सिल्ली और गोमिया में झामुमो की बल्ले-बल्ले, दोनों सीटों पर तीर-कमान की जीत सुनिश्चित

सिल्ली और गोमिया में झामुमो की बल्ले-बल्ले है। दोनों सीटों पर तीर-कमान की धूम हैं। झामुमो ने सिल्ली और गोमिया की जनता के बीच एक बार फिर अपनी जोरदार पहचान बना ली है। दुसरी ओर झामुमो को कांग्रेस, झाविमो, राजद तथा अन्य वामपंथी पार्टियों द्वारा मिले सहयोग ने सिल्ली और गोमिया की चुनाव को एकतरफा बना दिया है। यहां झामुमो को सहयोग दे रही पार्टियां और उनके कार्यकर्ताओं के बीच एक नारा खुब चल रहा है।

सिल्ली और गोमिया में झामुमो की बल्ले-बल्ले है। दोनों सीटों पर तीर-कमान की धूम हैं। झामुमो ने सिल्ली और गोमिया की जनता के बीच एक बार फिर अपनी जोरदार पहचान बना ली है। दुसरी ओर झामुमो को कांग्रेस, झाविमो, राजद तथा अन्य वामपंथी पार्टियों द्वारा मिले सहयोग ने सिल्ली और गोमिया की चुनाव को एकतरफा बना दिया है। यहां झामुमो को सहयोग दे रही पार्टियां और उनके कार्यकर्ताओं के बीच एक नारा खुब चल रहा है। नारा है – कितना लगालो जोर तमाम, जनता चाहे तीर-कमान।

सिल्ली में झामुमो प्रत्याशी सीमा महतो की आजसू के उम्मीदवार सुदेश महतो से सीधी टक्कर है, जबकि गोमिया में झामुमो प्रत्याशी बबीता देवी की लड़ाई भाजपा प्रत्याशी माधव लाल सिंह और आजसू प्रत्याशी लंबोदर महतो से है। दोनों जगहों पर लड़ाई एकतरफा है, लोग बताते है कि जीत का अंतर बहुत ज्यादा होगा, क्योकि भाजपा की गलत नीतियों और उस पर आजसू का भाजपा को दिया जा रहा समर्थन आजसू के जीत पर खतरा मंडरा कर रख दिया हैं, उस पर से सारे विपक्षी दलों को झामुमो को मिल रहा समर्थन, झामुमो की जीत पर मुहर लगाकर रख दिया है।

सिल्ली और गोमिया में झामुमो प्रत्याशी को जीताने के लिए कांग्रेस, राजद, झाविमो एवं अन्य वामपंथी दलों के नेताओं ने भी सभाएं की हैं, तथा घर-घर जाकर झामुमो प्रत्याशियों को जीताने की अपील की, जिसका असर भी देखा जा रहा है। नेता प्रतिपक्ष हेमन्त सोरेन द्वारा सारे विपक्षी दलों को एकता के सूत्र में बांधने का यह भागीरथी प्रयास रंग ला रहा हैं। इधर भाजपा या आजसू कितना भी दिखावा क्यों न कर लें कि वे एक दूसरे का समर्थन करते है, पर गोमिया में आजसू द्वारा उम्मीदवार दे दिये जाने से भाजपा नेताओं व कार्यकर्ताओं में आजसू के खिलाफ गुस्सा देखा जा रहा है, जो बताने के लिए काफी है कि इन दोनों जगहों पर आजसू का क्या होना है?

एक भाजपा कार्यकर्ता ने तो नाम नहीं छापने के शर्त पर कहा कि उनकी पार्टी क्यों सिल्ली में सुदेश महतो को जीताना पसंद करेगी, सुदेश के मजबूत होने से खतरा भाजपा को ही है, इसलिए भाजपा के कार्यकर्ता सिल्ली से स्वयं को दूर रखे हैं, वहीं गोमिया में माधव लाल सिंह को जीताने के लिए प्रयास कर रहे हैं, पर जीत माधव लाल सिंह की होगी, यह कहना मुश्किल है, क्योंकि झामुमो प्रत्याशी बबीता देवी, वहां से मजबूत प्रत्याशी फिलहाल दीख रही हैं, जिसकी जीतने की संभावना प्रबल है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

खुद भाजपा के नेताओं को ही नहीं पता कि क्या है मिशन मोदी अगेन पीएम

Sun May 27 , 2018
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मालूम है, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को पता है, संघ के धुरंधरों को पता है कि क्या है मिशन मोदी अगेन पीएम, पर झारखण्ड के कुछ नेताओं को पता ही नहीं कि मिशन मोदी अगेन पीएम क्या है? और कैसे काम करता है? ये बात की जानकारी विद्रोही 24.कॉम को तब हुई, जब मिशन मोदी अगेन पीएम की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में स्वयं भाजपा के राज्यसभा सांसद महेश पोद्दार ने यह कह दिया

Breaking News