किसी ने धूम-धड़ाके, तो किसी ने सादगी, तो किसी ने इस बार होली खेली ही नहीं

आज होली है। होली यानी उमंग-उत्साह, धूम-धड़ाके का पर्व। कही ढोल-नगाड़े बज रहे हैं, कही झाल-करताल और सभी पर एक ही राग, फगुआ गीत-होली गीत। सभी मस्ती में है। घर के रसोई से लेकर बाहर के बातावरण तक मस्ती ही मस्ती है। मस्ती हो भी क्यों न? सालाना पर्व है, मस्ती का पर्व है, ऐसे में हम मातम क्यों मनाएं? क्यों न झूम जाये, क्योंकि सुप्रसिद्ध कवि हरिवंश राय बच्चन ने कहा है कि जो बीत गई सो बात गई,

आज होली है। होली यानी उमंगउत्साह, धूमधड़ाके का पर्व। कही ढोलनगाड़े बज रहे हैं, कही झालकरताल और सभी पर एक ही राग, फगुआ गीतहोली गीत। सभी मस्ती में है। घर के रसोई से लेकर बाहर के बातावरण तक मस्ती ही मस्ती है। मस्ती हो भी क्यों ? सालाना पर्व है, मस्ती का पर्व है, ऐसे में हम मातम क्यों मनाएं? क्यों झूम जाये, क्योंकि सुप्रसिद्ध कवि हरिवंश राय बच्चन ने कहा है कि

जो बीत गई सो बात गई,

माना वह बेहद प्यारा था,

वह डूब गया तो डूब गया,

अम्बर के आनन को देखो,

कितने इसके तारे टूटे,

कितने इसके प्यारे छूटे,

पर बोलो टूटे तारों पर,

कब अम्बर शोक मनाता है,

जो बीत गई, सो बात गई  

भाई बात तो सोलहो आने सही है, शायद यहीं कारण है कि देश नाना प्रकार के झंझावातों को सह रहा है, पर भारतवासियों को, इससे कोई मतलब ही नहीं, वे तो होली मनाने में डूबे हैं। वह भी तब जब दो दिन पूर्व ही चीन ने भारत को आंख दिखाई और कह दिया कि सोशल साइट पर तुम कितने भी नखरे दिखा दो, पर तुम्हें हमारे प्रोड्क्टस खरीदने ही पड़ेंगे, पर चीन के इस धमकी का जवाब किसी भारतीय या भारतीय नेताओं के होठों से नहीं निकला, ऐसे भी हमारे देश के खिलाफ चीन जितना भी आग उगले, संयुक्त राष्ट्र संघ में मसूद अजहर को बचाने के लिए वीटो का ही इस्तेमाल क्यों कर दें, पर भारतीय, चीन के खिलाफ नहीं जाते, पता नहीं क्यों, चीन से डरते है, या चीन के नाम पर कुछ और ही इनके दिमाग में चलती है।

चलिये, होली है, कहां हम आपको देशभक्ति का पाठ पढ़ाने लगे, खूब होली मनाइये, भगवान का नाम लीजिये अथवा मत लीजिये, मस्ती में डूबे रहिये। गांवगिरांव में शहर की चिल्लाहट वाली होली लगता है, नहीं पहुंची है। यहां आज भी रात को होलिकादहन का कार्यक्रम हुआ और दूसरे दिन ढोलमंजीरों के साथ होली गीत गाये जा रहे हैं, तथा एक दूसरे को रंगगुलाल लगाकर होली की बधाई दी जा रही है।

पर इसी गांव में कोई ऐसा भी परिवार है, जहां का एक युवा हाल ही में पुलवामा में अपना जीवन उत्सर्ग कर दिया है, शायद यही कारण है कि वहां होली की वो रौनक दिखाई नहीं पड़ती, इस बार होली के दिन मातम दिखता है, यह मातम सा दृश्य बताता है कि देश के गांवों में आज भी एक दूसरे के प्रति वही भाव हैं, जो पूर्व में था, इसे ही बचाने की जरुरत हैं, अगर ये बच गया तो समझ लो भारत जिंदा हैं, अगर नहीं बचा तो भारत कब का मर गया।

हमें खुशी हो रही है कि रांची शहर के कई इलाकों में एकदो परिवार ऐसे भी हैं, जो बड़े ही धूमधड़ाके के साथ होली मनाया करते थे, पर इस बार उन्होंने होली मनाई ही नहीं, घर में बंद रहे, उनके घरों में तो पुड़ी बनी, ही मालपुआ और ही आलूकटहल की सब्जी। पूछने पर वे बताते है कि उन्होंने पुलवामा घटना के बाद, ये संकल्प लिया था कि इस बार वे होली नहीं मनायेंगे और उन्होंने पूरा कर दिखाया, पुलवामा के शहीदों और उनके परिवार के साथ वे नजर आये।

कई स्थानों पर हमने स्वयं देखा कि रांची में एक समाजसेवी पत्रकार ललित मुर्मू तथा पुष्पगीत के निधन पर भी कई परिवारों ने होली नहीं मनाई तथा कइयों के घर में अगर होली मनी भी तो बहुत ही सादगी से, रंगगुलाल को लोगों ने हाथ तक नहीं लगाया। अन्य स्थानों पर होली अभी भी अपने तरीके से चल रही है, कहीकहीं बड़ेबड़े साउंड बाक्स लगाकर होली को सेलीब्रेट किया जा रहा है। अश्लील गानों की पूरी सीडी लगा दी गई है, सुना था प्रशासन, इस बार सख्त है, पर हमें उसकी सख्ती कही दिखाई नहीं दी, शायद उन्होंने ने भी मान लिया कि होली है, होली में कुछ भी कर लीजिये, ये सब चलता है, चलिए होली शांति से बीत जाये, हम सब की यही कामना है, होली की बधाई और शुभकामनाएं।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

कुर्ता फाड़े सीपी सिंह, मस्ताना बने हैं अर्जुन, दुल्हा बन गये मुख्यमंत्री, भाजपा की होली गर्दा, जोगीरा सारारा

Thu Mar 21 , 2019
सचमुच भाजपाइयों ने इस बार होली का लगता है कि रिकार्ड ही तोड़ दिया। सीपी सिंह की होली तो पुराने अंदाज में ही मनी। सुबह-सुबह उनके घर में कार्यकर्ताओं की टोली आती गई और उन्हें मस्ती में सराबोर करती रही, कार्यकर्ताओं की इस मस्ती में भला सीपी सिंह कैसे शांत रहते, लीजिये कब कौन कार्यकर्ता उनके कपड़े फाड़ गया, पता ही नहीं चला और वे कपड़ा फाड़ होली मनाते हुए आनन्द में डूब गये।

You May Like

Breaking News