प्रदीप सौंथालिया की हार यानी सीएम को करारा झटका, धीरज साहू राज्यसभा चुनाव जीते

www.vidrohi24.com ने पूर्व में ही घोषणा कर दिया था कि भाजपा लाख तिकड़म भिड़ा ले, यहां से कांग्रेस के धीरज साहू की जीत पक्की है, और वहीं हुआ भी। भाजपा के लोगों ने अपने दूसरे उम्मीदवार को जीताने के लिए खूब चालें चली, झाविमो और वामपंथी विधायकों पर खूब डोरे डाले, जिसका प्रभाव भी दिखा, पर उसके बावजूद भाजपा वो नहीं कर सकी, जो पिछली बार कर दी थी, और महेश पोद्दार को राज्यसभा भिजवा दिया था।

लाखों तिकड़म-जुगाड़ लगाने के बावजूद भाजपा अपने दूसरे उम्मीदवार प्रदीप सोंथालिया को राज्यसभा नहीं पहुंचा सकी। झारखण्ड की दो राज्यसभा सीटों के लिए हुए मतदान के उपरांत आये चुनाव परिणाम में भाजपा के समीर उरांव और कांग्रेस के धीरज साहू को सफलता हाथ लगी।

www.vidrohi24.com ने पूर्व में ही घोषणा कर दिया था कि भाजपा लाख तिकड़म भिड़ा ले, यहां से कांग्रेस के धीरज साहू की जीत पक्की है, और वहीं हुआ भी। भाजपा के लोगों ने अपने दूसरे उम्मीदवार को जीताने के लिए खूब चालें चली, झाविमो और वामपंथी विधायकों पर खूब डोरे डाले, जिसका प्रभाव भी दिखा, पर उसके बावजूद भाजपा वो नहीं कर सकी, जो पिछली बार कर दी थी, और महेश पोद्दार को राज्यसभा भिजवा दिया था।

भाजपा को लगा था कि इस बार भी वह तिकड़म भिड़ाकर, जोड़-तोड़कर प्रदीप सोंथालिया को विजय दिला देगी, पर भाजपा और उनके सीएम रघुवर दास का चाल धरा का धरा रह गया, कांग्रेस के धीरज साहू ने राज्यसभा में अपनी जीत सुनिश्चित कर ली।

कांग्रेस के धीरज साहू की जीत ने भाजपा और यहां के सीएम रघुवर दास को गजब का झटका दिया हैं, वे सपने भी नहीं सोचे होंगे कि प्रदीप सौंथालिया चुनाव हार जायेगे, क्योंकि अपनी ओर से सीएम रघुवर दास और भाजपाइयों ने जीत की अच्छी व्यवस्था कर ली थी, खूब विपक्षियों के उपर डोरे डाले, साम-दाम-दंड-भेद का भय दिखाया, पर उसके बावजूद मिली हार ने भाजपाइयों ही नहीं, बल्कि सीएम रघुवर दास के होश ठिकाने लगा दिये।

राज्यसभा में मिली भाजपा की करारी हार, अब कांग्रेस, झामुमो, झाविमो के लिए नगर निकाय की चुनाव में टॉनिक का काम करेगा, और दुगने उत्साह से इनके कार्यकर्ता अपने प्रत्याशियों को जीताने में लग जायेंगे। 

Krishna Bihari Mishra

Next Post

हेमन्त सोरेन की बल्ले-बल्ले, रांची से दिल्ली तक हेमन्त सोरेन के चर्चे ही चर्चे

Sat Mar 24 , 2018
झारखण्ड में कल संपन्न हुए राज्यसभा चुनाव ने एक बात स्पष्ट कर दिया कि राज्य में राजनीतिक प्रबंधन तथा अपने कुनबे को पूर्णतः अनुशासित रखने और जनता के बीच एक बेहतर राजनीतिक विकल्प देने के विषय पर हेमन्त सोरेन फिलहाल सभी राजनीतिक दलों में बीस सिद्ध हुए हैं, क्योंकि जो स्थितियां थी, वहां से कांग्रेस पार्टी को जीत दिलाना सामान्य बात नहीं थी,

Breaking News