केन्द्र सरकार ने आवास सेंक्शन नहीं किये, अगर पहाड़ियां समुदाय के लोगों के पास आवास होती तो उन्हें ब्रेन मलेरिया जैसी बीमारी भी नहीं होतीः हेमन्त सोरेन

गोड्डा स्थित मुंदर कोठी स्टेडियम में आयोजित “आपकी योजना-आपकी सरकार-आपके द्वार ” के तीसरे चरण के अंतर्गत आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि सुंदरपहाड़ी क्षेत्र में पहाड़िया समुदाय से कुछ लोगों की मलेरिया, ब्रेन मलेरिया, आदि के कारण दुःखद मृत्यु हो गयी थी। गरीब को ये बीमारियां ज्यादा परेशान करती हैं। जिनका आवास नहीं हैं, जो टूटे-फूटे घर में रहने को विवश होते हैं उनके घर यह बीमारियां ज्यादा आती हैं।

केंद्र सरकार ने हमें हमारे आवास सेंक्शन नहीं किये। अपने गरीब और वंचित समुदाय के भाइयों-बहनों के लिए हमने कमर कसी हैं। हम जरूरतमंद लोगों को आठ लाख अबुआ आवास देने जा रहे हैं, जो तीन कमरों का आवास होगा। जरूरत हुई तो उससे भी ज्यादा आवास देना होगा, तो देंगे। गरीब को यह बीमारी नहीं होती अगर उसे बढ़िया आवास उपलब्ध होता। लगातार इस समस्या पर मेरी नजर है।

आज विपक्ष के लोग पहाड़िया समाज को लेकर राजनीति करने की कोशिश करते हैं। यह लोग पिछले 20 वर्ष कहां चले गए थे? आज विपक्ष को भगवान बिरसा मुंडा, शहीद सिदो-कान्हू याद आ रहे हैं, इससे पहले इन्हें कभी याद नहीं आये। यह आपकी राज्य सरकार है जो 400 से अधिक अति संवेदनशील जनजाति समाज के युवाओं को निःशुल्क आवासीय कोचिंग दे रही जिससे वो जेपीएससी/जेएसएससी परीक्षा देकर आगे बढ़ पाए।

आपकी योजना, आपकी सरकार, आपके द्वार कार्यक्रम को लेकर राज्यभर में उत्सव सा माहौल है। योजनाओं का लाभ लेने वाले लोगों के चेहरे पर खुशी देखने को मिल रही है। हम एयरकंडीशन कमरे में बैठने वाली सरकार नहीं हैं बल्कि गांव-गांव जाकर जरूरतमंद लोगों को योजनाओं से जोड़ने वाले लोग हैं। हम झारखण्ड की जड़ों को मजबूत करने का काम कर रहे हैं।

राज्य के गांवों को सशक्त बनाने का काम कर रहे हैं। झारखण्ड कुछ महीनों में 25वें साल में प्रवेश करेगा। युवा राज्य बनेगा जो अपने कंधों पर आगे बढ़ कर कई जिम्मेदारियां लेगा। लेकिन पूर्ववर्ती सरकारों ने राज्य को पिछड़ा बनाने का काम किया था। इन्होंने राज्य को दिशा तो दिया नहीं बल्कि राज्य का खून चूस डाला। हमें मिलकर इस राज्य को अग्रणी राज्य की श्रेणी में लाना है।