरत पंकज जैन इन दिनों काफी दुखी हैं, दुख का कारण आइपीआरडी द्वारा काम लेना और उनके पारिश्रमिक का भुगतान नहीं करना है। पंकज जैन ने 6 मई को 10 बजकर 09 मिनट पूर्वाह्न, अपने सोशल साइट फेसबुक पर जब यह लिखा “मेरी 2 महीने की सैलरी सूचना जनसम्पर्क विभाग ने नहीं दी, फिर में भाजपा को वोट क्यों दूं?”

Breaking News