धनबाद में रोड शो और चाईबासा में सभा कर राहुल ने भाजपा के मजबूत खूंटे को उखाड़ने का किया प्रयास

आज का दिन झारखण्ड में राहुल गांधी का था। राहुल गांधी ने इसी दौरान चाईबासा में एक जनसभा को संबोधित किया, वहीं धनबाद मे रोड शो कर निराश कांग्रेसी कार्यकर्ताओं में उत्साह का संचार कर दिया। चाईबासा में कांग्रेस प्रत्याशी गीता कोड़ा की स्थिति अब बहुत मजबूत हो गई हैं, जबकि धनबाद में भाजपा प्रत्याशी पीएन सिंह की स्थिति अभी भी मजबूत है,

आज का दिन झारखण्ड में राहुल गांधी का था। राहुल गांधी ने इसी दौरान चाईबासा में एक जनसभा को संबोधित किया, वहीं धनबाद मे रोड शो कर निराश कांग्रेसी कार्यकर्ताओं में उत्साह का संचार कर दिया। चाईबासा में कांग्रेस प्रत्याशी गीता कोड़ा की स्थिति अब बहुत मजबूत हो गई हैं, जबकि धनबाद में भाजपा प्रत्याशी पीएन सिंह की स्थिति अभी भी मजबूत है, लेकिन जिस प्रकार से  राहुल गांधी को देखने के लिए जनता की भीड़ धनबाद की सड़कों पर उमड़ी और जिस प्रकार से राहुल गांधी के धनबाद पहुंचते ही आपस में भिड़ रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं का उन्माद शांत हुआ, वह भाजपा के लिए खतरे की घंटी है।

चाईबासा में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा की सीधी टक्कर कांग्रेस प्रत्याशी गीता कोड़ा से हैं, सूत्र बताते है कि इस सीधी टक्कर में फिलहाल गीता कोड़ा का पलडा भारी है, महागठबंधन की प्रत्याशी हो जाने के कारण वोटों की प्रतिशतता इनका बढ़ना तय है, इधर जनसंगठनों ने भी गीता कोड़ा को जीताने में अपनी भूमिका तेज कर दी है, जबकि भाजपा को अपने बूथ के कार्यकर्ताओं पर ज्यादा भरोसा दिख रहा हैं, लोग बता रहे है कि इस बार भाजपा कुछ भी कर लें, चाईबासा सीट उसके हाथ से गई।

इधर धनबाद में भाजपा की स्थिति बहुत ही मजबूत है, जबकि कांग्रेस के प्रत्याशी कीर्ति आजाद की स्थिति कमजोर बताई जा रही हैं, कीर्ति आजाद के कमजोर होने का मूल कारण, कांग्रेस में अंतर्कलह का होना, राहुल गांधी के आने-आने तक छोटी-छोटी बातों को लेकर कांग्रेसियों को आपस में उलझते देखा जाना है।

आश्चर्य इस बात की है कि आज कांग्रेस कार्यकर्ता एक होकर डट जाये तो भाजपा की हार सुनिश्चित हो जायेगी, क्योंकि आज भी जनता भाजपा नेताओं से खार खाकर बैठी हुई है, चूंकि उसके पास भाजपा का धनबाद में विकल्प नहीं दिखाई दे रहा है, इसलिए उसकी मजबूरियां है, पर आज जिस प्रकार से राहुल गांधी ने रोड शो किया, और जनता जिस प्रकार से उस रोड शो में शिरकत की, यह बताने के लिए काफी है कि धनबाद में अगर कांग्रेस को कोई हरायेगा तो वह कांग्रेसी कार्यकर्ता ही होंगे, न कि भाजपा, क्योंकि जनता तो आज भी कांग्रेस को सहयोग देने के लिए लगता है कि तैयार बैठी है।

आज पुटकी के पास से जैसे ही राहुल गांधी का काफिला गुजरा, भाजपाइयों ने जयश्रीराम के नारे लगाए, पर वहां खड़ी जनता पर उस नारे का कोई प्रभाव नही दिखा, सभी एक झलक राहुल गांधी को देखना चाहते थे, कई जगहों पर लोग उन्हें रोककर उनसे मिलना चाहते थे, पर उनकी ये ललक मन में ही रह गई।

आज ही भाजपा के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह की एक जनसभा झरिया में आयोजित थी, जिसमें राजनाथ सिंह ने भाजपा को जीताने की अपील की, कल भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी धनबाद में होंगे, उनकी सभा धनबाद में आयोजित है, क्या वे राहुल गांधी के रोड शो का जवाब देने में सक्षम होंगे, फिलहाल सभी भाजपा कार्यकर्ताओं का ध्यान उसी ओर है, लेकिन इतना तय है कि आज के राहुल गांधी के रोड शो से भाजपा कार्यकर्ताओं व नेताओं के मन-मस्तिष्क पर बल जरुर पड़ गया होगा।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

अफसोस, जिन नेताओं को बात करने की तमीज नहीं, वे हमारे भाग्यविधाता बने हुए हैं, देश चला रहे हैं

Tue May 7 , 2019
जब से नरेन्द्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री बने, और गुजरात में जिस प्रकार गोधरा में हिन्दू कारसेवकों को साबरमती एक्सप्रेस की एक बॉगी में जिन्दा जला दिया गया और उसकी प्रतिक्रिया स्वरुप पूरे गुजरात में दंगा भड़की, उसके बाद से भारत में कुछ पत्रकारों और राजनीतिज्ञों ने उनके साथ ऐसी प्रतिक्रियात्मक भेदभाव शुरु की, जिसकी जितनी निन्दा की जाय कम हैं, ऐसा नहीं कि यह देश में पहली और अंतिम प्रकार का दंगा था, इसके पूर्व भी इस देश ने कई दंगे झेले हैं।

You May Like

Breaking News