राजनाथ ने पाकिस्तान को हड़काया, परमाणु बम पर संयम की नीति में भारत बदलाव कर सकता है

बार-बार स्वयं को परमाणु शक्ति से लैस होने का दंभ भरनेवाले पाकिस्तान को आज भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने हड़काया हैं, साथ ही यह भी कह दिया कि हालांकि भारत की परमाणु बम पर संयम की नीति है। भारत नो फर्स्ट यूज के सिद्धांत को अपनाया है, पर भविष्य में क्या होगा? यह सब परिस्थितियों पर निर्भर करेगा।

राजनाथ सिंह ने यह बात पोखरण में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के प्रथम पुण्यतिथि के अवसर पर कहा। राजनाथ सिंह का कहना था कि भारत एक जिम्मेदार देश है, परमाणु राष्ट्र का दर्जा रखता है, जो हर भारतीय नागरिक के लिए राष्ट्रीय गौरव की बात है, यह गौरव देश को अटल बिहारी वाजपेयी की बदौलत मिला है।

हालांकि पोखरण में परमाणु विस्फोट की बात को भाजपाई नेता सीधे अटल बिहारी वाजपेयी से जोड़कर देखते हैं, पर सच्चाई यह है कि पहला परमाणु परीक्षण 1974 में श्रीमती इंदिरा गांधी ने पोखरण में किया था। उसके बाद विपरीत परिस्थितियों में अटल बिहारी वाजपेयी ने मई 1998 में परमाणु परीक्षण किया।

नो फर्स्ट यूज में यह बात सुनिश्चित की गई है कि भारत कभी भी किसी देश पर पहले परमाणु हमला नहीं करेगा, जब तक वह देश भारत के उपर हमला नहीं कर देता है, यह सिद्धांत भारत ने 1998 में अपनाया जब उसने दूसरा परमाणु परीक्षण किया था।