शशिभूषण का BJP में शामिल होना बताता हैं कि भाजपा बलात्कारियों और हत्यारों की पार्टी – ऐपवा

भाकपा माले की महिला इकाई ऐपवा की रांची नेतृ आईती तिर्की ने सुचित्रा मिश्रा के हत्या के आरोपी शशिभूषण मेहता को भाजपा में शामिल करने की घटना की कड़ी निन्दा की है। आईती तिर्की ने आज संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि यह घटना स्पष्ट करती है भाजपा में महिलाओं की कोई इज्जत ही नहीं, यानी आज की स्थिति को देख हम स्पष्ट रुप से कह सकते है कि भाजपा बलात्कार व हत्या करनेवाले लोगों की शरणस्थली बन गई है।

भाकपा माले की महिला इकाई ऐपवा की रांची नेतृ आईती तिर्की ने सुचित्रा मिश्रा के हत्या के आरोपी शशिभूषण मेहता को भाजपा में शामिल करने की घटना की कड़ी निन्दा की है। आईती तिर्की ने आज संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि यह घटना स्पष्ट करती है भाजपा में महिलाओं की कोई इज्जत ही नहीं, यानी आज की स्थिति को देख हम स्पष्ट रुप से कह सकते है कि भाजपा बलात्कार व हत्या करनेवाले लोगों की शरणस्थली बन गई है।

आईती तिर्की ने कड़े शब्दों में कहा कि भाजपा महिला हिंसा के अपराधियों को शरण देकर, उनके सहयोग से राज्य में शासन करने का ख्वाब देख रही हैं, जो बताता है कि आनेवाला समय झारखण्ड के लिए कितना खतरनाक हैं, अगर ऐसे लोग सत्ता में होंगे तो राज्य का क्या होगा, समझा जा सकता है।

उन्होंने यह भी कहा कि वर्ष 2012 में आक्सफोर्ड स्कूल की वार्डन सुचित्रा मिश्रा की संदेहास्पद मौत के आरोपी तत्कालीन निदेशक शशिभूषण मेहता को संभावना है कि भाजपा पांकी से अपना उम्मीदवार भी बना दें, जबकि भाजपा महिला सशक्तिकरण की बात करती हैं, क्या शशिभूषण मेहता जैसे लोग महिला की सशक्तिकरण करेंगे।

आईती तिर्की ने कहा कि इस तरह की बलात्कारियों व हत्यारों की जमात की राजनीति शुरु करने के खिलाफ ऐपवा पूरे झारखण्ड में शीघ्र ही एक बड़ा आंदोलन खड़ा करेगी, क्योंकि भाजपा ने शशिभूषण जैसे लोगों को पार्टी में शामिल करा, अपना चरित्र राज्य की जनता को दिखा दिया है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

मां का दरबार और उद्घाटन करेंगे नेता-अधिकारी, जो मां के भक्तों का सुख-चैन ही लूट लेते हैं

Sun Oct 6 , 2019
कमाल है दुर्गा पूजा उत्सव चरम पर हैं, और मस्त हैं वे नेता व अधिकारी जो इस दुर्गा पूजा में भी स्वयं को भगवान को चुनौती देने से बाज नहीं आये, कहने को तो वे यह भी कह सकते हैं कि वे करें तो क्या करें, हम थोड़े ही खुद जाते हैं, पंडालों का उद्घाटन करने। अरे हमें पूजा समितियां बुलाती हैं, तो चले जाते हैं। बात भी सही हैं, पर यहीं समितियां अगर इन्हें कूएं में कूदने के लिए कहेंगी तो क्या ये कूएं में कूद जायेंगे, नहीं न।

Breaking News