मोदी सरकार के काम-काज से खफा पुरी के शंकराचार्य ने गोमो में कहा सत्ता परिवर्तन समय की मांग

स्वामी निश्चलानन्द सरस्वती ने कहा कि फिलहाल आज के राजनीतिक दल को डंके की चोट पर चुनाव जीतने के अलावा, उनके पास कोई अभियान ही नहीं है, वर्तमान में जो देश की स्थिति है, उसमें बदलाव होना समय की मांग है, क्योंकि वर्तमान में राष्ट्रहित की कामना के नाम पर, फूट डालो और शासन करो की नीति यहां चल रही है।

सिकन्दराबाद बरौनी स्पेशल ट्रेन से गया जा रहे पुरी के शंकराचार्य जगदगुरु स्वामी निश्चलानन्द सरस्वती ने आज गोमो में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि देश की जो स्थिति है, उसमें सत्ता परिवर्तन होना बहुत ही जरुरी है, क्योंकि वे देख रहे है कि सत्तालोलुपता से अब कोई राजनीतिक दल मुक्त नहीं रहा, चूंकि राजनेता ही शासन करते है, इसलिए देश का उत्कर्ष के नाम पर अपकर्ष हो रहा है। जगदगुरु स्वामी निश्चलानन्द सरस्वती सिकन्दराबाद बरौनी स्पेशल ट्रेन में रायपुर से चढ़े थे और वे गया पिंडदान करने के लिए जा रहे थे।

स्वामी निश्चलानन्द सरस्वती ने कहा कि फिलहाल आज के राजनीतिक दल को डंके की चोट पर चुनाव जीतने के अलावा, उनके पास कोई अभियान ही नहीं है, वर्तमान में जो देश की स्थिति है, उसमें बदलाव होना समय की मांग है, क्योंकि वर्तमान में राष्ट्रहित की कामना के नाम पर, फूट डालो और शासन करो की नीति यहां चल रही है।

शंकराचार्य ने वर्तमान राजनीति पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि सैद्धांतिक आधारशिला अब राजनीति में रही ही नहीं, राष्ट्रहित की भावना से कोई कदम नहीं उठाया जा रहा, राष्ट्र को तोड़ने, खंडित करने, छल-बल कर शासन करने का फैशन राजनेताओं में आ गया है, जो देश का दुर्भाग्य है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

जयंत की प्रतिमा पर अवसरवादी नेता सुदेश महतो को माल्यार्पण करने का अधिकार नहीं - भाकपा माले

Wed Oct 3 , 2018
कल से शुरु हुई हेसालौंग से स्वराज अभियान यात्रा की भाकपा माले ने कड़ी आलोचना की है। भाकपा माले के गुस्सा होने का कारण भी स्पष्ट है। चूंकि स्वराज अभियान की शुरुआत करनेवाले आजसू प्रमुख सुदेश महतो ने अपनी यात्रा हजारीबाग के हेसालौंग में भाकपा माले केन्द्रीय कमेटी के नेता रहे का. जयंत गांगुली की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के बाद प्रारंभ की। जिसको लेकर भाकपा माले राज्य सचिव जनार्दन प्रसाद ने इसकी तीखी आलोचना कर दी।

Breaking News